वाराणसी / सावन महीने के दौरान काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन की तैयारियां परखने पहुंचे डीजीपी एवं मुख्य सचिव



DGP om prakash singh and chief secretary anoop chandra panadey reached lucknow
X
DGP om prakash singh and chief secretary anoop chandra panadey reached lucknow

  • मंदिर के आसपास कराई जा रही बैरिकेडिंग
  • श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे तीन द्वार 
  • मंदिर के आसपा सुरक्षा इंतजामों का जायजा लेने पहुंचे सबे के वरिष्ठ अधिकारी

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2019, 12:12 PM IST

वाराणसी. सावन के पवित्र महीने में यहां काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन करने आने वाले लाखों श्रद्धालुओं को देखते हुए पुलिस और प्रशासनिक अमले ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। इन तैयारियों का जायजा लेने के लिए उप्र के पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह और मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय शुक्रवार सुबह यहां पहुंचे। इसको लेकर शाम तक बैठकों का दौर चलेगा। 

 

महादेव की नगरी काशी में सावन का अपना ही महत्व है। कंधे पर कांवर लिए दूर-दूर से भक्त काशी विश्वनाथ का दर्शन करने और जल चढ़ाने आते हैं। सावन में बाबा विश्वनाथ के दर्शन की तैयारियों के लिए गुरुवार को भी जिले के प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक हुई। निर्णय लिया गया कि भक्त चार में से तीन द्वार से बाबा के दर्शन करेंगे। ये द्वार पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी हैं, जबकि चौथे उत्तरी द्वार से सुगम दर्शन और वीआईपी को प्रवेश दिया जाएगा। 

 

अधिकारियों के मुताबिक मंदिरों के आस पास मजबूत बैरिकेडिंग कराई जाएगी तथा प्रयागराज से वाराणसी रूट पर डायवर्जन के दौरान बड़ी वाहनों के पार्किंग व्यवस्था किए जाने का इंतजाम किया गया है। इस दौरान बैरिकेडिंग के प्रत्येक 100 मीटर पर श्रद्धालुओं के लिए पानी की व्यवस्था कागज के गिलास में दिया जाएगा।

 

मंदिर परिसर एवं आसपास 24 घंटे चाक चौबंद सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने के निर्देश दिए गए हैं। 8-8 घंटे शिफ्ट में ड्यूटी गोदौलिया, मैदागिन, चितरंजन पार्क सहित मंदिर के पास एंबुलेंस चिकित्सक दवाओं की उपलब्धता किया जाने का प्रबंध भी किया जाएगा।

 

इस वर्ष श्रावण मास 17 जुलाई 2019 से आरंभ होकर 15 अगस्त 2019 को समाप्त होगा। श्रावण मास में श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में श्रावण मास के प्रथम सोमवार 22 जुलाई 2019 को भगवान शंकर का श्रृंगार, श्रावण मास के द्वितीय सोमवार 29 जुलाई को भगवान शंकर व मां पार्वती का श्रृंगार, श्रावण मास के तृतीय सोमवार व नागपंचमी 5 अगस्त 2019 को अर्धनारीश्वर का श्रृंगार, श्रावण मास के चतुर्थ सोमवार 12 अगस्त 2019 को रुद्राक्ष से श्रृंगार तथा 15 अगस्त 2019 रक्षाबंधन, पूर्णिमा को शिव-पार्वती एवं गणेश जी की चल प्रतिमाओं का झूला श्रृंगार होगा।

काशी

 

COMMENT