पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मंदिर कॉरीडोर; 39 हजार वर्गमीटर में तैयार होगा काशी विश्वनाथ धाम, चार चरणों में होगा काम पूरा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • 18 हजार वर्गमीटर जमीन से हटाया जा चुका है मलबा 
  • पहले तैयार होगा गंगा से मंदिर का रास्ता
  • काशी मंदिर धाम को मिलेगी भव्यता,श्रद्धालुओं को दर्शन करने में होगी आसानी

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट श्री काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण काम भूमि पूजन के साथ शुरू हो गया। परियोजना के लिए 18 हजार वर्गमीटर जमीन का समतलीकरण किया जा चुका है। सबसे पहले गंगा से काशी विश्वनाथ मंदिर के रास्ते को भव्य स्वरूप दिया जाएगा।

 

39 हजार वर्गमीटर में तैयार होने वाले काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट का मॉडल है। पहले चरण में मंदिर परिसर और दूसरे चरण में गंगा घाट क्षेत्र को विकसित किया जाएगा। तीसरे चरण का काम 8 मार्च यानी आज से शुरू होगा। इसमें गंगा तट पर स्थित नेपाली मंदिर से लेकर ललिता घाट, जलासेन घाट और मणिकर्णिका घाट के आगे सिंधिया घाट तक का हिस्सा शामिल है।

 

एक किलोमीटर लंबे इस क्षेत्र से श्रद्धालु स्नान करके आसानी से मंदिर तक दर्शन पूजन करने के लिए जा सकेंगे। मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल ने बताया कि भूमि पूजन के साथ कॉरिडोर का काम शुरू हो जाएगा।

 

कॉरिडोर में चमक बिखेरेंगे प्राचीन मंदिर : काशी विश्वनाथ मंदिर धाम के लिए जिन मकानों को खरीदने के बाद ध्वस्तीकरण का कार्य चल रहा है,उसमें से निकल रहे प्राचीन मंदिरों व विग्रहों को संरक्षित किया जा रहा है। काशी विश्‍वनाथ मंदिर के मुख्‍य कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह का कहना है कि प्राचीन मंदिरों का यह संकुल अपने आप में अनूठी छटा बिखेरेगा। 

 

काशी विश्वनाथ मंदिर धाम को विकसित करने के लिए 296 इमारतों की पहचान की गई, जिनका अधिग्रहण करके ध्वस्तीकरण किए जाने का काम चल रहा है। अब तक 182 भवनों को खरीदने के साथ 40 इमारतों को ध्वस्त किया गया। बाकी 112 इमारतों की अधिग्रहण और खरीद प्रक्रिया जारी है। 

तीर्थयात्रियों को होगी सहूलियत: विश्वनाथ मंदिर धाम बन जाने के बाद तीर्थयात्रियों को संकरी गलियों के सहारे विश्वनाथ मंदिर पहुंचने से मुक्ति मिल जाएगी। तीर्थयात्री सीधे मणिकर्णिकाघाट,जलासेन व ललिताघाट से काशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचने सकेंगे। दिव्यांग तीर्थयात्री व वीआईपी ही छत्ताद्वार से प्रवेश करेंगे। 

योगी सरकार ने दी 600 करोड़ रुपए की मंजूरी: दिसंबर 2017 में इस परियोजना के लिए 600 करोड़ रूपए की मंजूरी दी है। अब तक इसके लिए काशी विश्वनाथ मंदिर प्रशासन को 183 करोड़ रुपए आवंटित किए जा चुके हैं। इस योजना के तहत जो दुकानदार व किराएदार आ रहे हैं,उनके पुनर्वास की भी योजना है। 

 

काशी विश्वनाथ धाम परियोजना; कुल क्षेत्रफल -39310 वर्गमीटर, क्रय भवनों का क्षेत्रफल -21505.92 वर्गमीटर, ध्वस्तीकरण क्षेत्रफल -10824 वर्गमीटर, मंदिर और घाटों का क्षेत्रफल - 6980 वर्गमीटर, भवनों के क्रय में खर्च -290 करोड़, क्रय योग्य संपत्तियां -270, क्रय की गई संपत्तियां -234, प्राचीन मंदिरों की मणिमाला -31 है। 23 संपत्तियों में 20 का सेवइतनामा मंदिर न्यास के पक्ष में हो गया है।

 

 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

और पढ़ें