सेहत की बात:बासी रोटी, गोंद का लड्डू और आंवला रखेगा सालभर सेहतमंद, एक्सपर्ट से सीखें हेल्दी फूड हैबिट्स

एक वर्ष पहलेलेखक: कमला बडोनी
  • कॉपी लिंक

सेहत को लेकर अब लोग पहले से ज्यादा सतर्क हो गए हैं और अपने खानपान पर खास ध्यान देने लगे हैं। 2022 में हेल्दी डाइट के कौन से ट्रेंड्स फायदेमंद होंगे, इसके बारे में बता रही हैं डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिस्ट शिल्पा मित्तल।

कोरोना ने दुनिया को सिखा दिया है कि बीमारियों से बचने के लिए फिट और हेल्दी रहना बहुत जरूरी है। डाइटीशियन शिल्पा मित्तल कहती हैं कि इम्युनिटी बनाए रखने के लिए पिछले की तरह इस साल भी लोग हेल्दी डाइट पर ध्यान देंगे, विटामिन सी को अपने भोजन में शामिल करेंगे। खासकर महिलाओं को अपनी डाइट का विशेष ध्यान रखना होगा, तभी वो परिवार की सेहत का ख्याल रख सकेंगी। डाइट में सीड्स यानी खरबूजे, तरबूज आदि के बीज तिल, फ्लैक्सीड्स आदि को शामिल करें। लोगों ने अब बड़ी तादाद में वीगन होना और ऑर्गेनिक चीजें खाना शुरू कर दिया है। साथ ही आहार में प्रोटीन की मात्रा भी बढ़ा दी है, ताकि उनकी सेहत पर कोई आंच न आने पाए।

यदि हम उम्र और जेंडर के हिसाब से डाइट की बात करें, तो हर किसी के शरीर की जरूरतें अलग हैं। डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिस्ट शिल्पा मित्तल ने बच्चों से लेकर बुजुर्गों और महिलाओं के लिए डाइट प्लान बताया है, जो सालभर आपको हेल्दी और फिट बनाए रखेगा।

बच्चों के लिए हेल्दी डाइट

बच्चों की डाइट में प्रोटीन की भरपूर मात्रा होना जरूरी है। हमारा इम्यून सिस्टम प्रोटीन से बना है इसलिए शरीर में यदि प्रोटीन का इनटेक सही है, तो वायरस से लड़ने की क्षमता अपने आप बढ़ जाती है। इसके अलावा डाइट में विटामिन सी, ओमेगा 3 फैटी एसिड, आयरन, जिंक और विटामिन ए की मात्रा बढ़ाएं। बच्चों को सीजनल फ्रूट्स और वेजिटेबल्स भरपूर मात्रा में खिलाएं। भोजन जितना कलरफुल होगा, बच्चों की सेहत उतनी अच्छी होगी, इसलिए भोजन में दाल, हरी सब्जी, पनीर, स्प्राउट्स, दही आदि शामिल करें। उनके भोजन में अलसी, पम्पकिन सीड्स, तिल जैसी बीज वाली चीजें जरूर शामिल करें। बच्चों को कच्चा गाजर खिलाने के बजाय गाजर का हलवा, सूप, पराठा खिलाएं, ये उन्हें ज्यादा पसंद आएगा।

बुजुर्गों के लिए डाइट प्लान

ज्यादातर बुजुर्गों को डायजेशन की तकलीफ रहती है इसलिए उन्हें पानी खूब पीने के लिए कहें। उनकी डाइट में ताजे फल, सब्जियां, कच्ची हल्दी, आंवला, पनीर, छिलके वाली मूंग की दाल, सूरन, गाजर आदि को शामिल करें। यदि बुजुर्ग फिट और एक्टिव हैं, तो उनके लिए अलग से कुछ करने की जरूरत नहीं, घर के बाकी सदस्य जो डाइट ले रहे हैं, वही उन्हें भी दी जा सकती है।

