Hindi News »Uttar Pradesh »Varanasi» Brother And Sister Wrestling

रिंग में उतरे भाई-बहन, दादा ने इसलिए तोड़ दी 25 साल पुरानी परंपरा

वाराणसी. यहां स्व. अमरनाथ मिश्रा के स्मृति में 3 दिन तक चलने वाले रेसलिंग कॉम्पटीशन की शुरुआत मंगलवार को हुई।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 28, 2017, 04:21 PM IST

    • 25 साल पहले नागपंचमी पर इस कॉम्पटीशन का आयोजन किया गया था।

      वाराणसी. यहां स्व. अमरनाथ मिश्रा के स्मृति में 3 दिन तक चलने वाले रेसलिंग कॉम्पटीशन की शुरुआत मंगलवार को अस्सी घाट पर हुई। अखाड़ा गोस्वामी तुलसीदास की ओर से 28 से 30 नवंबर के बीच पूर्वांचल से महिला और पुरुष रेसलर यहां पहुंचेंगे। पुरुष रेसलरों की कैटेगरी 57 से 125 किलोग्राम और लड़कियों की 48 से 75 किलोग्राम रखी गई है।

      25 साल में पहली बार तोड़ी गई परंपरा

      - आयोजक कल्लू पहलवान ने बताया, ''मंगलवार को कम्पटीशन की शुरुआत हुई। इसमें एक कैटेगरी लड़का और लड़कियों के बीच रेसलिंग का रखा गया। लेकिन कोई लड़का और लड़की साथ लड़ने को तैयार नहीं हुए।''

      - ''फिर मैंने सगे भाई-बहन मेरे पौत्र-पौत्री करन और खुशी को मैदान में उतार दिया। 25 साल पहले नागपंचमी पर इस कॉम्पटीशन की शुरुआत की गई थी। लेकिन आज पहली बार लड़का-लड़की मैदान में आमने-सामने उतरे।''

      - ''मेरा मानना है कि लड़कियां लड़कों से कमजोर नहीं होतीं। सिर्फ उन्हें सही सपोर्ट और डाइट मिलना चाहिए। आज मैंने रूढ़िवादी परंपरा को तोड़ते हुए अपने पौत्र और पौत्री को लड़ाया, जिसमे मेरी पौत्री खुशी ने बाजी मारी।''

      - खुशी ने बताया, ''मैं तो किसी के भी साथ लड़ने को तैयार थी। लेकिन जब कोई मुझसे लड़ने नहीं आया, तो दादा ने भाई को रिंग में उतार दिया।''

      - गोस्वामी तुलसीदास अखाड़े और संकटमोचन मंदिर के महंत प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र ने बताया, ''इस कॉम्पटीशन में 'बनारस कुमार' और 'बनारस केशरी' होंगे। बनारस केशरी के विजेता को मोटरसाइकल, तो कुमार के विजेता को साइकिल और चांदी का गदा दिया जाएगा।''

    • रिंग में उतरे भाई-बहन, दादा ने इसलिए तोड़ दी 25 साल पुरानी परंपरा
      +6और स्लाइड देखें
    • रिंग में उतरे भाई-बहन, दादा ने इसलिए तोड़ दी 25 साल पुरानी परंपरा
      +6और स्लाइड देखें
    • रिंग में उतरे भाई-बहन, दादा ने इसलिए तोड़ दी 25 साल पुरानी परंपरा
      +6और स्लाइड देखें
    • रिंग में उतरे भाई-बहन, दादा ने इसलिए तोड़ दी 25 साल पुरानी परंपरा
      +6और स्लाइड देखें
    • रिंग में उतरे भाई-बहन, दादा ने इसलिए तोड़ दी 25 साल पुरानी परंपरा
      +6और स्लाइड देखें
    • रिंग में उतरे भाई-बहन, दादा ने इसलिए तोड़ दी 25 साल पुरानी परंपरा
      +6और स्लाइड देखें
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Varanasi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Brother And Sister Wrestling
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From Varanasi

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×