PM मोदी को लोकसभा चुनाव में टक्कर देंगे 111 किसान, बोले- नामांकन के लिए 300 टिकट हो चुकीं हैं बुक, ये बताई वजह

dainikbhaskar.com

Mar 23, 2019, 07:38 PM IST

उत्तर प्रदेश न्यूज : सिर्फ BJP से ये वादा चाहते हैं किसान

लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। तमिलनाडु के 111 किसानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव मैदान में उतरने का फैसला किया है। ये किसान मांगों की अनदेखी से नाराज हैं। नेशनल साउथ इंडियन रिवर्स इंटर लिंकिंग फार्मर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष पी अय्याकन्नु ने कहा है कि भाजपा उनकी मांगों को अपने घोषणा पत्र में शामिल करे, ऐसा होता है तो 111 किसान नामांकन वापस ले लेंगे।

ये बताई फैसले की वजह

- किसान नेता पी अय्याकन्नु ने शनिवार को ऐलान करते हुए उत्तर प्रदेश से चुनाव लड़ने के फैसले की वजह भी बताई।
- कहा- हम चाहते हैं भाजपा 'फसल उत्पादों के लिए मुनाफे वाली कीमत' और दूसरी मांगों को अपने घोषणा पत्र में शामिल करे। यदि ऐसा नहीं हुआ तो चुनाव जरूर लड़ेंगे और 24 अप्रैल को नामांकन भरेंगे।
- पूछने पर कि वे ये मांग सिर्फ भाजपा से क्यों कर रहे हैं, अन्य पार्टियों से क्यों नहीं? इस पर कहा- भाजपा अब भी सत्ताधारी पार्टी और मोदी प्रधानमंत्री हैं।
- हम भाजपा या पीएम मोदी के खिलाफ नहीं हैं। सत्ता में आने से पहले मोदी ने मांगें पूरी करने का वादा किया था और हमारी आय दोगुनी करने का आश्वासन दिया था।
- तमिलनाडु से भाजपा के एकमात्र सांसद पौन राधाकृष्णन भी यदि वादा कर दें तो हम अपने फैसले पर फिर से विचार कर सकते हैं। वाराणसी सीट पर सातवें चरण में 19 मई को वोटिंग होनी है। यहां नामांकन 22 अप्रैल से 29 अप्रैल के बीच भरे जाएंगे।

फैसले को किसानों का समर्थन

- उन्होंने कहा कि हमारे फैसले का किसानों और अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने समर्थन किया है।
- द्रमुक और अम्मा मक्कल मुन्नेत्र कड़गम जैसी पार्टियों ने भी घोषणा-पत्र में पूरी कर्जमाफी का वादा शामिल करने का आश्वासन दिया है।
- उन्होंने कहा- 300 किसानों के वाराणसी जाने के टिकट बुक हो चुके हैं। तिरुवन्नमलई और तिरुचिरापल्ली सहित अन्य जिलों के किसान वाराणसी पहुंचेंगे।
- बता दें, अय्याकन्नु ने साल 2017 में 100 से ज्यादा दिन तक दिल्ली में किसानों के प्रदर्शन की अगुवाई की थी।

X
COMMENT