• Hindi News
  • Women
  • Lifestyle
  • Like Priyanka Shilpa, The Mask Created A Hindrance In The Desire Of The Nose, Kovid Wreaks Havoc On The Beauty

ऐश्वर्या जैसी नाक बनवाना चाहती थीं लड़कियां:प्रियंका-शिल्पा की तरह नाक की चाहत में रोड़ा बना मास्क, कोविड का सुंदरता पर कहर

नई दिल्ली9 महीने पहलेलेखक: निशा सिन्हा
  • कॉपी लिंक
  • फेशियल प्लास्टिक सर्जरी में सौंदर्य के मामले में नाक की सर्जरी हमेशा डिमांड में रही है क्योंकि यह चेहरे के केंद्र में होती है।

सुंदर नाक पाने की चाहत महिला और पुरुष दोनों में है। महिलाओं में तो ऐश्वर्या, शिल्पा और प्रियंका जैसी नाक की चाहत रही है। यूके में नाक की सर्जरी की संख्या में लगातार कमी आ रही है? भारत में भी अगर ऐसा है, तो क्यों?

एक अध्ययन के दौरान यह पाया गया कि करीब 23% नाक की सर्जरी सौंदर्य को ध्यान में रखकर कराए गए। वहीं करीब 25% मामलों में इस सर्जरी कराने की वजह फंक्शनल थी। सौ में से 51 लोगों ने माना कि वह सौंदर्य और फंक्शनल दोनों वजहों से राइनोप्लास्टी कराना चाहते हैं।
एक अध्ययन के दौरान यह पाया गया कि करीब 23% नाक की सर्जरी सौंदर्य को ध्यान में रखकर कराए गए। वहीं करीब 25% मामलों में इस सर्जरी कराने की वजह फंक्शनल थी। सौ में से 51 लोगों ने माना कि वह सौंदर्य और फंक्शनल दोनों वजहों से राइनोप्लास्टी कराना चाहते हैं।

मास्क बन गया खास
भारत में भी कोविड के समय नोज सर्जरी यानी राइनोप्लास्टी में थोड़ी कमी आई इसकी कई वजहें थी। कोविड की प्रॉब्लम श्वसन तंत्र यानी सांस संबंधी अंगों से जुड़ी है। किसी की नाक की सर्जरी की जाती है, तो नाक में सूजन आती है, उसमें ब्लाकेज होता है और दूसरी कई वजहों से नाक को सुरक्षित रखना बेहद जरूरी हो जाता है।
कोरोना के दिनों में मास्क को इग्नोर नहीं किया जा सकता और ऑपरेशन की स्थिति में मास्क पहनना सही नहीं है। यही वजह है कि कोविड के समय राइनोप्लास्टी में कमी आई, ऐसा मानना है गुरूग्राम स्थित पारस हॉस्पिटल के कॉस्मेटिक और प्लास्टिक सर्जरी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. मनदीप सिंह का।

अमेरिकन सोसाइटी ऑफ प्लास्टिक सर्जन्स के आंकड़ों के अनुसार फंक्शनल और एस्थेटिक दोनों वजहों से राइनोप्लास्टी सर्जरी की डिमांड है। वहीं पिछले दो दशकों में एशिया में एस्थेटिक राइनोप्लास्टी ज्यादा डिमांड में रही है। इसकी वजह है में जागरूकता, खुद पर पहले से अधिक ध्यान देना, एडवांस सर्जिकल स्किल्स ।
अमेरिकन सोसाइटी ऑफ प्लास्टिक सर्जन्स के आंकड़ों के अनुसार फंक्शनल और एस्थेटिक दोनों वजहों से राइनोप्लास्टी सर्जरी की डिमांड है। वहीं पिछले दो दशकों में एशिया में एस्थेटिक राइनोप्लास्टी ज्यादा डिमांड में रही है। इसकी वजह है में जागरूकता, खुद पर पहले से अधिक ध्यान देना, एडवांस सर्जिकल स्किल्स ।

एक दशक पहले ऐश्वर्या के नाक की दीवानी लड़कियां
सुंदरता बढ़ाने के लिए फेशियल कॉस्मेटिक सर्जरी करानेवाली लड़कियां अक्सर एक्ट्रेस या मॉडल से प्रभावित होती है। डॉ. मनदीप बताते हैं, “मुझे याद है, करीब दशक भर पहले एक लड़की राइनोप्लास्टी कराने आई और कहा- “मुझे ऐश्वर्या राय जैसी नाक चाहिए।”
कई लड़कियों को प्रियंका चोपड़ा और शिल्पा शेट्‌टी के नाक भी बहुत पसंद हैं।” चेहरे की सुंदरता बढ़ाने के लिए नोज सर्जरी 16 साल की उम्र होनी चाहिए क्योंकि इस समय तक चेहरे का विकास हो रहा होता है। यह जरूर है कि नाक की वजह से सांस लेने में या दूसरी तकलीफ हो रही हो, तो ऐसे केसेज में पहले राइनोप्लास्टी की जाती है।

सोर्स : अमेरिकन सोसाइटी ऑफ प्लास्टिक सर्जन्स
सोर्स : अमेरिकन सोसाइटी ऑफ प्लास्टिक सर्जन्स

मास्क के अंदर छिपा था चेहरा
फरीदाबाद स्थित फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल के प्लास्टिक एंड रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. सुरेंद्र कुमार चावला के अनुसार, “यह सही है कि मास्क लगाए जाने की वजह से फेशियल कॉस्मेटिक सर्जरी से जुड़े केसेज में कमी आई। ज्यादातर समय मास्क के अंदर चेहरा होने की वजह से लोगों ने इस सर्जरी को टाला।

