ग्राउंड रिपोर्ट / अयोध्या पर फैसले के बाद काशी-मथुरा में घाटों-मंदिरों में भीड़, तिरंगे के साथ निकला बारावफात का जुलूस



विश्वनाथ मंदिर के पास हाथों में तिरंगा लिए युवक। विश्वनाथ मंदिर के पास हाथों में तिरंगा लिए युवक।
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
X
विश्वनाथ मंदिर के पास हाथों में तिरंगा लिए युवक।विश्वनाथ मंदिर के पास हाथों में तिरंगा लिए युवक।
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh
ayodhya verdict ground report kashi mathura uttar pradesh

  • काशी के विश्वनाथ मंदिर और मथुरा के मंदिरों में श्रद्धालुओं की संख्या पर कोई असर नहीं पड़ा
  • बारा वफात के जुलूस में मंदिर के पास एंबुलेंस फंसी तो मुस्लिम युवकों ने रास्ता दिया
  • काशी-मथुरा में सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी, बाजारों और सड़कों पर तनाव नहीं नजर आया 

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2019, 07:16 PM IST

वाराणसी/मथुरा. 134 साल पुराने अयोध्या विवाद पर फैसला आने के दूसरे दिन धार्मिक नगरों काशी और मथुरा में हालात सामान्य रहे। यहां सुरक्षा के मद्देनजर बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात रहा, लेकिन सड़कों और बाजारों में रौनक बरकरार रही। तनाव की स्थिति नहीं नजर आई। दोनों ही शहरों में बारा वफात का जुलूस तिरंगे के साथ निकाला गया। काशी में विश्वनाथ मंदिर और घाटों में श्रद्धालु पहुंचे। मथुरा में भी यही स्थिति रही। 

काशी में बारा वफात के जुलूस के दौरान विश्वनाथ मंदिर के पास एक एंबुलेंस फंस गई। इस दौरान मुस्लिम युवकों ने इसे रास्ता दिया।

 

वाराणसी
1. काशी विश्वनाथ मंदिर:
श्रद्धालु बाबा भोलेनाथ के दर्शन के लिए पहुंचे। रविवार होने के चलते मंदिर की गली में अधिकांश दुकानें बंद रहीं।
2. काल भैरव मंदिर: श्रद्धालुओं की संख्या आम दिनों से ज्यादा रही। फूल माला, प्रसाद, साड़ियों की ज्यादातर दुकानें खुली मिलीं। काल भैरव को काशी का कोतवाल कहा जाता है।

3. गंगा घाट: प्रदोष होने से रविवार को व्रत और स्नान करने वाले श्रद्धालु गंगा के विभिन्न घाटों पर पहुंचे। अन्य जिलों से आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या जरूर कम थी। लोगों ने घाट पर पूजा-अर्चना भी की।


मथुरा
4. श्रीकृष्ण जन्मभूमि: मथुरा में शनिवार और रविवार को आमतौर पर भीड़ रहती है। अयोध्या पर फैसले के बावजूद यहां आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या पर कोई असर नहीं पड़ा। सुबह से ही श्रीकृष्ण की जन्मस्थली पर दर्शन करने वालों की भीड़ लगी रही।

5. बांके बिहारी: वृंदावन में बांके बिहारी समेत तमाम मंदिरों में श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहा। सुबह श्रृंगार आरती के समय बांके बिहारी मंदिर परिसर में पैर रखने के लिए भी जगह नहीं थी। आरती के बाद यहां बांके बिहारी के जयकारे गूंजे। दोपहर में शयन आरती के समय भी यही स्थिति रही।

6. गोवर्धन: एकादशी से पूर्णिमा के दौरान गिरिराज गोवर्धन की परिक्रमा का विशेष महत्व होता है। शुक्रवार को एकादशी थी और मंगलवार को पूर्णिमा है। अयोध्या केस का शनिवार को फैसला आने से पहले से ही गिरिराज की परिक्रमा करने के लिए लोग पहुंचने लगे थे, यह क्रम रविवार को भी जारी रहा।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना