• Hindi News
  • Women
  • Lifestyle
  • It Was Difficult For Nirmala Of Pachauri Village In Gorakhpur To Feed The Family Of 12 Members, Started A Poultry Farm, Made Self sufficient For Women From Its Self help Group

खुद बदली अपनी तकदीर:गोरखपुर की निर्मला के लिए 12 सदस्यों के परिवार का पेट भरना मुश्किल हुआ तो शुरू किया पोल्ट्री फार्म, अपने स्व सहायता समूह से महिलाओं को बनाया आत्मनिर्भर

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

गोरखपुर के पचौरी गांव में रहने वाली निर्मला के जीवन में एक वक्त ऐसा भी आया जब घर का खर्च चलाना मुश्किल था। वहीं अब वे अपनी मेहनत और लगन से कामयाबी की उड़ान भर रही हैं। निर्मला ने दो साल पहले परिवार के 12 सदस्यों का पेट पालने के लिए कड़ा संघर्ष किया। उनके परिवार में जो पुरुष थे, वे सभी नौकरी की तलाश में शहर चले गए। जब घर में आर्थिक तंगी देखी तो वह खुद काम की तलाश में निकल पड़ी। उन्हीं दिनों निर्मला को राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के बारे में पता चला। वह बिना समय बर्बाद किए इसके ऑफिस जा पहुंचीं। वहां से मिली जानकारी के आधार पर निर्मला ने लकी स्व सहायता समुह की शुरुआत की। अपनी इस समूह में उन्होंने गांव की 14 महिलाओं को शामिल किया।

तीन साल पहले निर्मला ने 50,000 रुपए का लोन लेकर अपने पोल्ट्री फार्म की शुरुआत की। यहां कड़ी मेहनत करते हुए डेढ़ साल बाद उनका बिजनेस चला निकला। इस पोल्ट्री फार्म से न सिर्फ निर्मला बल्कि समूह की हर महिला की अच्छी कमाई हो रही है। इन महिलाओं का पूरा परिवार फिलहाल इस काम लगा हुआ है जिसके चलते उन्हें 3 से 4 लाख का फायदा हो रहा है। निर्मला अपनी सफलता से बहुत खुश है।