पर यह भी सच है कि केवल मास्क के अलावा भी दूसरे कारणों से लोग सर्जरी नहीं करा रहे थे। कई लोग काेविड संक्रमण की वजह से हॉस्पिटल में एडमिट नहीं होना चाहते थे। बहुत सारे लोग कोविड टेस्ट कराने से भी बचना चाहते थे। इसके अलावा कोविड के दौर में ऑपरेशन से जुड़े चीजों की अनुपलब्धता को इसकी दूसरी वजह में शामिल किया जा सकता है। ”

चेहरे की सुंदरता को बढ़ाने के लिए या नाक से जुड़े डिफेक्ट्स को ठीक करने के लिए की जानेवाली नाक की सर्जरी राइनोप्लास्टी कहलाती है। यह दो तरह की होती है- एस्थेटिक और फंक्शनल राइनोप्लास्टी।
चेहरे की सुंदरता को बढ़ाने के लिए या नाक से जुड़े डिफेक्ट्स को ठीक करने के लिए की जानेवाली नाक की सर्जरी राइनोप्लास्टी कहलाती है। यह दो तरह की होती है- एस्थेटिक और फंक्शनल राइनोप्लास्टी।

सांस से जुड़ी प्रॉब्लम में मददगार राइनोप्लास्टी
नजल सेप्टम डेविएशन की प्रॉब्लम में नाक के जिस छिद्र की तरह कार्टिलेज झुका होता है, उधर से सांस लेने में परेशानी होती है। ऐसे लोगों को खर्राटे लेने की भी शिकायत पाई जाती है। ऐसे लोगों को जुकाम होता है। कार्टिलेज के कारण नाक ब्लॉक होने की वजह से लोगों के स्पीच में दिक्कत होती है। इस प्रॉब्लम में भी राइनोप्लास्टी कराई जाती है।

नाक के सेंटर में कार्टिलेज (एक विशेष प्रकार का टिश्यू) होता है। कई बार यह जन्म से ही बायीं या दायीं ओर मुड़ा होता है। इस स्थिति को नजल सेप्टम डेविएशन के नाम से जानते हैं। एक्टर रणबीर कपूरको भी नजल सेप्टम डेविएशन है।
नाक के सेंटर में कार्टिलेज (एक विशेष प्रकार का टिश्यू) होता है। कई बार यह जन्म से ही बायीं या दायीं ओर मुड़ा होता है। इस स्थिति को नजल सेप्टम डेविएशन के नाम से जानते हैं। एक्टर रणबीर कपूरको भी नजल सेप्टम डेविएशन है।

लड़के दाढ़ी से छिपा लेते हैं चेहरे की कमियां
डॉ. सुरेंद्र कुमार चावला बताते हैं कि भारत में केवल महिलाएं ही नहीं पुरुष भी बराबर संख्या में नाक का शेप सही कराने के लिए राइनोप्लास्टी करा रहे हैं। इसकी वजह है कि यह चेहरे का सबसे महत्वपूर्ण अंग होता है। किसी के चेहरे पर पहली नजर नाक पर जाकर टिकती हैं। ऐसे में महिला ही नहीं पुरुष भी नाक में कमी नजर आने पर इसे ठीक कराना चाहते हैं।
फेशियल कॉस्मेटिक सर्जरी के मामले में लड़के गंजापन और नाक को सुधारना चाहते हैं। लड़के अपनी दाढ़ी से चेहरे की कई कमियों को छिपा लेते हैं लेकिन लड़कियों के साथ ऐसा नहीं है। लड़कियां अपने स्किन को लेकर ज्यादा सचेत हो गई है।

ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ एस्थेटिक प्लास्टिक सर्जन्स की रिपोर्ट के अनुसार महिलाओं में पॉप्पुलर 6 कॉस्मेटिक सर्जरी में राइनोप्लास्टी भी शामिल है। भारत में फेशियल कॉस्मेटिक सर्जरी में राइनोप्लास्टी हमेशा से डिमांड में रही है। यह चेहरे के सेंटर में होता है और इस वजह से चेहरे की खूबसूरती काफी हद तक इस अंग पर निर्भर करती है।
ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ एस्थेटिक प्लास्टिक सर्जन्स की रिपोर्ट के अनुसार महिलाओं में पॉप्पुलर 6 कॉस्मेटिक सर्जरी में राइनोप्लास्टी भी शामिल है। भारत में फेशियल कॉस्मेटिक सर्जरी में राइनोप्लास्टी हमेशा से डिमांड में रही है। यह चेहरे के सेंटर में होता है और इस वजह से चेहरे की खूबसूरती काफी हद तक इस अंग पर निर्भर करती है।

नॉन-सर्जिकल प्रक्रिया में रुचि लेने के वजह से भी सर्जरी में कमी
प्लास्टिक सर्जन्स का यह मानना है कि आजकल लोगों में सर्जरी के बजाय नॉन सर्जिकल कॉस्मेटिक प्रक्रिया में रुचि दिखा रहे हैं। इसकी एक वजह है कि सर्जरी को लेकर मन में कई तरह के वहम होते हैं जैसे हॉस्पिटल में भर्ती होना, महंगा होने का डर, ऑपरेशन का भय। नॉन-सर्जिकल कराने वाले ज्यादातर लोगों को लगता है कि इस प्रक्रिया में किसी तरह का ‘कट’ नहीं लगेगा। इस वजह से चेहरे को सुधारने के लिए यह प्रक्रिया पसंद की जा रही है।

खबरें और भी हैं...