पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Women
  • Lifestyle
  • Taking Paracetamol During Pregnancy Increases The Risk Of Autism In The Child, This Drug Makes Toxins In The Baby's Body, Which Affects The Behavior Of Children

70,000 गर्भवती महिलाओं पर की गई रिसर्च:प्रेग्नेंसी में पेरासिटामोल लेने से बच्चे को ऑटिज्म का खतरा अधिक, यह दवा शिशु की बॉडी में टॉक्सिंस बनाती हैं जिसका असर उनके व्यवहार पर होता है

13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मेजर इंटरनेशनल स्टडी के अनुसार, प्रेग्नेंसी में बार-बार पेरासिटामोल लेने वाली महिलाओं को ऑटिज्म का खतरा अधिक रहता है। यह रिसर्च 6 यूरोपियन देशों की 70,000 गर्भवती महिलाओं पर की गई। इसका विश्लेषण यूनिवर्सिटी ऑफ बार्सिलोना की टीम ने किया। उन्होंने ये देखा कि ऑटिज्म की शिकार 56% गर्भवती महिलाओं ने प्रेग्नेंसी के दौरान पेरासिटामोल कई बार ली। दर्द से राहत के लिए प्रेग्नेंसी में सबसे ज्यादा खाई जाने वाली दवा पेरासिटामोल ही है। 65% महिलाओं ने कहा कि उन्होंने ये दवा गर्भावस्था के दौरान खाई थी। इससे पहले की गई स्टडी से ये साबित होता है कि यह दवा बच्चों के शरीर में प्रवेश करके टॉक्सिंस बनाती है। इसका असर बच्चों के व्यवहार को प्रभावित करता है।

रिसर्चर्स ने ये कहा कि गर्भावस्था में पेरासिटामोल लेना गलत नहीं है। लेकिन इसका सेवन तब ही किया जाना चाहिए जब ज्यादा जरूरत हो। इस स्टडी के को ऑथर प्रोफेसर जोर्डी सनियर के अनुसार, गर्भावस्था में पेरासिटोमोल सबसे सुरक्षित दवाओं में से एक है। लेकिन फिर भी इसके कई साइड इफेक्ट्स हैं। इसलिए गर्भवती महिलाएं इसे तब ही लें जब दर्द ज्यादा हो। पेन रिलीफ इस दवा को लेने वाली 19% महिलाओं में ऑटिज्म के लक्षण दिखाई दिए, वहीं 21% महिलाओं में अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर के कई लक्षण देखे गए। इस स्टडी का प्रकाशन यूरोनियन जर्नल ऑफ एपिडेमोलॉजी में भी हुआ।

खबरें और भी हैं...