गर्भनिरोधक गोलियां:क्या कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स लेने से बढ़ता है महिलाओं का वजन?

6 महीने पहलेलेखक: श्वेता कुमारी
  • कॉपी लिंक

ओरल कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स को लेकर महिलाओं में मोटे होने का डर बना रहता है। गर्भनिरोधक गोलियों को खाना सेहत के लिहाज से कितना सही है, इस बात का संदेह महिलाओं में हमेशा बना रहता है, जिसकी वजह से वे गोलियां खाने से डरती हैं। अपोलो हॉस्पिटल की रोबोटिक गायनेकोलॉजिस्ट डॉ. सारिका गुप्ता भास्कर वुमन से हुई अपनी बातचीत में महिलाओं के मन में बैठे सभी सवालों का जवाब दे रही हैं।

क्या है ओरल कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स?

अनवांटेड प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए महिलाएं जो गोलियां लेती हैं, उन्हें ओरल कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स कहते हैं। ये दवाएं इस्ट्रोजेन और प्रोजेस्ट्रॉन के कॉम्बिनेशन से बनती हैं, जो शरीर में गर्भ को ठहरने से रोकती हैं। ये गोलियां बॉडी के ऑव्यूलेशन प्रोसेस को बंद करती है। डॉक्टर्स बर्थ कंट्रोल के अलावा हार्मोनल इमबैलेंस, इर्रेगुलर पीरियड्स और पीसीओडी जैसी समस्याओं में भी यह गोलियां लेने की सलाह देते हैं। हालांकि, इन सभी प्रॉब्लम्स में डॉक्टर के सुझाव के बाद ही कोई दवा लें।

शरीर को कितना नुकसान पहुंचाती हैं कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स?

इस बारे में डॉ. गुप्ता कहती हैं कि कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स कहीं से भी नुकसानदेह नहीं हैं। लंबे समय तक इसे लेने की वजह से एक से दो किलो वजन बढ़ सकता है, लेकिन पिल्स लेना बंद करने के बाद ये घट भी जाता है। इसकी वजह से जो वजन बढ़ता है, वो बहुत कम होता है। न्यू जेनेरेशन ओरल कॉन्ट्रसेप्टिवपिल्स (ओसीपी) लो डोज पिल्स होती हैं, जिन्हें लेने से वजन बढ़ने की टेंशन नहीं रहती। न ही ये फर्टिलिटी पर किसी तरह का खतरा डालती है, बल्कि बर्थ कंट्रोल के लिए ये सबसे बेहतर विकल्प साबित होती है। डॉ। गुप्ता कहती हैं कि इन दवाओं का लगातार सेवन ओवरी कैंसर के खतरे को कम करता है, जबकि ब्रेस्ट कैंसर की आशंका कुछ बढ़ जाती है।

पिल्स लेना भूल गईं तब क्या करें?

डॉ. गुप्ता कहती हैं कि अगर आप रोज रात को गोली लेती हैं और किसी दिन लेना भूल गईं, तो याद आते ही तुरंत गोली खाएं। वहीं अगर ये गोली 24 घंटे तक आपने नहीं ली है, तो अगले दिन दो पिल्स ले सकती हैं। एक दिन से ज्यादा अगर पिल्स लेने में चूक गई हैं, तो डॉक्टर से मिलें और जानें कि आपको गोलियों का वो कोर्स पूरा करना है या दोबारा से शुरू करने की जरूरत है। हर महीने पीरियड्स पर इसके असर पर बात करते हुए डॉ. कहती हैं कि रेगुलर पिल्स लेनें वाली महिलाओं के पीरियड्स नॉर्मल होते हैं। उन्हें पीरियड्स के मंथली साइकिल में किसी तरह की दिक्कत नहीं होती।

ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान कितना सही है पिल्स लेना?

डॉक्टर गुप्ता के मुताबिक ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान भी महिलाएं गर्भनिरोधक गोलियां ले सकती हैं, लेकिन ऐसा बिना डॉक्टर की सलाह लिए न करें। ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान मां को अलग तरह की कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स दी जाती हैं। इसलिए बच्चे को दूध पिलाने के दौरान वही पिल्स लें, जिसकी सलाह डॉक्टर दें। कुछ महिलाएं पिल्स बंद करने के अगले महीने ही कंसीव कर लेती हैं, जबकि कुछ मामलों में ये गैप तीन से चार महीनों तक का हो सकता है। बेहतर यही है कि महिलाएं पिल्स रोकने के एक या दो महीने बाद ही कंसीव करें।

इन बातों को जानना भी है जरूरी

  • पिल्स लेती हैं, तो किसी एक तय टाइम पर लें।
  • ये आपके मां बनने की संभावनाओं को कम नहीं करती।
  • पिल्स लेने के बाद कंसीव करने की आशंका महज 1% होती है।
  • बिना डॉक्टर की सलाह लिए न इसे शुरू करें, न किसी अन्य समस्या के लिए लें।