मोदी बेटी की शादी का न्योता देने वाले ट्रॉलीमैन से मिले, स्वच्छ भारत अभियान में योगदान के लिए तारीफ की

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी में मोदी ने मंगल केवट से मुलाकात की। - Dainik Bhaskar
वाराणसी में मोदी ने मंगल केवट से मुलाकात की।
  • टॉलीमैन मंगल केवट प्रधानमंत्री मोदी से प्रेरित होकर हर दिन गंगा किनारे सफाई करते हैं
  • बेटी की शादी के निमंत्रण के जवाब में मोदी ने मंगल केवट को शुभकामना संदेश भेजा था

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटी की शादी का आमंत्रण भेजने वाले ट्रॉलीमैन मंगल केवट से काशी दौरे पर मुलाकात की। मोदी रविवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी गए थे। प्रधानमंत्री ने मंगल से उनके परिवार का हाल-चाल पूछने के बाद स्वच्छ भारत अभियान में उनके योगदान की सराहना की। मंगल हाथ से धकेली जाने वाली ट्रॉली लेकर हर सुबह गंगा घाट की सफाई करते हैं।


मंगल ने मोदी से बेटी की शादी में आने का आग्रह किया था। आमंत्रण मिलने के बाद मोदी ने उन्हें शुभकामनाएं भेजीं। इससे उत्साहित मंगल ने कहा, "हमने प्रधानमंत्री को पहला निमंत्रण भेजा था। मैंने खुद दिल्ली जाकर इसे उनके दफ्तर में कार्ड दिया था। 8 फरवरी को हमें प्रधानमंत्री का बधाई पत्र मिला। मेरा परिवार इससे बेहद खुश है।" 

ये भी पढ़े
रिक्शा चालक ने प्रधानमंत्री मोदी को बेटी की शादी का निमंत्रण भेजा; जवाब में बधाई संदेश मिला

मुलाकात की कहानी, मंगल की जुबानी...
मंगल ने बताया- पीएमओ ने मुझे रविवार को तीन बजे दीनदयाल संकुल पहुंचने के लिए कहा था। मुझे जिस कमरे में ठहराया गया, वहां कड़ी सुरक्षा थी। केवल एसपीजी मौजूद थी। अचानक मोदी सामने आए और हाथ जोड़कर अभिवादन कर साथ बिठाया। 4 से 5 मिनट बातचीत की। मोदी ने कहा- मंगल जी कैसे हैं आप? बिटिया दामाद को नहीं लाए? शादी अच्छे से बीत गई न? उनको मेरा ढेरों आशीर्वाद। फिर पीएम मोदी ने कहा- मुझे मालूम है, आप देश की सेवा करते हैं, ऐसे ही करते रहें। मंगल ने कहा- मैं मोदी भक्त बनकर रहना चाहता हूं, तो प्रधानमंत्री ने कहा- आप देश के लिए कार्य कर रहे हैं, करते रहें। हम आपके साथ हैं। पीएम ने दामाद के बारे में भी पूछा तो बताया कि वह नौगढ़ तहसील में ऑपरेटर है। मोदी ने कहा- सब खुश रहें।

लोग मुझे पागल समझते थे, अब मिलने आ रहे 
डोमरी गांव में रहने वाले मंगल केवट प्रधानमंत्री से प्रेरित होकर हर दिन गंगा घाट की सफाई करते हैं। स्थानीय लोग उन्हें ट्रालीमैन कहते हैं। मंगल कहा- इतनी व्यस्तता के बाद भी मोदीजी ने आशीर्वाद वाली चिठ्ठी भेजकर हम लोगों को अपना बना लिया। इसके बाद मुझसे मुलाकात भी की। हर दिन गंगा किनारे सफाई करने पर लोग मुझे पागल समझते थे, अब वही लोग मुझसे मिलने आ रहे हैं। मोदीजी ने मेरी बेटी को आशीर्वाद दिया, यह मेरे लिए सबसे बड़ा तोहफा है।