महिलाओं के लिए स्पेशल डाइट

ज्यादातर महिलाएं पूरे परिवार की सेहत का ध्यान रखती हैं, लेकिन खुद के प्रति लापरवाह होती हैं, जिसकी वजह से उन्हें कई हेल्थ प्रोब्लेम्स हो जाती हैं। पति और बच्चों के ऑफिस व स्कूल की तैयारी करते हुए कई महिलाएं सुबह का नाश्ता बहुत लेट करती हैं या कई बार करती ही नहीं हैं। इससे उनकी डाइट में बहुत लंबे समय का गैप आ जाता है, जिससे उन्हें कमजोरी और एसिडिटी की तकलीफ होने लगती है। शिल्पा महिलाओं के लिए खासतौर पर कहती हैं कि घर में सबके बाद खाने की बजाय सबके साथ खाने की आदत डालें। सुबह जल्दी उठकर जब वो घर का काम शुरू करती हैं, तो एक ग्लास दूध में रात की बची हुई रोटी भी खा लेंगी तो उन्हें दोपहर तक के लिए एनर्जी मिल जाएगी। सर्दियों में घरों में गोंद, मेथी, ड्राई फ्रूट्स के लड्डू बनते हैं, महिलाएं सुबह दूध के साथ इन्हें खा सकती हैं। दूध और केला भी महिलाओं के लिए अच्छा ब्रेकफास्ट है, इससे उन्हें प्रोटीन और कार्ब का अच्छा कॉम्बिनेशन मिल जाता है। दिन में एक कच्चा आंवला जरूर खाएं, इससे विटामिन सी की जरूरत पूरी हो जाती है। इस बात का ध्यान रखें कि आंवले का अचार या कैंडी इसका विकल्प नहीं हैं, कच्चा आंवला ही सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। इसके अलावा नींबू, संतरा, मोसंबी, अमरूद, शिमला मिर्च, पत्तागोभी से भी विटामिन सी मिल जाता है। तिल, अलसी, पंपकिन सीड्स आदि का मुखवास बनाकर रख लें और इसे दिन में दो-तीन चम्मच खाएं, इससे शरीर में कैल्शियम की कमी पूरी हो जाएगी। इसके आलावा दूध, दही, पनीर, नाचनी, राजगीरा आदि को डेली डाइट में शामिल करें, इनके सेवन से कैल्शियम और आयरन की कमी नहीं होगी।

पुरुषों के लिए हेल्दी फूड हैबिट्स

महिला और पुरुष दोनों की डाइट एक जैसी होती है, सिर्फ उनके भोजन की मात्रा अधिक होती है, क्योंकि उनके शरीर को ज्यादा कैलोरी की जरूरत होती है। प्रोटीन के लिए कई पुरुष डाइट में नॉन वेजिटेरियन फूड बढ़ा देते हैं, लेकिन इसे पचाना आसान नहीं है। यदि आप हमेशा चिकन खाते हैं तो आपकी बॉडी को इसकी आदत हो जाती है, लेकिन जो लोग हमेशा नहीं खाते, उन्हें नॉन-वेज को पचाने के लिए ज्यादा फिजिकल एक्टिविटीज करनी चाहिए। जो लोग जिम में पसीना बहाते हैं, वो नॉन वेजिटेरियन फूड आसानी से पचा सकते हैं। पुरुष ऑफिस के काम में कई बार इतने बीजी हो जाते हैं कि उनके भोजन के बीच गैप ज्यादा हो जाता है, कई लोग चाय बहुत पीते हैं, जिससे उन्हें एसिडिटी की तकलीफ हो सकती है। कोशिश करें कि आप समय पर भोजन कर सकें। कई पुरुष अल्कोहल और चाय दोनों पीते हैं, जिससे शरीर में डीहाईड्रेशन होने लगता है, ऐसे लोगों को पानी बहुत ज्यादा पीना चाहिए। साथ ही चाय की जगह हर्बल टी, ग्रीन टी, नींबू पानी, नारियल पानी, छाछ, आदि पीने की आदत डालनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...