वाराणसी / धोती-कुर्ता पहनकर नंगे पांव लगाए चौके-छक्के, संस्कृत में मैच की कमेंट्री



धोती कुर्ता पहनकर नंगे पांव क्रिकेट खेलते खिलाड़ी। धोती कुर्ता पहनकर नंगे पांव क्रिकेट खेलते खिलाड़ी।
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
X
धोती कुर्ता पहनकर नंगे पांव क्रिकेट खेलते खिलाड़ी।धोती कुर्ता पहनकर नंगे पांव क्रिकेट खेलते खिलाड़ी।
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit
uttar pradesh unique cricket match dress code dhoti kurta and match commentary in sanskrit

  • संपूर्णानंद संस्कृत महाविद्यालय के ग्राउंड में एक दिवसीय वेद पाठी छात्रों के बीच मैच हुआ
  • सभी खिलाड़ी माथे पर त्रिपुंड लगाए थे, अंपायर भी धोती कुर्ता पहने थे

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 08:05 AM IST

वाराणसी.  संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में मंगलवार को अनोखा क्रिकेट मैच खेला गया। मैच में सभी खिलाड़ियों ने धोती-कुर्ता पहनकर बैटिंग-बॉलिंग की। खेल के दौरान संस्कृत में कॉमेंट्री ने लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

 

मौका था सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय के शास्त्रार्थ महाविद्यालय के डायमंड जुबली वर्ष में प्रवेश करने के दौरान संस्कृत क्रिकेट स्पर्धा का। विश्वविद्यालय के मैदान में खेले जा रहे इस क्रिकेट प्रतियोगिता के दौरान बॉल फेंकने जा रहे बटुक को देखकर कमेंटेटर ने कहा, 'अतीव सुंदरतया कंदुक प्रक्षेपणेन, दंड चालक: स्तब्धोजात।'

 


इस एक दिवसीय मैच में पांच महाविद्यालय की टीमें हिस्सा ले रही हैं। मैच आठ-आठ ओवर का खेला जाता है। विजेता और उप विजेता को शास्त्रार्थ महाविद्यालय की ओर से सर्टीफिकेट दिए जाते हैं। कार्यक्रम के संयोजक आचार्य गणेश दत्त शास्त्री ने बताया कि संस्कृत को बढ़ावा देने के लिए इस टूर्नामेंट का आयोजन किया जाता है। इस बार शास्त्रार्थ महाविद्यालय का 75वीं वर्षगांठ भी है। टूर्नामेंट का उद्घाटन इंटरनेशनल एथलीट नीलू मिश्रा ने किया। खिलाड़ी देवात्मा दूबे ने बताया कि मैंने संस्कृत से पीएचडी की है और कई सालों से क्रिकेट खेल रहा हूं। पारंपारिक परिधान में क्रिकेट अपने आप में अनोखा होता है। धोती में क्रिकेट खेलना काफी कठिन है। इसकी तैयारी काफी करनी पड़ती है।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना