बच्चे को खिलाएं शकरकंद:ठंड से बचेगा, बढ़ेगी आंखों की रोशनी, इम्युनिटी और एनर्जी से बच्चा रहेगा फिट

4 महीने पहलेलेखक: श्वेता कुमारी
  • कॉपी लिंक

बच्चे को ठंड से बचाना और इस मौसम में स्वस्थ रखना घरवालों के लिए मशक्कत भरा काम है। उनके खाने पीने से लेकर हर चीज का बेहतर ध्यान रखना जरूरी हो जाता है। पेरेंट्स के सवालों में यह सबसे आम होता है कि इस मौसम में बच्चों को ऐसा क्या खिलाया जाए, जिससे उनके शारीरिक विकास में कोई रुकावट न आए। इस सवाल के जवाब में श्री वैद्य आयुर्वेद पंचकर्मा हॉस्पिटल, अल्टरनेटिव मेडिसिन की डॉ. सोनिया बताती हैं कि सर्दी के मौसम में बच्चों की डाइट में शकरकंद शामिल करना एक बेहतर ऑप्शन है। ऐसा क्यों और इसके फायदे क्या हैं जानिए आज की खबर में।

क्यों सेहतमंद है शकरकंद?

डॉ. सोनिया के मुताबिक, बच्चों की डाइट में ऐसी चीजें शामिल करना बड़ा चैलेंज है, जिसमें कैल्शियम, सोडियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस और पोटेशियम जैसे मिनरल्स मौजूद हो। वहीं, अगर स्वीट पोटैटो यानी शकरकंद की बात करें, तो इस सब्जी में ये सभी मिनरल्स पाए जाते हैं। रूटीन डाइट में इसे शामिल करने से बच्चों का शारीरिक विकास बेहतर होता है।

सर्दी के मौसम में शकरकंद खाना बड़ों के लिए भी फायदेमंद होता है।
सर्दी के मौसम में शकरकंद खाना बड़ों के लिए भी फायदेमंद होता है।

बच्चों को कैसे रखता है फिट?

बढ़ेगी आंखों की रोशनी - आजकल छोटे बच्चों में भी आंखों की रोशनी से जुड़ी समस्या देखी जाती है, जिसे लेकर हर मां-बाप चिंतित रहते हैं। शकरकंद में पाया जाने वाला बीटा-केराटिन शरीर में विटामिन-ए बढ़ाता है और इस विटामिन की वजह से आंखें स्वस्थ रहती हैं। इसलिए बच्चों की डाइट में इस फूड को जरूर शामिल करें।

दूर होगी कब्ज की दिक्कत - दो से तीन साल तक के बच्चों में कब्ज की समस्या आम होती है। पेट साफ न होने की वजह से वो खाने-पीने में रुचि नहीं लेते हैं। शकरकंद में मौजूद डाइट्री फाइबर बच्चों में कब्ज की समस्या को दूर करता है।

बढ़ेगी इम्युनिटी - बच्चे चूंकि छोटे होते हैं ऐसे में उनमें इम्युनिटी भी कम होती है। मौसम के हिसाब से एडजस्ट न हो पाने की वजह से वे जल्दी बीमार पड़ते हैं। ठंड से बच्चे को बचाने के लिए उन्हें स्वीट पोटैटो खिलाएं। इसमें मौजूद विटामिन-ई और ‘सी’ बच्चे को बीमार नहीं पड़ने देते हैं।

बच्चा रहेगा एनर्जी से भरपूर - बच्चों की आदत होती है पूरे दिन धमा-चौकड़ी मचाने की। अगर वे थोड़ी देर खेलकर ही थकान महसूस कर रहे हैं, तो हो सकता है उनमें एनर्जी की कमी हो। शकरकंद में मौजूद स्टार्च और विटामिन्स बच्चे को पूरा दिन एनर्जेटिक बनाए रखने में कारगार होते हैं।

बच्चे का शारीरिक विकास बेहतर होता है - स्वीट पोटैटो एक सुपर फूड है। इसमें मौजूद प्रोटीन और मिनरल्स बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास में मदद करता है। इसलिए बतौर पेरेंट आप इसे अपने नन्हे-मुन्हे की डेली डाइट में जरूर शामिल करें।

डॉ. सोनिया बताती हैं कि 100 ग्राम शकरकंद में 1.6 ग्राम प्रोटीन, 01 ग्राम ओमेगा, 3 ग्राम फाइबर, 86 कैलोरीज और 20.1 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है। ये बच्चे में खून की कमी और कम वजन जैसी परेशानियों से भी बचाने में बेहतर साबित होते हैं। साथ ही ठंड के मौसम में बच्चों का मेटाबॉलिज्म दुरुस्त रहता है, इसलिए सर्दियों के मौसम में उन्हें खास-तौर पर शकरकंद जरूर खिलाएं।