• Hindi News
  • Women
  • Lifestyle
  • There Will Be No Tension Of Spending Thousands On Wedding Dress, Here You Will Get Free Lehengas Up To Rs 1 Lakh

लहंगे वाले अंकल:शादी में बेटियों को नहीं होगी वेडिंग ड्रेस पर हजारों खर्च करने की टेंशन, यहां 1 लाख तक के लहंगे मिलेंगे फ्री

6 दिन पहलेलेखक: पारुल रांझा
  • कॉपी लिंक
  • साल 2017 में 'दादी की रसोई' के संचालक अनूप खन्ना ने शुरू किया था 'वेडिंग वियर बैंक'

हर लड़की का सपना होता है कि वो अपनी शादी पर सबसे ज्यादा खूबसूरत दिखे। उसके इस ख्वाब में चार चांद लगाती है वेडिंग ड्रेस। मगर सबके आर्थिक हालात ऐसे नहीं होते कि वे लहंगे या गाउन पर हजारों रुपए खर्च कर सकें। पर अब जरूरतमंद महिलाओं को स्पेशल डे पर अपने आउटफिट को लेकर ज्यादा टेंशन लेने की जरूरत नहीं। नोएडा के समाजसेवी अनूप खन्ना 'वेडिंग वियर बैंक' से उनके सपनों को साकार कर रहे हैं।

इस बैंक में कोई भी अपनी शादी के कपड़े दान कर सकते हैं, जिन्हें जरुरतमंदों को उनकी शादी के लिए मुफ्त में दिया जाता है। वेडिंग या इवेंट के बाद वापस लिया जाता है। शादियों के इस सीजन में कई जरुरतमंद महिलाएं और पुरुष इस अनोखे बैंक का फायदा उठा रहे हैं। यहां 20 हजार से 1 लाख रुपये तक के लहंगे हैं।

दूसरों की वेडिंग में पहनने को भी लें सकती हैं साड़ी, ड्रेस या लहंगे
जरूरतमंद महिलाओं को अपनी वेडिंग ड्रेस के लिए कोई समझौता न करना पड़े इसी मकसद से साल 2017 में वेडिंग वियर बैंक शुरू किया गया। एक ब्राइडल ड्रेस के साथ शुरू हुए इस बैंक में आज करीब 25 लहंगे और 20 शेरवानी हैं। सिर्फ दूल्हा-दुल्हन ही नहीं, बल्कि कोई भी महिला या पुरुष किसी पार्टी इवेंट जैसे शादी, सगाई, दीवाली, डांडिया नाइट पर पहनने के लिए कपड़े ले सकते हैं।

वेडिंग बैंक में ऐसे कपड़े हैं जिन्हें किसी दुल्हन ने पहले यूज किया हो, लेकिन अब वो उनके काम के नहीं हो।
वेडिंग बैंक में ऐसे कपड़े हैं जिन्हें किसी दुल्हन ने पहले यूज किया हो, लेकिन अब वो उनके काम के नहीं हो।

वेडिंग ड्रेस दान करने वाली यूपी की अनिता बताती हैं कि सोशल मीडिया के जरिए इस पहल के बारे में जानकारी मिली। इसके बाद अपना वेडिंग ड्रेस दान करने का फैसला किया। मेरे पति को भी ये बात काफी अच्छी लगी। हम दोनों ने ही वेडिंग ड्रेस दान कर दी। ये जानकर खुशी होती हैं कि जो कपड़े सालों से अलमारी में पड़े थे, अब वो किसी के दिन को और खास बनाने के काम आ रहे हैं।

अलग-अलग स्टाइल और रंगों को चुनने का भी ऑप्शन
अनूप खन्ना कहते हैं, शादी में पहन चुके कपड़े कई बार बढ़िया होने के बावजूद हम दोबारा यूज नहीं करते, ऐसे में वो कपड़े अगर किसी जरूरतमंद के काम आएं तो इसकी खुशी का अंदाजा आप खुद लगा सकते हैं। इसलिए वेडिंग बैंक में लहंगे, गाउन या शादी के ऐसे कपड़े रखते हैं जिन्हें किसी दुल्हन ने पहले यूज किया हो, लेकिन अब वो उनके काम के नहीं हो।

