वर्क फ्रॉम होम ने नींद में डाली खलल:योग से अपनी सुबह को बनाएं खुशनुमा, करें ये 3 आसन

10 दिन पहलेलेखक: मीना
  • कॉपी लिंक

कोविड की वजह से एक बार फिर से दुनिया घरों में सीमित हो गई है। वर्क फ्रॉम का कल्चर फिर लौट आया है। लंबे समय तक घर में रहने से लोगों से बातचीत कम हुई है जिस वजह से लोगों में अकेलापन और मेंटल इशुज बढ़े हैं। तो वहीं देर रात तक ऑफिस का काम करने या सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने से नींद का पैटर्न डिस्टर्ब हुआ है। इनोसेंस योगा की योग एक्सपर्ट भोली परिहार का कहना है कि रात 11 बजे से 2:30 बजे स्लीप हार्मोन निकलता है। बेवक्त काम करने से ये सिक्रिशन कम हुआ है। इस वजह से नींद में खलल मची है। नींद के पैटर्न को सुधारने के लिए योग एक्सपर्ट भोली परिहार ने तीन योगासन बताए हैं-

वृक्षासन (Tree pose)

कोविड में मेंटल हेल्थ डिस्टर्ब हुई है लेकिन वृक्षासन फोकस इंप्रूव होता है। बॉडी में जो हार्मोनल सिक्रिशन बिगड़ गया था, वो ठीक होने लगता है। इसे करने से हमारा दिमाग शांत होता है और नींद बेहतर आती है।

वृक्षासन आसन करते हुए योग एक्सपर्ट भोली परिहार।
वृक्षासन आसन करते हुए योग एक्सपर्ट भोली परिहार।

वृक्षासन करने की विधि

  • सावधान अवस्था में खड़े हो जाएं।
  • सीधे पैर को मोड़ते हुए उल्टे पैर जांघों के पास रख लें।
  • दोनों हाथों से नमस्कार बनाते हुए शरीर का संतुलन बनाते हुए दोनों आंखों को एक स्थान पर टिका दें।
  • इस आसन में 15-30 सेकेंड होल्ड करें।
  • धीरे से वापस आते हुए दूसरे पैर से भी दोहराएं।

शशांकासन (Child pose)

इस आसन को करने से शरीर और दिमाग का संतुलन बनता है। ब्लड सिर की तरफ जाने से दिमाग को शांत और शरीर को स्थिर करता है। दिमाग में ऑक्सीजन लेवल को बढ़ाता है जिससे बिगड़ा स्लीप पैटर्न सुधरने लगता है।

शशांक आसन करने का तरीका।
शशांक आसन करने का तरीका।

शशांक आसन करने की विधि

  • दोनों पैरों को सामने खोल लें।
  • पंजों को आपस में मिला लें।
  • एक-एक करके पैर को मोड़ें। उसके बाद अपने पंजों के ऊपर बैठ जाएं।
  • एड़ियां बाहर की ओर रहेंगी। अब धीरे से अपने दोनों घुटनों में अंतराल बनाते हुए अपनी छाती व हाथों को सामने की ओर जमीन पर फैलाएं।
  • कुछ देर विश्राम करें।
  • इस आसन में कम से कम 30-40 सेकेंड होल्ड करें।

डीप ब्रीदिंग बद्धकोण आसन (Deep breathing and butterfly)

बद्धकोण आसन करने से हमारे शरीर की मसल्स रिलैक्स हो जाती हैं। विशेषकर शरीर का निचला हिस्सा जैसे घुटने, कमर, पेट, कमर व कंधों में अच्छा खिंचाव देता है। इस वजह से शरीर और दिमाग के बीच कॉर्डिनेशन ठीक होता है। दिमाग शांत होने से चंचलता कम होती है और फोकस बढ़ता है। इससे स्लीप पैटर्न भी ठीक होता है। यह आसन पाचन भी दुरुस्त करता है।

डीप ब्रीदिंग बद्धकोण आसन करने की विधि

  • दोनों पैरों को सामने की ओर खोलकर बैठ जाएं।
  • दोनों घुटनों को मोड़ते हुए शरीर के पास लाएं। दोनों तलवों को आपस में मिला लें।
  • दोनों हाथों से पंजों को पकड़ लें। कमर को हल्का-सा सीधा करते हुए शांत बैठ जाएं।
  • अपना सारा ध्यान अपनी सांसों पर लाएं और डीप ब्रिदिंग शुरू करें।
  • दोनों नथनों से लंबी सांस अंदर लेनी है और बाहर छोड़नी है।
  • सांस भरते हुए पेट और छाती को फुलाएं।
  • सांस छोड़ते हुए रिलैक्स कर दें।
  • 50 बार लगातार डीप ब्रिदिंग दोहराएं।
  • कुछ देर शांत बैठें।

इन तीनों आसनों को करने से नींद बेहतर होगी और मेंटल हेल्थ भी ठीक होगी।

खबरें और भी हैं...