--Advertisement--

अपराध / वाराणसी में गैंगवार, क्रॉस फायरिंग में 50 हजार के इनामी सहित 2 की मौत



कानपुर के चर्चित अपराधी शानू ओलंगा समेत आधा दर्जन से ज्यादा हत्याओं में रईस शामिल था। कानपुर के चर्चित अपराधी शानू ओलंगा समेत आधा दर्जन से ज्यादा हत्याओं में रईस शामिल था।
  • गैंगवार में मारे गए रईस ने भाई की हत्या के बाद गैंग बनाया था
  • रईस और राकेश कभी एक ही गैंग के सदस्य थे, बाद में दोनों में दुश्मनी हो गई
Danik Bhaskar | Sep 15, 2018, 01:11 AM IST

वाराणसी. दशाश्वमेध थाना अंतर्गत पातालेश्वर इलाके में गैंगवार में गोली लगने से दो अपराधी रईस बनारसी और राकेश अग्रहरी की मौत हो गयी। रईस बनारसी कानपुर, इलाहाबाद बनारस समेत कई अन्य जगहों पर संगीन वारदातों को अंजाम देकर फरार था। पुलिस ने उसके ऊपर 50 हजार का इनाम भी रखा था। शुक्रवार को यह गैंगवार व्यस्ततम इलाके में हुई। एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह ने बताया दो गैंग के बीच क्रास फायरिंग में दोनों की मौत हुई है।

 

घायल रईस को साथी बाइक पर लेकर भागे: रईस जब क्रॉस फायरिंग में घायल हो गया तो उसके साथी उसे बाइक पर लादकर शहर में भाग निकले और एक मस्जिद के बाहर घायल अवस्था में छोड़कर भाग गए। हॉस्पिटल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। कानपुर के चर्चित अपराधी शानू ओलंगा समेत आधा दर्जन से ज्यादा हत्याओं में रईस शामिल था। अक्टूबर 2015 में रईस को बनारस के जिला जेल से बरेली शिफ्ट किया जा रहा था। इस दौरान शाजहांपुर के पास वो वैन से कूदकर फरार हो गया था। 2007 में मलदहिया पेट्रोल पंप मालिक लाहिड़ी की गोली मारकर तीन लाख लूट लिए थे। बाद में पकड़े जाने पर इसके पास से वर्दी बरामद हुई थी। 

 

कभी रईस और राकेश दोस्त हुआ करते थे: बताया जाता है कि भाई की हत्या के बाद रईस ने कई दूसरे अपराधियों और राकेश के साथ मिलकर गैंग बनाया था। बाद में वर्चस्व को लेकर रईस और राकेश दोनों अलग हो गए। राकेश ने मई 2017 में संपत्ति विवाद में सौतेली मां मीरा अग्रहरी को गोली मारकर घायल कर दिया था। राकेश के पिता परचून की दूकान चलाते हैं। 

 

क्या कहना है पुलिस का: एसएसपी आनंद कुलकर्णी का कहना है कि मरने वालों में 50 हजार का इनामी रईस बनारसी भी है लेकिन अभी उसकी पहचान की जा रही है। उसके परिजनों को भी बुलाया गया है।  

--Advertisement--