पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Women
  • 65% Of Women's Prefer Solo Travelling, Craze Of Solo Traveling Increased Rapidly

सोलो ट्रैवलिंग:घुमक्कड़ी में महिलाओं की दावेदारी 65%, तेजी से बढ़ा सोलो ट्रैवलिंग का क्रेज

6 दिन पहलेलेखक: राधा तिवारी
  • 65 प्रतिशत महिलाएं सोलो ट्रिपर
  • क्यों कर रहीं सोलो ट्रैवल
  • हर उम्र के लोग शामिल
  • अब परिवार भी कर रहें सपोर्ट

सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय (Ministry of Statistics and Programme Implementation) के डेटा के मुताबिक देश में अकेले ट्रैवल करने वालों में आधे से ज्यादा संख्या महिलाओं की है। यानी जाहिर तौर पर वे यहां पुरुषों से बाजी मार रही हैं। बीते कुछ सालों में महिलाओं में सोलो ट्रैवल का ट्रेंड तेजी से बढ़ा। यहां तक कि कई एजेंसियां आ चुकी हैं, जो महिलाओं को अकेले सफर करने पर गाइड कर रही हैं और सेफ्टी टिप्स भी दे रही हैं।

65 प्रतिशत महिलाएं सोलो ट्रिपर
गूगल ट्रेंड्स के मुताबिक साल 2017 में 20 लाख से ज्यादा महिलाओं ने सोलो ट्रैवल के लिए वेबसाइट्स खंगाली और टिप्स खोजीं। इसमें भारतीय महिलाओं की संख्या भी कम नहीं रही होगी। कम से कम फिलहाल देश में वुमन सोलो ट्रैवल का चलन तो यही बताता है।

दिल्ली में ‘जुगनी’ नाम से ट्रैवल ग्रुप के फाउंडर नितेश चौहान का कहना है कि पुरुषों से ज्यादा महिलाएं अब सोलो ट्रिपर देखने को मिल रही हैं। बात अगर आंकड़े की करें तो आज 65% महिलाएं सोलो ट्रैवलिंग प्रेफर करती हैं। इनके मुकाबले पुरुष सोलो ट्रैवलर लगभग 35% हैं।

अपनी जिंदगी जी रहीं सोलो ट्रिपर
अपनी जिंदगी जी रहीं सोलो ट्रिपर

क्यों कर रहीं सोलो ट्रैवल
एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सोलो ट्रैवलिंग के बहुत से कारण होते हैं। कई बार ऐसे भी लोग होते हैं जो सिर्फ अपने अंदर के डर को चेक करने के लिए ट्रिप पर निकल जाते हैं और किसी ग्रुप को जॉइन कर लेते हैं और ग्रुप में ट्रैवल करते हैं। वो यह देखना चाहते है कि वे एक अजनबी के साथ ट्रिप कर सकते हैं या नहीं ?

राजस्थान के आमेर फोर्ट में जिंदगी एज़ॉय करती महिला
राजस्थान के आमेर फोर्ट में जिंदगी एज़ॉय करती महिला

दूसरी तरफ कुछ ऐसे भी ट्रैवलर होते हैं जो सारा प्लान अकेले ऑर्गेनाइज करते और घूमने निकल जाते हैं। इसमें ‘टाइम अलोन’ का कंसेप्ट भी है, यानी लोग दुनिया के शोरगुल और जिम्मेदारियों को छोड़कर कुछ समय के लिए केवल अपने साथ वक्त बिताने की सोचते हैं। महिलाएं चूंकि घर-बाहर की जिम्मेदारियों में ज्यादा उलझी रहती हैं, इसलिए ‘टाइम अलोन’ की अहमियत उनके लिए बढ़ी।

महिलाओं में बढ़ता ट्रैवलिंग का क्रेज
महिलाओं में बढ़ता ट्रैवलिंग का क्रेज

हर उम्र के लोग शामिल
हिमाचल में धर्मशाला की एक एडवेंचर कंपनी ‘मेडट्रैक’ के मालिक अर्जुन डोगरा का कहना है कि खुद के साथ वक्त बिताना हर कोई चाहता है। इसलिए हमारे यहां हर उम्र के लोग आते हैं।लेकिन कुछ सालों से विमेन सोलो ट्रैवलिंग की डिमांड बहुत बढ़ गई है। देश के हर राज्य से लोग हमारे यहां आते हैं. कई बार बड़े-बड़े एक्टर-एक्ट्रेस भी आते हैं, जो अकेले रहना चाहते हैं।

