हैप्पी बर्थ डे / सैंड आर्ट में बिग बी का सफर

Oct 11,2018 4:23 PM IST

बॉलीवुड डेस्क. 1968, दिल्ली से मुंबई के लिए निकली ट्रेन ने रफ़्तार पकड़ ली थी, साथ ही अपनी पिछली ज़िन्दगी को पीछे छोड़कर आगे बढ़ते एक नौजवान के सपनों ने भी। माँ-बाप,भाई और अपनी छोटी सी नौकरी को छोड़कर बड़े परदे के सपने आंखों में लिए ये शख्स अकेले ही निकल पड़ा। शायद कोई दीवाना ही यह करे। लेकिन अपने सपने के लिए सब कुछ दांव पर लगाने वाले ये दीवाने थे अमिताभ बच्चन। मुंबई में स्ट्रगल का दौर शुरू हुआ,बिग बी रोज सुबह चर्चगेट से अंधेरी की लोकल ट्रेन पकड़ते और कई फ़िल्मी स्टूडियो के चक्कर काटते। ये सिलसिला कई महीनों तक चलता रहा। लेकिन 1969 में एक दिन ऐसा आया जब उन्हें फिल्म सात हिंदुस्तानी में काम मिल गया,इसके बाद आई फिल्म आनंद में उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का अवॉर्ड तो दिला दिया लेकिन मुंबई में रहने की छत उन्हें नसीब नहीं हो पाई। स्ट्रगल के दिनों में बिग बी कई बार मरीन ड्राइव की बेंचों पर भी सोये लेकिन ये संघर्ष उन्हें उनके ख्वाब से दूर नहीं कर पाया और फिर उन्हें साथ मिला महमूद का जिन्होंने न सिर्फ मुंबई में बिग बी को रहने की जगह दी बल्कि बॉम्बे टू गोवा जैसी हिट फिल्म्स से उनके फ्लॉप करियर में प्राण फूंक दिए। इसी फिल्म के एक फाइट सीन में बिग बी को देखकर सलीम जावेद ने फिल्म जंजीर के लिए प्रकाश मेहरा को उनका नाम सजेस्ट किया और फिर क्या था इसी फिल्म ने बिग बी के करियर की दशा और दिशा दोनों बदल दी।शोले, दीवार, सत्ते पे सत्ता, कभी कभी, सिलसिला, कालिया और काला पत्थर जैसी एक के बाद एक आई हिट फिल्मों ने बिग बी को सबसे बेहतरीन एक्टर्स की लिस्ट में लाकर खड़ा कर दिया। अवॉर्ड्स की लाइन लग गई और फैन्स ने सिर आँखों पर बैठा लिया।कुली के दौरान लगी चोट से अमिताभ मौत के मुंह में जा पहुंचे लेकिन करोड़ों फैन्स की दुआ ही थी जो उन्हें इतने कठिन दौर से वापस खींच लायी मगर 90’s का दौर बिग बी के लिए फिर ढेर सारी मुश्किलें लेकर आया। शराबी, मर्द, गिरफ्तार और शहंशाह जैसी फ्लॉप फिल्मों से करियर पिट गया और फिर बिजनेस कंपनी ABCL से हुए घाटे ने उन्हें कर्ज में डुबो दिया। बिग बी को कोई रास्ता नहीं दिख रहा था।ऐसे में यश चोपड़ा ने उनके लिए मोहब्बतें बनाई। फिल्म हिट होने से बिग बी की थोड़ी हिम्मत दोबारा लौटी लेकिन इसी दौरान सन 2000 में आया शो केबीसी उनके लिए मानो वरदान साबित हुआ। इस शो की ऐतिहासिक सफलता ने बिग बी की सारी परेशानियों को छूमंतर कर दिया और तब से लेकर आज तक बिग बी निरंतर आगे ही बढ़ रहे हैं और उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।