पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फिटनेस मंत्रा:अनफिट होने से बचने के लिए डेली रूटीन और डाइट में करें छोटे-छोटे बदलाव, कतई न करें खाना छोड़ने की गलती

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रोजमर्रा की जिंदगी में घंटों बैठे रहने या लगातार खाने-पीने से इन दिनों वजन बढ़ने की समस्या आम हो गई है। हर किसी को फिटनेस हासिल करनी है, जिसके लिए लोग घंटों जिम और पार्क में इंटेंस वर्कआउट करने में लग जाते हैं। कई बार तो ऐसा भी देखने को मिला है जब वजन घटाने की चाह में लोगों ने अपनी डाइट ही आधी कर दी, लेकिन इससे मोटापा भी बढ़ा और प्रोटीन की कमी भी। अगर आप भी इनमें से एक हैं तो बिना वर्कआउट किए ही बिजी शेड्यूल के बीच खुद को आसानी से फिट बनाने के लिए तैयार हो जाइए। आइए जानते हैं कैसे-

सुबह का नाश्ता न करें स्किप
अगर आप वर्किंग गर्ल हैं। सुबह जल्दी ऑफिस निकलते हैं तो ब्रेकफास्ट जरूर करें। नाश्ते में फाइबर और प्रोटीन युक्त चीजें लें, जिससे दिनभर आपकी एनर्जी बनी रहेगी। अगर आप सुबह हाई प्रोटीन और फाइबर वाला ब्रेकफास्ट लेंगे तो बार-बार भूख नहीं लगेगी। इसका अहम कारण ये है कि हम पेट तो भर लेते हैं, लेकिन शरीर को जरूरी मात्रा में प्रोटीन और फाइबर नहीं मिल पाता है। जिससे बार-बार भूख लगने के सिग्नल मिलते हैं। बाद में हम क्रेविंग दबाने के लिए जंक फूड और अतिरिक्त खाना खा लेते हैं, जो वजन बढ़ने का अहम कारण है। आप स्वादिष्ट खाना पसंद करते हैं तो रोजाना सुबह दूध, अंकुरित दाल या अंडे खा सकते हैं। इसके अलावा आप सीजनल जूस, हरी सब्जियों से बना पोहा, सब्जियों से बना ब्राउन ब्रेड सेंडविच, चीला या काठी रोल भी ले सकते हैं, लेकिन ध्यान रहे कि इनमें तेल की मात्रा कम से कम हो।

लिफ्ट को कहें बाय-बाय
8-9 घंटे ऑफिस में देने के बाद किसी के पास वर्कआउट करने या जिम जाने का समय नहीं बचता, ऐसे में लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों को चुनें। इससे आपकी बॉडी की अच्छी खासी कसरत हो जाती है। यदि आपका दफ्तर ऊंची बिल्डिंग में है तो भी रोजाना कुछ मंजिलें सीढ़ियों से ही चढ़ें। हाई प्रोटीन और फाइबर वाले ब्रेकफास्ट के बाद आपको धीरे-धीरे थकान कम लगने लगेगी। शुरुआत करने के लिए आज से ही महज 20 सीढ़ियों से शुरुआत करें।

रोजाना 15- 30 मिनट करें वॉक या एक्सरसाइज
हर दिन अपने शरीर के लिए 15-30 मिनट निकालना एक आसान काम है। अगर आपके पास इसका समय नहीं है तो ऑफिस वर्क के दौरान ही डेस्क पर बैठे रहने की बजाय बीच-बीच में ब्रेक लेकर वॉक जरूर करिए। लंच के बाद भी आप सीधे कंप्यूटर के सामने बैठने की बजाय कुछ समय तक जरूर चलिए इससे पाचन क्रिया आसानी से होती है और साथ ही आपकी एनर्जी बनी रहती है। साथ ही इससे इम्युनिटी बूस्ट होती है और कई बीमारियां दूर होती हैं।

ईवनिंग स्नैक्स को बनाएं हेल्दी
छोटी भूख मिटाने के लिए हर किसी को शाम की चाय के साथ जंक फूड, नमकीन और चिप्स खाने की आदत है, लेकिन ये आदत काफी गलत है। अगर आप चाहें तो गैस और फेट बढ़ाने वाली चीजों को हेल्दी खाने से रिप्लेस कर फिटनेस की ओर जा सकते हैं। इसके लिए ईवनिंग में स्प्राउट्स (अंकुरित दालें, मूंगफली), मल्टीग्रेन कुकीज या सीजनल फ्रूट चाट का सेवन करें।

डिनर लें हल्का
रात का खाना हमेशा हल्का रखें, जिससे शरीर को खाना पचाने में कम से कम समय लगे। यदि आप 8 घंटे की नींद लेती हैं तो सलाद या कुछ ऐसा हल्का खाएं जो महज 3-5 घंटे में आसानी से पच जाए। शरीर में एक हीलिंग पॉवर होती है जो एक समय में या खाना पचाने का काम करती है या रोगों से लड़ने का। यदि हम हल्का खाना खाएंगे तो प्राण शक्ति शरीर को डिटॉक्सीफाइंग करने और रोगों से लड़ने का काम करेगी। लेकिन यदि हम ज्यादा खाना खाएंगे तो ये शक्ति महज पचाने में ही आपकी नींद का सारा समय ले लेगी।
हफ्ते में एक दिन करें उपवास
उपवास रखना शरीर के लिए बेहद जरूरी है। इससे शरीर में जमी अतिरिक्त गंदगी घुलती है और शरीर को एनर्जी भी मिलती है। रोजाना जंक फूड खाने से शरीर की नली में टॉक्सिन्स जमा होने लगते हैं जिनसे उपवास के जरिए छुटकारा पाया जा सकता है। टॉक्सिन्स हटने से आपका वजन भी काफी कम हो जाता है।

गरम पानी की बोतल रखें साथ
दिनभर गर्म पानी पीने की आदत आपको कई फायदे पहुंचा सकती है। गरम पानी पीने से पेट साफ रहता है साथ ही इससे शरीर के टॉक्सिन भी खत्म होते हैं। टॉक्सिन कम होने से आपके वजन में काफी फर्क दिख सकता है। ये टॉक्सिन शरीर की नलियों में जमकर भी काफी नुकसान पहुंचाते हैं इसलिए इन्हें निकालना बेहद जरूरी है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें