• Hindi News
  • Women
  • Lifestyle
  • Body Image Pressure Is Increasing Among Young Girls In The Race To Imitate Celebrities And Influencers

खूबसूरत दिखने का फितूर:सेलिब्रिटीज और इन्फ्लुएंसर की नकल की होड़ में युवा लड़कियों में बढ़ रहा है बॉडी इमेज का प्रेशर

7 महीने पहलेलेखक: कमला बडोनी
  • कॉपी लिंक

सोशल मीडिया पर एक्टिव कई लड़कियां सेलेब्रिटीज और इन्फ्लुएंसर को फॉलो करती हैं और उनके जैसा दिखने के लिए अपने कपड़े, मेकअप, ज्वेलरी, फिटनेस पर खूब पैसे खर्च करती हैं। इसके चलते उन पर बॉडी इमेज का इतना प्रेशर रहता है कि इसका असर उनकी मेंटल हेल्थ पर भी पड़ने लगता है। फोटो पर ज्यादा लाइक और कमेंट न मिलना उनके लिए प्रतिष्ठा की बात हो जाती है। सोशल मीडिया वाली इमेज को चमकाने के लिए युवा लड़कियां कितना प्रेशर लेती हैं और इसका उनके मेंटल हेल्थ पर क्या असर होता है, इसके बारे में जानने के लिए भास्कर वुमन ने बात की साइकोलॉजिस्ट और हेल्थ काउंसलर नम्रता जैन और बॉडी पॉजिटिव वेलनेस कोच और योगा टीचर नौशीन शेख से।

इंस्टाग्राम जेनरेशन के बारे में एक्सपर्ट्स की राय
इंस्टाग्राम जेनरेशन के बारे में एक्सपर्ट्स की राय

लाइक्स-कमेंट्स बढ़ाते हैं स्ट्रेस

एक्सपर्ट्स का कहना है कि लड़कियों पर सबसे ज्यादा बॉडी इमेज का प्रेशर रहता है। वो सेलेब्रिटीज की तरह सुंदर और पॉपुलर बनना चाहती हैं और इसके लिए वो अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर बहुत समय और एनर्जी खर्च कर देती हैं। वो सोशल मीडिया पर खुद को सेलेब्रिटी की तरह प्रस्तुत करती हैं और उनकी तरह ही पॉपुलर होना चाहती हैं, लेकिन जब उन्हें सेलेब्रिटीज की तरह लाइक और कमेंट्स नहीं मिलते, तो उन्हें स्ट्रेस हो जाता है।

सेलेब्रिटीज की नकल पड़ सकती है महंगी

बॉडी पॉजिटिव वेलनेस कोच और योगा टीचर नौशीन शेख कहती हैं, “सेलेब्रिटीज को स्क्रीन पर अच्छा दिखाने के लिए एक बड़ी टीम काम करती है, वे अपने लुक्स और फिटनेस के लिए सालों से मेहनत करते हैं। आज के यूथ में इतना धैर्य नहीं है, उन्हें सबकुछ तुरंत चाहिए, इसलिए वो कोई भी शॉर्टकट अपनाने के लिए तैयार हो जाते हैं। ऐसा करना खतरनाक हो सकता है और इससे उनकी हेल्थ पर बुरा असर पड़ सकता है। युवाओं को सबसे पहले ये समझना चाहिए कि सबकी बॉडी अलग होती है इसलिए किसी से तुलना करना सही नहीं है। स्लिम-फिट दिखने के लिए शॉर्टकट रास्ता अपनाने के बजाय हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाएं और उसे हमेशा फॉलो करें।”

सोशल मीडिया इमेज को समझना जरूरी है

साइकोलॉजिस्ट और हेल्थ काउंसलर नम्रता जैन कहती हैं, “कई लड़कियां सोशल मीडिया के लिए कंटेंट बनाने में इतना ज्यादा समय खर्च करती हैं कि इससे उनकी पढ़ाई और फैमिली टाइम भी दोनों सफर करते हैं। सेलेब्रिटीज की कॉपी करने के चक्कर में लड़कियां अपनी पहचान खो देती हैं, वो अपनी सोशल मीडिया वाली इमेज को असल जिंदगी में भी जीने लगती हैं और जब उन्हें उतना अटेंशन नहीं मिलता, तो वो चिढ़ जाती हैं। उन्हें समझ नहीं आता कि उन्हें असल जिंदगी में कैसा व्यवहार करना है। सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा एक्टिव रहने वाली लड़कियां अक्सर मानसिक और भावनात्मक उतार-चढ़ाव से जूझती रहती हैं। जब उन्हें असल जिंदगी में सोशल मीडिया जितनी अटेंशन नहीं मिलती, तो उन्हें समझ नहीं आता कि उनकी सही पर्सनैलिटी क्या है। सोशल मीडिया पर झूठी इमेज बनाते हुए एक टाइम ऐसा भी आता है जब उन्हें खुद से चिढ़ होने लगती है। उन्हें समझ नहीं आता कि उनका सही अस्तित्व क्या है। ऐसी लड़कियों को कई बार काउंसलिंग की जरूरत पड़ती है।”

पहचानें अपनी सही इमेज

सोशल मीडिया पर एक्टिव रहना सही है, लेकिन इसे उतना ही समय देना चाहिए, जिससे आपकी पर्सनल लाइफ प्रभावित न हो। सेलिब्रिटीज पब्लिक फिगर होते हैं इसलिए उनकी सोशल इमेज पर कई लोग काम करते हैं, उनकी फोटोग्राफ्स एडिटिंग के बाद शेयर की जाती हैं, साथ ही सेलिब्रिटीज को फिट और खूबसूरत बनाने के लिए भी एक बड़ी टीम काम करती है। युवा लड़कियों का उन्हें फॉलो करना तो ठीक है, लेकिन उनके जैसा दिखने के लिए बेवजह का समय, पैसा और एनर्जी बर्बाद करना सही नहीं है। सोशल मीडिया वाली और पर्सनल इमेज में सही बैलेंस बनाना बेहद जरूरी है, वरना अपनी सही इमेज को पहचान पाना मुश्किल हो जाता है।

खबरें और भी हैं...