वाराणसी / चार बच्चों ने कबाड़ से बनाया चंद्रयान-3 का विक्रम लैंडर व छह एस्ट्रोनॉट मॉडल, हवा में मूव भी करेंगे



up news varanasi four children made Chandrayaan-3 Vikram Lander and six astronauts from junk
up news varanasi four children made Chandrayaan-3 Vikram Lander and six astronauts from junk
up news varanasi four children made Chandrayaan-3 Vikram Lander and six astronauts from junk
up news varanasi four children made Chandrayaan-3 Vikram Lander and six astronauts from junk
X
up news varanasi four children made Chandrayaan-3 Vikram Lander and six astronauts from junk
up news varanasi four children made Chandrayaan-3 Vikram Lander and six astronauts from junk
up news varanasi four children made Chandrayaan-3 Vikram Lander and six astronauts from junk
up news varanasi four children made Chandrayaan-3 Vikram Lander and six astronauts from junk

  • जैतपुरा में दुर्गा पूजा पंडाल को चंद्रयान 2 की थीम पर सजाया जा रहा
  • इसरो चीफ के सिवन भी दिखेगी झलक, कंप्यूटर ऑपरेट करते नजर आएंगे

Dainik Bhaskar

Oct 02, 2019, 05:07 PM IST

वाराणसी. इसरों के वैज्ञानिकों का चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर से भले ही अभी संपर्क न हो पाया हो, वाराणसी के एक परिवार के चार बच्चों व उनके दोस्तों ने मिशन 2021-22 चंद्रयान-3 के लिए विक्रम लैंडर और छह अंतरिक्ष यात्रियों के मॉडल बनाए हैं। यह सभी उपकरण घर की निष्प्रयोज्य लकड़ी, फोम, लोहा, खिलौने, मोबाइल, कपड़े, तार व पाइप से बनाया गया है। यह सभी उपकरण दुर्गा पूजा पंडाल के लिए आकर्षण का केंद्र बनेंगे। 

 

दैनिक भाष्कर ऐप प्लस ने इन उपकरणों के मॉडल को बनाने वाले जैतपुरा बागेश्वरी के रहने राजन जयसवाल के परिवार के 4 बच्चों और उनके दोस्तों से बात की। राजन ने बताया कि, देवी दुर्गा पूजा समिति का पंडाल को इस बार चंद्रयान -2 का रूप दिया जा रहा है। पिछले साल दुर्गा प्रतिमा बनाने वाला मुख्य कारीगर काम छोड़कर चला गया था तो इन्ही बच्चों ने मूर्ति बना डाली थी। पेश है रिपोर्ट- 

 

हवा में गतिशील रहेंगे एस्ट्रोनॉट
इस प्रोजेक्ट में कक्षा पांच से ग्रेजुएशन पास शामिल हैं। उन्हें मॉडल तैयार करने में दो माह समय लगा है। कक्षा 7 के पार्थ ने बताया कि हमारा प्रयास है कि एस्ट्रोनॉट 2 हम पंडाल के अंदर फिट करेंगे, जो हवा में मूवमेंट करेंगे। बाकी 4 बाहर मूवमेंट में रहेंगे। इसरो चीफ के सिवन का स्टेच्यू बाहर कंप्यूटर ऑपरेट करते दिखेंगे।

 

कक्षा 5 के शौर्य ने बताया कि घर की डांट से बचकर हम चारों भाइयों ने मिलकर बनाया है। जूतों को मैंने डिजाईन किया है। मां दुर्गा से प्रार्थना है कि, पीएम मोदी का सपना साकार हो। अर्थ ने इलेक्ट्रिकल वर्क को दिया अंजाम

 

रीयल फील देगा मॉडल
अर्थ ने बताया एक एस्ट्रोनॉट महिला भी है। बेटियां किसी से कम नहीं, कल्पना चावला की तरह पंडाल में एक महिला एस्ट्रोनॉट भी रहेगी। बॉडी पर सभी के स्क्रीन रहेगा, जो लाइटिंग के जरिए लोगों को रीयल फील देगा। ग्रेजुएशन कर रहे लक्ष्य ने इसे पूरे प्लान को तैयार किया है। लक्ष्य ने बताया हमने कोई तकनीकी पढ़ाई नहीं की है पर हमारी सोच देश के वैज्ञानिकों को समर्पित है। यूनिक सोच के जरिए हम समाज को एक मैसेज देना चाहते हैं कि घर का कबाड़ भी यूजफुल हो सकता है।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना