दीपिका-कंगना ने मां से क्या सीखा:एक ब्लैक एंड वाइट फिल्म के गाने में भी मम्मी के इस नुस्खे की हुई थी जमकर तारीफ

नई दिल्ली2 दिन पहलेलेखक: निशा सिन्हा
  • कॉपी लिंक

एक फैशन मैगजीन की मई अंक के कवर पर दीपिका पादुकोण की तस्वीर छपी हैं। इसमें वे वाकई खूबसूरत दिख रही हैं। अपने इंटरव्यू में यह एक्ट्रेस अपनी ब्यूटी के एक खास टिप्स का क्रेडिट अपनी मां उज्जवला पादुकोण को देती हैं। आखिर सौंदर्य और सुकून से जुड़ा यह कैसा नुस्खा है?

लॉकडाउन के दिनों में कंगना की एक फोटो काफी वायरल हुई थी। इसमें वह अपनी मां से हेड मसाज कराती दिखीं। हिमाचल प्रदेश के अपने घर में वह एक खास तेल से बालों की मालिश करा रही थी। इसे चूली को जंगली खूबानी का तेल भी कहा जाता है।
लॉकडाउन के दिनों में कंगना की एक फोटो काफी वायरल हुई थी। इसमें वह अपनी मां से हेड मसाज कराती दिखीं। हिमाचल प्रदेश के अपने घर में वह एक खास तेल से बालों की मालिश करा रही थी। इसे चूली को जंगली खूबानी का तेल भी कहा जाता है।

दीपिका को जो बेहद पसंद है
दीपिका पादुकोण ने एक इंटरव्यू में कहा था कि इस देश में कई तरह के ब्यूटी रिचुअल्स अपनाए जाते रहे हैं। सदियों से सौंदर्य जुड़ी जानकारियां एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पहुंचती रही है। इन सबमें ‘चंपी’ मेरा सबसे फेवरेट ब्यूटी रिचुअल रहा है। घर की बुजुर्ग महिलाएं या मां हाथों से सिर की मालिश करती थी। कई बार मालिश किए गए बालों को रातभर वैसे ही छोड़ दिया जाता है, दूसरे दिन बाल धोया जाता है, तो कई बार चंपी के कुछ घंटे बाद ही बालों को धो दिया जाता है। चंपी से सिर और आंखों को बहुत आराम मिलता है।

खूबानी यानी अप्रकट के तेल में मौजूद तत्व से बाल और सिर दोनों की त्वचा मुलायम रहती है। बाल चमकदार होते हैं। यह डैंड्रफ को खत्म करते हैं। जिंदल नेचरक्योर की चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. एम बबीना के अनुसार नारियल का तेल मसाज के लिए सबसे अच्छा है।
खूबानी यानी अप्रकट के तेल में मौजूद तत्व से बाल और सिर दोनों की त्वचा मुलायम रहती है। बाल चमकदार होते हैं। यह डैंड्रफ को खत्म करते हैं। जिंदल नेचरक्योर की चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. एम बबीना के अनुसार नारियल का तेल मसाज के लिए सबसे अच्छा है।

चंपी के नाम पर अमर हो गया है यह गाना
सर जो तेरा चकराए और दिल डूबा जाए... गाने में चंपी के ढेरों गुण बताए गए हें। यह गाना मशहूर कॉमेडियन जॉनी वॉकर पर फिल्माया गया था। यह 1957 में बनी निर्देशक गुरुदत्त की फिल्म प्यासा का गाना है। इस गाने को मशहूर गायक मोहम्मद रफी ने गाया है। इस फिल्म के और भी कई गाने क्लासिक गानों की श्रेणी में आते हैं जैसे हम आपकी आंखों में इस दिल को बसा दे तो..., जाने वाले कैसे लोग थे जिनके प्यार को प्यार मिला .. और ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है ...।

