ऑक्सीजन लाइफस्टाइल:पॉपुलर होता नया हेल्थ सप्लीमेंट, ये है सेहत का नया फंडा

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ऑफिस की जूम कॉल अटेंड करनी है, लेकिन सिरदर्द या हैंगओवर हो गया है? तो अब स्ट्रॉंग कॉफी बूस्टर लेने की भी जरूरत नहीं। बस आपको लेना होगा ऑक्सीजन केन से एक कश। खास बात ये है कि इसमें पेपरमिंट और साइट्रस जैसे ऑक्सीजन के फ्लेवर भी मिलेंगे। इसी कारण बाजार में इस ट्रेंडिंग फैशनेबल ऑप्शन की डिमांड बढ़ रही है। बता दें, कोरोनावायरस की दूसरी लहर में सांसों के संकट के बाद लोगों को ऑक्सीजन की अहमियत पता चल चुकी है। यही वजह है कि लोगों ने घर में ऑक्सीजन सिलेंडर या ऑक्सीजन केन रखना जरूरी लगने लगा। यहां तक कि ज्यादातर लोग ऑक्सीजन हेल्थ सप्लीमेंट के रुप में भी ले रहे हैं। ऑनलाइन, ऑफलाइन मार्केट व मेडिकल स्टोर में पोर्टेबल ऑक्सीजन प्रोडक्ट्स ऐज मिलने लगे हैं।

क्या है पोर्टेबल ऑक्सीजन केन के फायदे
इंडस्ट्रियलिस्ट्स की मानें तो कोरोना संक्रमण के मामले कम होने के बावजूद भी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, सिलिंडर और मेडिकल ऑक्सीजन की डिमांड जारी है। कई कंपनियां डिओडोरेंट के डिब्बे जैसे दबाव वाले केन में ऑक्सीजन बेच रही हैं। ये केन 6-12 लीटर ऑक्सीजन होल्ड कर सकते हैं। एक 6 लीटर केन के लिए कीमत 500 रुपये और 12 लीटर की कीमत एक हजार रुपये तक होती हैं। कई केन ऐसे भी है, जिनमें सांस लेने के लिए स्पेशल मास्क हैं। कंपनियों का दावा है कि ऑक्सीजन केन के बहुत से फायदे है। ये न केवल ट्रेवलर्स के लिए या ट्रैकिंग के दौरान सांस लेने में मददगार हैं बल्कि खिलाड़ियों की परफॉर्मेंस भी बेहतर बनाता है। इसके अलावा स्मोकिंग छोड़ने, हैंगओवर को जल्दी से कम करने, तुरंत ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने में भी फायदेमंद है।

कैसे करते हैं इस्तेमाल
इन पंप से जुड़े केन को सीधे मुंह से या मास्क के जरिये नाक व मुंह में लिया जा सकता है। पोर्टेबल होने की वजह से इनमें ऑक्सीजन की मात्रा कम होती है, लेकिन ये इमरजेंसी में काम आ सकते हैं। ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म व ऑनलाइन फार्मेसी प्लेटफॉर्म के जरिये इन्हें खरीदा जा सकता है। पंप काउंट और टोटल वॉल्यूम के हिसाब से कीमत भी अलग हैं। इन्हें खरीदने से पहले प्रोडक्ट्स के रिव्यू जरुर पढ़ें।

डॉक्टर की सलाह जरूरी लें
जयपुर के फोर्टिस एस्कॉर्ट्स अस्पताल में पल्मोनोलॉजी एंड क्रिटिकल केयर कंसल्टेंट डॉ. अंकित बंसल बताते हैं कि हमारे चारों तरफ मौजूद हवा में सिर्फ 21% ऑक्सीजन होती है। इसका यूज मेडिकल इमरजेंसी में नहीं कर सकते। एक हेल्दी इंसान एक मिनट में 12 से 16 बार सांस लेता है। इससे ज्यादा बार सांस लेना किसी परेशानी की निशानी हो सकती है। जब ब्लड में ऑक्सीजन लेवल 93% से कम हो जाए तो ऑक्सीजन की जरूरत होती है। किसी इंसान में आइडल ऑक्सीजन लेवल 94-99% के बीच होना चाहिए। पोर्टेबल ऑक्सीजन केन का इस्तेमाल किसी भी व्यक्ति को नॉर्मल सिचुएशन में नहीं करना चाहिए। इसे यूज करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के कारगर उपाय

  • आयरन रिच फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करें।
  • इंडोर प्लांट्स लगाएं।
  • रोजाना 25-30 मिनट एक्सरसाइज जरूर करें।
  • लिक्विड क्वांटिटी बढ़ाएं, खासतौर से पानी का।
खबरें और भी हैं...