• Hindi News
  • Women
  • Australian Girl Lost The Case, But Changed The Law, Yes Partner Is Necessary At Every Step

रेप को कोर्ट ने माना सहमति से सेक्स:ऑस्ट्रेलियाई जज के अजब फैसले से चौंकी दुनिया, बदला कानून, हर कदम पर पार्टनर की हां जरूरी

न्यू साउथ वेल्स4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स (NSW) राज्य में रेप कानून में बदलाव किया गया है। जिसे जल्द ही पूरे देश में लागू किया जाएगा। नए कानून के अनुसार, 'सहमति' के लिए व्यक्ति को बोलना होगा या अपनी हरकतों से जाहिर करना होगा। तभी उसे सहमति मानी जाएगी। अगर ये नहीं होता तो फिर उस सेक्स को रेप माना जाएगा। इस बदलाव के पीछे सैक्सन मुलिंस नाम की एक महिला की लड़ाई है। वो खुद अपना केस हार गईं लेकिन उनकी लड़ाई ना आगे महिलाओं के लिए रास्ता खोल दिया।

कानून में बदलाव आने के बाद सैक्सन कहती हैं- 'जो मेरे साथ हुआ उसे मैं बदल नहीं सकती। लेकिन अगर नया कानून किसी और के साथ ऐसा होने से रोकता है, तो निश्चित रूप से ये अच्छा है। मुझे गर्व महसूस हो रहा है।'

सैक्सन के साथ 9 साल पहले क्या हुआ था?

साल 2013 में 18 साल की सैक्सन मुलिंस सिडनी के किंग्स क्रॉस नाइट क्लब गई थीं, जब नाइट क्लब मालिक का बेटा ल्यूक लाजरस ने उनका रेप किया। 21 साल का वो लड़का सैक्सन को क्लब के पीछे एक गली में ले गया और उनके साथ जबरदस्ती की। इस घटना के कुछ ही मिनट पहले सैक्सन क्लब में ल्यूक से मिली थीं। सैक्सन अपने साथ हुई घटना के बाद फिजिकल और मेंटल दोनों तरह से काफी दर्द में थीं। उनके घुटनों में भी काफी चोटें आई थीं।

पहले दोषी फिर निर्दोष साबित हुआ

साल 2015 में लाजर को बिना सहमति के सेक्स (रेप) करने का दोषी पाया गया था। लेकिन इस फैसले के खिलाफ और इस केस पर पुनर्विचार करने की अपील मंजूर हुई तो दो साल बाद इसमें फिर से सुनवाई हुई। इसमें महिला जज ने पुराने फैसले को 'लीगल एरर' बताते हुए पलट दिया। कहा गया कि पिछले जज को सहमति के मसले पर गलतफहमी हो गई थी। इस वजह से लाजरस को रेप का दोषी माना गया था। साथ ही इस केस की तीसरी सुनवाई से भी इनकार कर दिया गया।

महिला जज ने कहा हमें तुम पर यकीन नहीं

साल 2017 में जब फैसले की घोषणा की गई, तो नए जज ने लाजरस को बरी करने का फैसला किया। सिडनी के छोटे से स्थानीय सिविल कोर्ट में जब फैसला सुनाया गया तो सैक्सन आरोपी से तीन सीट दूर बैठी थीं। वो फैसला आने के बाद चुपचाप रोती रहीं और लाजरस ने अपनी मां को गले लगाया। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा- 'मेरे लिए उसका बरी होना हैरान करने वाला था। मैं बुरी तरीके से टूट गई थी। मुझे सबसे ज्यादा धक्का इस बात से लगा कि फैसला सुनाने वाली जज महिला थी। उन्होंने फैसला सुनाते हुए कहा कि हमें आप पर विश्वास नहीं है। महिला जज ने जिस तरह से मेरे कैरेक्टर को दर्शाया, मैं इस बात से काफी दुखी थी।'

कानून में क्या बदलाव किया गया है?

1- अगर आप किसी के साथ संबंध बनाना चाहते हैं तो आपको अपने पार्टनर से बोलकर या फिर उनके जेस्चर से सहमति लेनी होगी।
2- मान लीजिए अपने अपनी पार्टनर को किस किया, अगर उन्होंने भी आपको किस किया तो वो कंसेंट माना जाएगा। लेकिन उनकी तरफ से कोई हरकत नहीं हुई तो वो जबरदस्ती होगी।
3- अब तक की सहमति का मतलब ये नहीं कि सेक्स की अनुमति मिल गई है। इसे ऐसे समझिए अगर आप दोनों ने एक-दूसरे को किस किया तो इसका मतलब ये नहीं है कि आपको सेक्स करने की इजाजत मिल गई है। आगे की प्रोसेस में भी बराबर की भागीदारी होनी चाहिए।
4- तीसरी बात कि सेक्शुअली इनवॉल्व होने के दौरान किस भी पाइंट पर अगर आपका पार्टनर पीछे हटना चाहता है तो आप आगे नहीं बढ़ सकते हैं। आपको उस वक्त वो एक्ट रोकना पड़ेगा। अगर आप ऐसा नहीं करते तो वो रेप माना जाएगा।

खबरें और भी हैं...