एक अध्ययन में एंड्रोजेनिक एलोपेशिया की बीमारी में हेड मसाज को सही ठहराया गया। एंड्रोजेनिक एलोपेशिया में बाल झड़ते हैं। छह महीने तक हर दिन करीब 11 से 20 मिनट तक की गई मालिश केअच्छे नतीजे नजर आए। अध्ययन में शामिल करीब 70% लोगों ने माना कि ऐसा करने के बाद बालों का झड़ना कम हुआ या दोबारा बाल आए।
एक अध्ययन में एंड्रोजेनिक एलोपेशिया की बीमारी में हेड मसाज को सही ठहराया गया। एंड्रोजेनिक एलोपेशिया में बाल झड़ते हैं। छह महीने तक हर दिन करीब 11 से 20 मिनट तक की गई मालिश केअच्छे नतीजे नजर आए। अध्ययन में शामिल करीब 70% लोगों ने माना कि ऐसा करने के बाद बालों का झड़ना कम हुआ या दोबारा बाल आए।

महिलाओं की खूबसूरती और उनकी जुल्फें
हर महिला के लिए बालों की ख़ूबसूरती बहुत मायने रखती है। यूके की ऑनलाइन डॉक्टर और फार्मेसी सर्विस प्रोवाइडर डॉ. फेलिक्स की ओर से कराए गए एक सर्वे में यह जानने की कोशिश की गई कि महिलाओं की कौन-सी ख़ूबसूरती पुरुषों को उनका दीवाना बना देती है। इस अध्ययन के अनुसार 100 में से 46 पुरुषों के लिए महिलाओं की सुंदरता बहुत मायने रखती है।
100 में से 18 पुरुषों को महिलाओं के शरीर के पीछे का कमर से नीचे हिस्सा आकर्षक लगता है। इन दोनों के बाद बाल देखकर महिलाओं पर फिदा होने वाले पुरुषों की संख्या सबसे ज्यादा पाई गई।

बालों की खूबसूरती के लिए जरूरी
बंगलोर स्थित जिंदल नेचरक्योर इंस्टीट्यूट की चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. बबीना एमएन के अनुसार, ऑयल के साथ हेड मसाज करने के ढेरों फायदे होते हैं। बिना ऑयल का हेड मसाज करना हो, तो एक्यूप्रेशर मसाज सबसे सही माना जाता है। हर रोज हेड मसाज किया जाए, तो माइग्रेन से छुटकारा मिलेगा।
मसाज करने से सिर का ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है और इससे सिर दर्द में आराम मिलता है। यह याददाश्त को बढ़ाता है और साथ ही ब्लड प्रेशर को भी कम करता है। सिर की मालिश करने से तनाव कम होता है और मूड अच्छा हो जाता है। महिलाओं में हेड मसाज को इसलिए भी अच्छा माना गया है कि यह बालों को बढ़ने में मदद करता है।

बीमारियों को दूर रखता है मसाज
हेड मसाज करने से इन्सोमानिया (नींद नहीं आने की परेशानी) के मरीजों को अच्छी नींद आती है। इसके अलावा भी कई तरह के मसाज होते हैं, जो बीमारियों को दूर करने में मददगार होते हैं। अलग-अलग अंगों में होने वाली तकलीफों को दूर करने में इसकी मदद ली जाती है।
डॉ. बबीना एनएम के अनुसार, “लंबार स्पोन्डिलोसिस, लोंबैगो के मरीजों को बैक मसाज से बहुत ही राहत मिलती है। इसके अलावा जिन लोगों को सियाटिका, आर्थराइटिस की दिक्कत होती है उनके लिए भी मसाज बहुत हेल्पफुल होता है। इनको पार्शियल मसाज या स्वीडिश मसाज दिया जाता है।

सेल्फ एसेसमेंट्स ऑफ स्टैंडर्डाइज्ड स्काल्प मसाज फॉर सर्वे के अनुसार, एंड्रोजेनिक एलोपेशिया में मसाज करने का गंजेपन पर अच्छा असर देखा गया। एंड्रोजेनिक एलोपेशिया को लेकर किए गए एक शोध में तीन सौ से अधिक शामिल हुए। इन सब पर मसाज का अच्छा असर दिखा।