• Hindi News
  • Women
  • A March Was Taken Out From Kanyakumari To Kashmir Against Cruelty On Women, A Documentary Was Also Made

कौन हैं सृष्टि बख्शी जिनकी प्रियंका चोपड़ा ने की तारीफ:महिलाओं पर क्रूरता के खिलाफ कन्याकुमारी से कश्मीर तक निकाला मार्च, डॉक्यूमेंट्री भी बनी

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा ने समाजसेवी सृष्टि बख्शी की तारीफ की है। प्रियंका ने कहा कि सृष्टि बहादुर महिला हैं जो महिलाओं पर होने वाली क्रूरता के खिलाफ पूरे दम से लड़ रही हैं। इन्होंने महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक पैदल मार्च किया।

प्रियंका चोपड़ा ने ट्वीट किया, 'मिलिए इन बहादुर महिला से, जो महिलाओं के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के मिशन पर हैं। पूरे भारत में महिलाओं के लिए सुरक्षित सार्वजनिक स्थान बनाने की उम्मीद में, उन्होंने शिक्षित और सशक्त बनाने के लिए 2300 मील से अधिक की दूरी तय की है।'

देश भर में 2,300 मील की पैदल यात्रा
सृष्टि बख्शी भारत में महिलाओं के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के मिशन पर हैं। देश भर में 2,300 मील की पैदल यात्रा पर 1,00,000 से अधिक महिलाओं से मिलने के बाद, बख्शी ने एक डॉक्यूमेंट्री, डब्ल्यूओएमबी: वूमेन ऑफ माई बिलियन, एक मार्मिक और दिल को छू लेने वाली फिल्म बनाई थी। इस फिल्म में महिलाओं के सामने आने वाले सामाजिक और राजनीतिक चुनौतियों की चर्चा है।

महिलाओं के लिए काम कर रही सृष्टि बख्शी

सृष्टि बख्शी कहती हैं कि भारत में 60 करोड़ महिलाएं हैं। फिर भी उत्पीड़न और सुरक्षा चिंताओं के कारण सूर्यास्त के बाद उन्हें शायद ही कभी बाहर देखा जाता है। उन्होंने महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए ड्राइविंग ट्रेनिंग प्रोग्राम भी चलाया। बख्शी कहती हैं, ' सार्वजनिक स्थानों पर जितनी अधिक संख्या होगी, उतना ही उनमें आत्मविश्वास आएगा।'

मार्केटिंग प्रोफेशन से जुड़ी सृष्टि महिला अधिकारों को लेकर मुखर रही हैं। जब भी वह महिलाओं पर हमलों के बारे में पढ़ती, देखती-सुनती हैं तो हिल जाती हैं। उन्होंने भारत में हाईवे 91 रेप मामले के बारे में पढ़ा तो वह वास्तव में हिल गईं और उन्होंने इसके लिए कुछ करने का फैसला किया। द हिंदू से बातचीत में उन्होंने कहा था कि हम एक ऐसे समाज में रहते हैं जो सिर्फ अपनी परवाह करता है। हम तब तक कुछ नहीं बोलते करते हैं जब तक किसी संकट की चपेट में खुद न आ जाएं।

बख्शी ने MOWO फ्लीट बनाया है जो महिलाओं को डिलीवरी ड्राइवर और ऑन-डिमांड टैक्सी ऑपरेटरों की ट्रेनिंग देता है। महिलाएं मोटरबाइक टैक्सी या ऑटो-रिक्शा को बुला सकती हैं - एक महिला द्वारा संचालित - और यौन हिंसा के डर को कम कर सकती है।

कई अवार्ड से किया गया सम्मानित
बख्शी को महारानी एलिजाबेथ द्वितीय द्वारा भारत के लिए कॉमनवेल्थ पॉइंट्स ऑफ़ लाइट अवार्ड से सम्मानित किया गया। उन्हें संयुक्त राष्ट्र महिला अधिकारिता महिला चैम्पियन फॉर चेंज नामित किया गया। उन्होंने इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस, हैदराबाद से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर डिग्री हासिल की है।