अन-मैरिड गर्ल्स और टैम्पोन:इसके इस्तेमाल से क्यों बचती हैं कुंवारी लड़कियां?

18 दिन पहलेलेखक: श्वेता कुमारी
  • कॉपी लिंक

हाल ही में अमेरिका की राजधानी वाॅशिंगटन डीसी में स्कूल जाने वाली बच्चियों के लिए एक राहत भरी खबर आई। इसके मुताबिक यहां स्कूल जाने वाली लड़कियों को स्कूल में टैम्पोन, सैनिटरी पैड्स और मेंसट्रूअल से जुड़ी जरूरी चीजें फ्री में दी जाएंगी। नए कानून के तहत यह सुविधा सरकारी, प्राइवेट और चार्टर स्कूलों सभी जगह मिलेगी।

भारत की बात करें, तो यहां भी पीरियड्स को लेकर कई भ्रम टूटे हैं। मेंसट्रूअल के दौरान सैनिटरी नैपकिन के इस्तेमाल को लेकर सजगता आई है, लेकिन टैम्पोन का इस्तेमाल आज भी टैबू बना हुआ है। इसे न तो लड़कियां स्वीकार कर पाई हैं, न ही उनके घर-परिवार के लोग। लड़कियों में इसे लेकर असहजता क्यों बनी हुई है बता रही हैं रिलायंस हॉस्पिटल की, एचओडी ऑब्स्टट्रिशन एंड गायनेकोलॉजिस्ट डॉ. बंदिता सिन्हा।

टैम्पोन पर ये है एक्सपर्ट की राय।
टैम्पोन पर ये है एक्सपर्ट की राय।

टैम्पोन क्या है, क्या करता है?

दरअसल यह रुई से बना एक मेंसट्रूअल प्रोडक्ट है, जिसे पीरियड्स के दौरान वेजाइना में रखा जाता है। टैम्पोन पीरियड्स ब्लड को सोख लेता है। विदेशों में इसका चलन जोरों पर है क्योंकि इसे जिम, स्विमिंग, डांसिंग और स्पोर्ट्स एक्टिविटी के दौरान आराम से इस्तेमाल किया जा सकता है। मार्केट में यह स्मॉल, मीडियम और लार्ज साइज में उपबल्ध हैं। अपने शरीर के स्ट्रक्चर और ब्लड फ्लो के हिसाब से इसे छह से आठ घंटे तक इस्तेमाल कर सकते हैं। यह पीडियड्स के दौरान स्पोर्ट्स और दूसरी फिजिकल एक्टिविटी करने वाली लड़कियों के काम आता है और उनकी ड्रेसेस को खराब होने से बचाता है। इसे सैनिटरी नैपकिन के विकल्प के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता है।

इसके इस्तेमाल से क्यों हिचकती हैं लड़कियां?

डॉ. सिन्हा के मुताबिक कई मामले ऐसे देखे जाते हैं, जिनमें लड़कियां अब भी अपने शरीर को पूरी तरह से नहीं जानतीं। उन्हें यूरेथ्रा और वेजाइना को लेकर कई आशंकाएं होती हैं। इसलिए वो इसके इस्तेमाल से बचती हैं। इसके अलावा कई परिवारों में इस तरह की सोच होती है कि कुंवारी लड़कियों को ऐसी चीजों के इस्तेमाल से बचना चाहिए, जिन्हें वेजाइना में इंसर्ट किया जाता हो। वहीं कुछ मामले ऐसे भी देखे जाते हैं, जिनमें खुद लड़कियां यह सोचती हैं कि टैम्पोन के इस्तेमाल से उनको दर्द होगा और इससे बचती हैं।

टैम्पोन का इस्तेमाल करने के दौरान हाइजीन का खास ध्यान रखें।
टैम्पोन का इस्तेमाल करने के दौरान हाइजीन का खास ध्यान रखें।

कैसे करते हैं इसका इस्तेमाल?

  • हैंड वॉश का इस्तेमाल कर हाथों को अच्छे से धो लें।
  • इसे आप अपने कम्फर्ट के हिसाब से खड़े होकर, बैठकर या लेटकर इस्तेमाल कर सकती हैं।
  • सही पोजीशन ले लेने के बाद इसे वेजाइना में इंसर्ट करें।
  • ध्यान रहे कि इसका धागा (स्ट्रिंग) बाहर की ओर निकला हो।
  • अगर टेम्पोन इंसर्ट करने में दिक्कत महसूस कर रही हैं, तो टेम्पोन एप्लिकेटर का इस्तेमाल करें।
  • इसे निकालने के दौरान स्ट्रेस फ्री रहें, ताकि वेजाइना की मांस-पेशियों में सिकुड़न न हो।
  • टैम्पोन निकालने के बाद हाथों को अच्छी तरह साफ करें।

इस्तेमाल के पहले जान लें ये जरूरी बातें

डॉ. सिन्हा कहती हैं कि इसके इस्तेमाल से पहले हाइजीन का बेहद ध्यान रखें। अगर टैम्पोन को लंबे समय तक बिना बदले इस्तेमाल किया गया, तो हो सकता है कि यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़े। अगर पीरियड्स में हैवी फ्लो होता है, तो इसे कुछ घंटों के गैप में बदलते रहें। इस्तेमाल करने में परेशानी महसूस हो, तो कभी टैम्पोन, कभी सेनेटरी पैड्स का इस्तेमाल कर सकती हैं।