अब परिवार भी कर रहें सपोर्ट
‘गर्ल्स ऑन द गो’ ट्रैवल ग्रुप की फाउंडर पिया बोस का कहना है कि 2008 में जब मैंने शुरुआत की थी तो लोगों का कहना था कि महिलाएं कहां ट्रैवल करती हैं और उस वक्त महिलाएं कम ट्रैवल करती थी। लेकिन अब समय के साथ महिलाएं इंडिपेंडेंट होने के साथ कॉन्फिडेंट भी हो रही हैं। हर उम्र की महिलाएं अब ट्रैवल में देखने को मिल रही हैं और इसमें उनके परिवार का सपोर्ट साफ तौर पर दिख रहा है।

ऑली के पहाड़ों के बीच सुकून की जिंदगी
ऑली के पहाड़ों के बीच सुकून की जिंदगी

कोविड के बाद ट्रैवल की डिमांड
‘वांडर वुमनिया’ कंपनी के मालिक अनुज जैन का कहना है कि कोरोना के बाद अचानक से ट्रैवल की डिमांड बढ़ गई। काफी संख्या में महिलाओं ने हमारे यहां बुकिंग करवाई। कई महिलाओं का कहना था कि कोरोना काल में हमने अपने परिवार का बहुत ख्याल रखा, अब वक्त है खुद की जिंदगी जीने का।

सोलो ट्रैवलिंग क्या है?
“सोलो” एक अंग्रेजी शब्द हैं, जिसका मतलब होता हैं- “अकेला ” और जब इसी में ट्रिप या ट्रेवल से जोड़ देते हैं, तो पूरा शब्द बन जाता हैं- सोलो ट्रिप मतलब ‘अकेले घूमना.. जब भी हम सब अकेले कोई यात्रा करते हैं, तो ऐसे लोगों को सोलो ट्रिपर (Solo Tripper) या सोलो ट्रैवलर कहलाता है।

सोलो ट्रैवलिंग के फायदे

  • कॉन्फिडेंस बढ़ेगा
  • कोई रोक-टोक नहीं होती
  • मनमर्जी से प्लान बनाएं
  • निखारेगा व्यक्तित्व
नीलकंठ में सुकून के पल
नीलकंठ में सुकून के पल

सस्ते में सोलो ट्रैवलिंग का राज

1.काउचसर्फिंग

2.हिचहाइकिंग

3.हॉस्टल

ट्रैवलिंग को आसान बनाने के कुछ टिप्स

  • जगह की रखें पूरी जानकारी
  • जैसा देश, वैसा भेष रखें
  • होटल की जानकारी पोस्ट ना करें
  • होटल की करें प्री- बुकिंग
  • परिवार को देते रहें जानकारी
  • कैश को अलग-अलग जगह रखें
  • ID की फोटोकॉपी रखें

कहां से लें मदद

फेसबुक, Quora जैसे कितने ही डिस्कशन फोरम हैं, जहां दुनियाभर के घुमक्कड़ अपने अनुभव के आधार पर हर दिन लाखों लोगों की मदद करते हैं।

Travel के लिए कुछ जरूरी Apps

  • Tripadvisor
  • Accuweather
  • LiveTrekker

अपने Trip में क्या करें…(DO’S)

1. इमेरजेंसी नंबरों को हमेशा याद रखें

2. जरूरत पड़ने पर पुलिस की मदद लें

3. जरूरी पेपर्स की कॉपी ई-मेल पर सेव कर रखें

4. अपने होटल का विजिटिंग कार्ड हमेशा अपने साथ रखें

5. नया रास्ता और पता कम-से-कम 2-3 लोगों से कन्फर्म करें

अपनी यात्रा में क्या न करें ( DON'TS)

1. ट्रैवल के दौरान जूलरी ना पहनें

2. अंजान शहर में देर रात सुनसान जगहों पर घूमने से बचे

3. चलते हुए ईयरफोन लगाकर गाने ना सुनें

4. शराब या किसी भी तरह के अल्कोहल लेने से बचें

खबरें और भी हैं...