• Hindi News
  • Women
  • Lifestyle
  • Bhakhra Sindoor : Do You Know Why Orange Or Pink Vermilion Is Used At The Time Of Vermilion Donation In Bihar, Jharkhand And Eastern Uttar Pradesh?

भखरा सिंदूर:क्या आप जानते हैं बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में शादी के दौरान नारंगी रंग से क्यों भरी जाती है मांग?

एक वर्ष पहलेलेखक: श्वेता कुमारी
  • कॉपी लिंक

हिन्दू धर्म में सिंदूर लगाने की प्रथा सदियों से चली आ रही है। रामायण और महाभारत में भी इसका जिक्र किया गया है। सिंदूर कई रंग के होते हैं। लाल, नारंगी, गुलाबी व कत्थई, जिनमें नारंगी और गुलाबी रंग के सिंदूर को सबसे शुभ माना जाता है।

क्या है इसके पीछे की वजह, बता रही हैं जानी-मानी ज्योतिषाचार्य आरती दहिया...

क्यों अहम है भखरा सिंदूर?

जहां ज्यादातर भारतीय शादियों में सिंदूर लाल रंग का होता है, वहीं बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में सिंदूरदान के लिए नारंगी और गुलाबी रंग के सिंदूर (भखरा सिंदूर) का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा कुछ खास मौकों पर और शुभ कार्यों में भी इस रंग के सिंदूर को विशेष महत्व दिया जाता है। महिलाएं न केवल खुद के लिए भखरा सिंदूर का इस्तेमाल करती हैं, बल्कि देवी-देवता को प्रसन्न करने के लिए भी इसका इस्तेमाल होता है।

पौराणिक कथाओं में भी है नारंगी सिंदूर का जिक्र

कथाओं के अनुसार जब हनुमान जी को पता चला कि श्री राम सीता द्वारा सिंदूर लगाए जाने से खुश होते हैं, तो उन्होंने अपना सारा शरीर ही नारंगी सिंदूर से रंग लिया। इसी तरह सिंदूर से रंगकर वे श्री राम की सभा में उनके प्रति अपना समर्पण दिखाने के लिए पहुंचे थे। सिंदूरदान के समय इस रंग के सिंदूर का प्रयोग पति-पत्नी में एक-दूसरे के प्रति समर्पण को दर्शाता है।

कैसे बनता है ये सिंदूर?

सुहाग के लिहाज से लाल सिंदूर का भी उतना ही महत्व है जितना नारंगी और गुलाबी सिंदूर का। बड़ा अंतर ये है कि नारंगी सिंदूर प्राकृतिक व शुद्ध होता है जबकि लाल सिंदूर में केमिकल युक्त रंगों के मिलावट की गुंजाइश ज्यादा होती है। नारंगी और गुलाबी रंग का सिंदूर नेचुरल तरीके से बनाया जाता है। जब इसके फल सूख जाते हैं, तो उसके बीज को पीसकर यह सिंदूर तैयार किया जाता है। इसीलिए यह बिल्कुल सुरक्षित है, इससे बाल या त्वचा को किसी प्रकार का कोई भी नुकसान नहीं होता है।

इस रंग के सिंदूर से क्यों होती हैं शादियां?

डॉ. दहिया बताती हैं कि इसके पीछे का तर्क बेहद अनूठा है। दरअसल शादियां देर रात शुरू होती हैं और खत्म होते-होते पौ फटने को होता है। सिंदूरदान का समय आते-आते सुबह होने वाली होती है, इसलिए इस सिंदूर की तुलना सूर्योदय के समय होने वाली उस लालिमा से की जाती है जो हल्के नारंगी रंग की दिखाई पड़ती है। उम्मीद की जाती है कि जिस तरह सूरज की किरणें हर दिन लोगों के जीवन में एक नई सुबह, दिव्य ऊर्जा और खुशहाली लेकर आती है, उसी तरह ये सिंदूर दुल्हन की जिंदगी में नया सवेरा लेकर आए। रात से लेकर सुबह तक होने वाली रस्मों के पीछे यही मान्यता होती है कि परिवार के कुटुंब के साथ ही चांद, तारे और सूर्य सभी विवाह के साक्षी बन सकें।

खबरें और भी हैं...