--Advertisement--

मोदी और मैक्रों के लिए फूलों से सजा है पूरा अस्सी घाट, ऐसा है नजारा

नरेंद्र मोदी फ्रांस के प्रेसिडेंट के साथ आएंगे अस्सी घाट, बैठेंगे पुनपुन बोट में।

Danik Bhaskar | Mar 12, 2018, 01:31 PM IST

वाराणसी. पीएम नरेंद्र मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति ने प्रदेश सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ नौका विहार का आनंद लिया। यह विजिट अनाउंस होने के साथ ही यह तो तय था कि इमैनुअल मैक्रों गंगा के किनारे आएंगे, बोट डिप्लोमेसी की खबरें भी तेज थीं, लेकिन वे दो लग्जरी बोट रिजेक्ट कर एक साधारण से बजड़े पर बैठेंगे, यह उम्मीद कम थी।

20 मिनट तक रहे बजड़े पर, वाइफ नहीं आईं साथ

- फ्रांसीसी प्रेसिडेंट इमैनुअल मैक्रों मोदी और योगी के साथ जैसे ही अस्सी घाट पहुंचे, वहां उनका स्वागत 101 बटुकों ने मंत्रोच्चारण के साथ किया।
- यह वीवीआईपी तिकड़ी लगभग 20 मिनट तक बजड़े पर रही। इस नौका विहार के दौरान उनकी वाइफ ब्रिजेट मैक्रों कहीं नजर नहीं आईं।
- नौका विहार अस्सी घाट से दशाश्वमेध घाट तक चला। इस दौरान मैक्रों और मोदी घाट पर उन्हें देखने उमड़ी भीड़ की तरफ हाथ हिलाते रहे।
- घाट पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी जारी रहे। एक तरफ कल्चरल डांस परफॉर्मेंस हुई, तो दूसरी तरफ अलग-अलग वाद्य यंत्र बजाए गए।

सिक्योरिटी रीजन्स से रिजेक्ट की थी 2 करोड़ की हाउसबोट

- शुरुआती कार्यक्रम के मुताबिक मैक्रों और मोदी को दो मंजिला फुली एयरकंडीशन्ड हाऊसबोट 'कैलाश' पर सफर करना था। इस लग्जरी बोट की कीमत 2 करोड़ रुपए है।
- इस खास लग्जरी बोट को मेराज ग्रुप एण्ड कंपनी ने अक्टूबर 2017 में संत मोरारी बापू के लिए बनवाया था। प्रेजेंट टाइम में इसकी जिम्मेदारी सतुआ बाबा आश्रम के महामंडलेश्वर संतोष दास के पास है।
- इस बोट को लगभग 6 महीने में श्रीलंका और तमिलनाडु से आए 14 कारीगरों ने फाइबर और लकड़ी से बनाया था। केरल से आयी लकड़ी का इस्तेमाल किया गया।
- टॉप फ्लोर पर बड़ा महराजा झूला लगाया गया, जहां बैठकर मोदी और मैक्रों वार्तालाप करते। हालांकि ऐसा हुआ नहीं।
- फ्रांसीसी अधिकारियों ने सुरक्षा कारणों से इस बोट को रिजेक्ट किया था।

25 लाख का है बजड़ा, अंबानी कर चुके हैं सवारी

- इमैनुअल मैक्रों और नरेंद्र मोदी ने जिस बजड़े में बैठकर नौका विहार किया, उसकी कीमत लगभग 20-25 लाख रुपए होती है।

- इससे पहले मुकेश अंबानी अपनी वाइफ नीता के बर्थडे पर जब वाराणसी आए थे, तब भी उन्होंने ऐसे ही एक बजड़े की सवारी की थी।

- इस बजड़े पर आम टूरिस्ट 35-40 हजार रुपए में बुकिंग कर सकते हैं। बुकिंग ग्रुप में होती है, सिंगल नहीं।

फिर पटना से आई पुनपुन, वो भी खड़ी रही

- कैलाश के कैंसिल होने के बाद सवारी के लिए बिहार के पटना से स्पेशल क्रूज बोट 'पुनपुन' को मंगवाया गया। इस क्रूज में एक बड़ा ड्रॉइंग रूम, हॉल, एक बेडरूम और बायो टॉयलेट है।
- इसके निचले हिस्से में इंजन और स्टोर रूम के अलावा एक किचन मौजूद है।
- क्रूज की मैक्सिम स्पीड 35 किलोमीटर प्रतिघंटा है।

- यह भारत सरकार द्वारा संचालित क्रूज है, जिसमें रडार जैसे सारी हाइटेक फैसिलिटीज मौजूद हैं। कीमत कैलाश से ज्यादा आंकी जाती है।