Hindi News »Uttar Pradesh »Varanasi» Women Unique Panchayat In Varanasi

लड़कियों की तस्करी,वेश्यावृत्ति को लेकर महिलाओं ने लगाई अनोखी पंचायत

उनकी मांग थी कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो दिल्ली उनका अगला पड़ाव होगा।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Feb 24, 2014, 11:13 AM IST

  • वाराणसी.दिल्ली की सड़क पर देश की बहादुर बेटी दामिनी के साथ हुई घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया था। इस घटना के बाद भी देश भर में सैकड़ों बलात्कार की घटनाएं होती रहती हैं। ह्यूमन ट्रैफिकिंग के भी कई मामले सामने आते रहते हैं। चोरी-छिपे मुंबई से लेकर पूर्वांचल के कई जिलों में बाल वेश्यावृत्ति की भी बाते सामने आती रहती हैं। कई रेप पीड़िताओं और उनके परिवार वालों को इंसाफ नहीं नही मिलने की बातें भी सामने आती रहती हैं।
    पुलिस के इसी रवैये से नाराज हजारों महिलाओं ने बेनिया बाग़ के ऐतिहासिक मैदान में पंचायत बुलाई थी। इस कार्यक्रम का आयोजन गुड़िया संस्थान की ओर से किया गया था। जिसमें आजमगढ़, मऊ, मिर्जापुर, सोनभद्र, गाज़ीपुर, जौनपुर समेत कई जिलों से पीड़ित परिवारों ने भाग लिया, जिनकी आज तक कोई सुनवाई नहीं हुई है।
    ऐसे ही सैकड़ों मामलों को लेकर महिलाओं ने पंचायत बुलाई थी। उनकी मांग थी कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो दिल्ली उनका अगला पड़ाव होगा।
    आगे की स्लाइड में क्लिक कर पढ़ें महिलाओं ने बताया अपना दर्द...
  • शनिवार को लगातार बारिश के बावजूद भी बेनियाबाग के मैदान में हजारों महिलाएं इंसाफ के लिए इकट्ठी हुईं। मऊ जिले से आई शहनवाज बानो (बदला हुआ नाम ) ने बताया कि सात महीने पहले उनकी नाबालिक भतीजी को गांव के ही कुछ लोग बहला-फुसलाकर मुंबई लेकर भाग गए थे। उन्होंने बताया कि कई दिन घूमने के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज तो कर लिया, मगर बेटी आज तक नहीं मिली।
    गाज़ीपुर के सैदपुर गांव से आई विमला (बदला हुआ नाम) ने बताया कि उनकी बेटी को गांव के दबंग लोग अगवाकर तीन महीने पहले ले गए थे। पता करने पर मालूम हुआ कि लोग बेटी को मुंबई लेकर गए हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस हम लोगों से ही कहती है कि पता चले तब आकर बताना।
    सोनभद्र की रज्जो (बदला हुआ नाम ) ने बताया कि उनकी चौदह साल की बेटी को गायब हुए तीन महीने गुजर गए, लेकिन पुलिस सुनवाई को तैयार ही नहीं है, जबकि गांव के ही एक युवक ने उसको दिल्ली ले जाकर बेच दिया।
    ऐसे ही सैकड़ों मामलों को लेकर महिलाओं ने पंचायत बुलाई थी। उनकी मांग थी कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो दिल्ली उनका अगला पड़ाव होगा।
    आगे की स्लाइड में क्लिक कर पढ़ें क्या कहना है गुड़िया संस्थान के प्रमुख का...
  • गुड़िया संस्थान के प्रमुख अजीत ने बताया कि सारे केसों को इकट्ठा किया जा रहा है। इसमें सबसे ज्यादा मामले मानव तस्करी से जुड़े हुए हैं। ग्रामीण क्षेत्रों की लड़कियों को बड़े शहरों में बेच दिया जाता है। उन्होंने बताया कि सौ से ऊपर रेप और तस्करी में इंसाफ न मिलने के मामलों का विवरण इकट्ठा किया जा चुका है।
    अजीत ने बताया कि करीब दस हजार महिलाओं को कार्यक्रम में भाग लेना था। बारिश की वजह से तीन हजार से ऊपर महिलाएं अपनी समस्याओं के साथ यहां पहुंची थीं। पंचायत में रेप के कई ऐसे मामले सामने आए, जिनमें वर्षों बीत जाने के बाद भी इंसाफ नहीं मिला। बाल वेश्यावृत्ति के लिए लड़कियां गरीब घरों से शादी के बहाने भी खरीदी जा रही हैं।
    उन्होंने कहा कि अगली तैयारी इंसाफ के लिए लखनऊ और दिल्ली की है। देश की राजधानी की छोटी सी घटना बड़ी बन जाती है और जिनको वर्षों से इंसाफ नहीं मिला उनकी सुनवाई कौन करेगा।
    आगे की स्लाइड्स मे क्लिक कर देखें महिला की अनोखी पंचायत की सिर्फ तस्वीरें...
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Varanasi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×