वे कहते हैं, मुझे इस पहल को लोगों तक पहुंचाने में कुछ समय लगा। लेकिन अब दिल्ली-एनसीआर में ये पहल लोकप्रिय होती जा रही है। खास बात ये है कि वेडिंग वियर बैंक में लोग अपनी पसंद के हिसाब से अलग-अलग रंग और स्टाइल चुन सकते हैं। अक्सर जब आप सफाई कर्मचारी या मेड को साड़ी या कपड़े देते हैं, तो उनके पास स्टाइल, डिजाइन या रंग चुनने का कोई विकल्प नहीं होता। पर यहां उनके पास खुद के लिए मनचाहे कपड़ों को चुनने का ऑप्शन है।

इस बैंक से ब्राइडल ड्रेस के अलावा ज्वेलरी, फुटवियर, एक्सेसरीज भी जरुरतमंद ले सकते हैं।
इस बैंक से ब्राइडल ड्रेस के अलावा ज्वेलरी, फुटवियर, एक्सेसरीज भी जरुरतमंद ले सकते हैं।

देशभर से दान किए जा रहे वेडिंग वियर
सिर्फ उत्तर प्रदेश ही नहीं, बल्कि देश के अलग अलग राज्यों जैसे महाराष्ट्र, जम्मू कश्मीर, पंजाब, मध्यप्रदेश से भी वेडिंग के कपड़े लोग दान कर रहे हैं। ब्राइडल ड्रेस के अलावा ज्वेलरी, फुटवियर, एक्सेसरीज भी जरुरतमंद ले सकते हैं, ताकि वो अपनी शादी में किसी तरह की कमी महसूस न करें। ट्रेडिशनल रेड और वाइट कलर के चूड़े भी अवेलेबल है।

बता दें कि कोरोना महामारी के चलते साल 2020 में इस बैंक का ज्यादा इस्तेमाल नहीं हो पाया था। इस साल 15 ब्राइडल लहंगे बुक हो चुके हैं। ज्यादातर बुकिंग घरों में काम करने वाली मेड और सफाई कर्मचारियों की है।

बैंक से वेडिंग वियर लेने के खास नियम
इस बैंक से कपड़े लेने के कुछ खास नियम भी हैं। जो भी कपड़े उधार लेता है, उसे उन्हें ड्राई-क्लीन करवाकर वापस करना पड़ता है। इन ब्राइडल कपड़ों का मिसयूज न हो, इसके लिए आधार कार्ड या राशन कार्ड लेकर रिटर्न गारंटी ली जाती है। जब कोई व्यक्ति वेडिंग ड्रेस लेता है तो वह अगले 15 दिनों के लिए दूसरी ड्रेस नहीं ले सकता। हालांकि, इस पहल को शुरू करने के बाद से कोई मिसयूज नहीं हुआ है।

कौन बनेगा करोड़पति शो में अमिताभ बच्चन भी अनूप खन्ना की सराहना कर चुके हैं।
कौन बनेगा करोड़पति शो में अमिताभ बच्चन भी अनूप खन्ना की सराहना कर चुके हैं।

केबीसी में अमिताभ बच्चन ने की थी सराहना
बात दें कि अनूप खन्ना मात्र पांच रुपए में भूखों को स्वादिष्ट और भरपेट खाना खिलाते है। दिल्ली-एनसीआर ही नहीं, बल्कि देश-विदेश में भी इनकी 'दादी की रसोई' काफी चर्चित है। कोरोना के चलते लॉकडाउन में उन्होंने प्रवासी मजदूरों और जरुरतमंद लोगों की जमकर मदद की थी।

वे महज 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। इन सराहनीय कार्यों के लिए उन्हें राष्ट्रपति भवन में सम्मानित किया गया था। वे कौन बनेगा करोड़पति के कर्मवीर एपिसोड में हॉट सीट पर नजर आए थे। अभिनेता अमिताभ बच्चन भी उनकी पहल की काफी तारीफ कर चुके हैं।

खबरें और भी हैं...