किचन में कॉकरोच तो हो सकता है अस्थमा का अटैक:साइनस से पीड़ित लोगों की बढ़ जाती है परेशानी, बच्चों को खतरा ज्यादा

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

घर के किसी कोने में कॉकरोच हैं। धूल से सने पुराने अखबारों के बंडल में सुस्ता रहे हैं। किचन में इधर-उधर घूमते दिख जाते हैं। वाश बेसिन के पास भी इनका जमावड़ा रहता है तो यह अस्थमा रोगियों के लिए खतरनाक हो सकता है। यदि कॉकरोच से एलर्जी है तो अस्थमा का भी अटैक आ सकता है। खासकर बच्चे और बुजुर्ग इसकी चपेट में अधिक आते हैं।

दरअसल, गर्म और ह्यूमिड वेदर में अस्थमा रोगियों की परेशानी बढ़ जाती है। बच्चों में यह काफी तेज हो जाता है। 45 डिग्री सेल्सियस टेंपरेचर और 80 प्रतिशत ह्यूमिडिटी में चार-पांच मिनट के लिए भी घर से बाहर निकलने पर अस्थमा का खतरा 112 प्रतिशत बढ़ जाता है। इसमें सांस की नली सिकुड़ने लगती है। जिससे सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। चूंकि कॉकरोच ऐसे ही मौसम में ज्यादा पनपते हैं। इनकी वजह से अलर्जी होती है जो अस्थमा रोगियों के लिए ठीक नहीं है।

आरकेएलसी मेट्रो हॉस्पिटल, शादीपुर दिल्ली के पल्मनोलॉजिस्ट डॉ. राकेश कुमार यादव बताते हैं कि कॉकरोच और अस्थमा का संबंध सौ प्रतिशत सही है। जैसे कुत्ते, बिल्ली या दूसरे जीवों से एलर्जी हो सकती है उसी तरह कॉकरोच से भी एलर्जी होती है। कॉकरोच में पाए जाने वाले प्रोटीन में जो एंजाइम होते हैं उसे इन्सानों में एलर्जी का कारण माना जाता है।

सीजनल एलर्जी की तरह होते हैं लक्षण

कॉकरोच के स्लाइवा और मल में ये प्रोटीन पाए जाते हैं। ये आसानी से डस्ट के जरिए फैल जाते हैं। कोई इनडोर एलर्जी से पीड़ित है तो बहुत संभावना है कि उसे कॉकरोच एलर्जी हो। इसके लक्षण वही होते हैं जैसे दूसरे सीजनल एलर्जी में होते हैं।

रह-रह कर खांसी आना, बंद नाक, त्वचा पर लाल चकते उभरना, टॉन्सिल बढ़ना, छाती का सिकुड़ना आदि इसके लक्षण हैं। कॉकरोच एलर्जी से सबसे अधिक बच्चे पीड़ित होते हैं। जिन्हें सामान्य अस्थमा होता है उनके मुकाबले बच्चों में सांस लेने की कठिनाई अधिक होती है। इलाज में देरी होने पर उन्हें ठीक से नींद नहीं आती।

एलर्जी टेस्ट से चल सकेगा पता

डॉ. राकेश बताते हैं कि कोई कॉकरोज एलर्जी से पीड़ित है या नहीं, इसका पता एलर्जी टेस्ट से किया जा सकता है। डॉक्टर पहले इसके लक्षणों को देखते हैं फिर यह टेस्ट कराने की सलाह देते हैं। कॉकरोच एंडीबॉडीज की पहचान के लिए ब्लड टेस्ट कराया जा सकता है। टेस्ट से पता चलता है कि आपकी बॉडी कॉकरोच के प्रति कैसे रियेक्ट करती है।

खबरें और भी हैं...