• Hindi News
  • Women
  • Border Film's Actor Hemant And Wife Jyothika's Life Is Not Tied In Any Routine, But The Mold Of Life Is Love.

कपल ऑफ द वीक:बॉर्डर फिल्म के एक्टर हेमंत और वाइफ ज्योतिका की लाइफ किसी रूटीन में नहीं बंधी, पर जिंदगी का सांचा मोहब्बत है

4 महीने पहलेलेखक: मीना
  • कॉपी लिंक

ऐसे कपल जिनकी जिंदगी 9 टू 5 वाली नौकरी में फिट नहीं होती। वे हर छुट्टी पर, फैमिली ट्रिप पर नहीं जा सकते। कई बार दोनों को एक-दूसरे से शिकायत रहती है कि दूसरे के पास टाइम नहीं। आज के सातवें कपल ऑफ द वीक में हम आपको एक ऐसी जोड़ी से मिलाने जा रहे हैं, जो सिनेमा जगत से जुड़ा होकर भी हैप्पी मैरिड लाइफ को एंजॉय कर रहा है। बॉर्डर फिल्म में काम कर चुके एक्टर हेमंत चौधरी और फैशन डिजाइनर ज्योतिका झा ने बताया कि वे कैसे मिलकर अपनी प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को मैनेज करते हैं।

बॉर्डर, अजहर, वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई जैसी फिल्मों और झांसी की रानी, थपकी प्यार की, वीर शिवाजी, सिया के राम, घराना जैसे बड़े टीवी सीरियल्स में काम कर चुके एक्टर हेमंत चौधरी कहते हैं कि मैं जब शादी के लिए ख्वाब बुनता था तो सोचता था कि मेरी वाइफ फिल्म इंडस्ट्री से न हो और किस्मत देखिए कि मुझे प्यार हुआ भी तो नॉन फिल्मी बैकग्राउंड वाली लड़की से।

एक्टर्स की लाइफ बहुत उथल-पुथल वाली होती है। लंबे शूट्स, लंबा वक्त घर से बाहर रहना, दिन-रात कभी भी शूट पर जाना…ऐसे ही हेक्टिक शिड्यूल रहते हैं।ऐसे में हेमंत नहीं चाहते थे कि जब वे काम से वापस घर आएं तो यहां वापस ‘लाइट, कैमरा एक्शन’ वाला सीन देखने को मिले। हेमंत खुद को फैमिली मैन कहते हैं। उन्हें फैमिली चाहिए थी जो ज्योतिका के रूप में उन्हें मिली।

हेमंत और ज्योतिका की पहली मुलाकात एक पार्टी में हुई।
हेमंत और ज्योतिका की पहली मुलाकात एक पार्टी में हुई।

आप दोनों की लव लाइफ की शुरुआत कैसे हुई? इस सवाल के जवाब में ज्योतिका कहती हैं हमारी लव लाइफ खट्टी-मीठी है। इसमें प्यार, गुस्सा, तकरार सबकुछ है। हम दोनों पहली बार एक पार्टी में मिले। उस समय मैं 11वीं क्लास में थी और हेमंत 24 साल के एक ऐसे नौजवान, जो फिल्म जगत में स्ट्रगल कर रहे थे। मुझे इनकी सादगी और इन्हें मेरा चुलबुलापन पसंद आया। बस इन्हीं खूबियों ने हमें एक दूसरे की ओर खींचा और जब मालूम हुआ कि हम दोनों के रूट्स बिहार से ही जुड़े हैं तो शादी में कोई मुश्किल भी नहीं आई।

बॉर्डर फिल्म की शूटिंग और शादी कनेक्शन
हेमंत बताते हैं कि उस समय मैं बॉर्डर फिल्म की शूटिंग कर रहा था और मुझे खबर मिली कि मेरे पिता जी गुजर गए तो मुझे बिहार आना पड़ा। पिता जी के जाने के बाद मुझ पर भी शादी का प्रेशर बढ़ने लगा। साल 2000 में ज्योतिका और मैंने शादी कर ली। ज्योतिका उस समय फैशन डिजाइनिंग के फर्स्ट ईयर में थीं। ज्योतिका कहती हैं कि हम दोनों में अच्छा-खासा एज गैप है। इसके लिए मुझे रिश्तेदारों से बहुत ताने सुनने को मिले। लेकिन सच पूछों तो प्यार ताने कहां सुनता है, प्यार तो प्यार होता है। हा हा हा…

बुरे वक्त में पत्नी बनी बैकबोन
फिल्म इंडस्ट्री एक ऐसी दुनिया है जहां जॉब सिक्योरिटी नहीं होती। ऐसे में एक्टर फाइनेंशियली और इमोशनली दोनों स्तरों पर जूझता है। पिता के जाने के बाद हेमंत इमोशनली बिखर गए। हेमंत के मुताबिक, 2004 से लेकर 2006 तक ये साल अंधेरे में बीते। उनके लिए ये वो साल थे जब वे फैमिली प्रॉब्लम्स की वजह से बेहद परेशान थे। बॉर्डर जैसे वैसे बड़े प्लेटफॉर्म्स पर काम नहीं मिल रहा था। इस बुरे वक्त में मेरी वाइफ मेरी बैकबोन बनीं और उन्होंने मुझे गिरने नहीं दिया।

ज्योतिका कहती हैं कि मैंने कत्थक में ग्रेजुएशन किया है। मैं पेंटर, सिंगर और डांसर रही हूं। कई मेडल भी जीते हैं। बहुत ज्यादा एंबिशियस थी, लेकिन शादी के बाद घर, बच्चे की जिम्मेदारी आने पर करिअर को साइड में कर दिया। पर मुझे खाली बैठने की आदत नहीं है। जब ऊबने लगी तो फिर से काम शुरू कर दिया।

ज्योतिका को हेमंत की सादगी और हेमंत को ज्योतिका का चुलबुलापन पसंद आया।
ज्योतिका को हेमंत की सादगी और हेमंत को ज्योतिका का चुलबुलापन पसंद आया।

‘झांसी की रानी’ बना टर्निंग प्वॉइंट
हेमंत ‘बॉर्डर’ जैसे किसी प्रोजेक्ट् का इंतजार कर रहे थे लेकिन उन्हें वैसा काम मिल नहीं रहा था इसलिए उन्हें लगा कि फैमिली चलाने के लिए काम करना जरूरी है। तब उन्होंने फिल्म जगत छोड़ टीवी धारावाहिकों की दुनिया को रोजी-रोटी का जरिया बनाया। हेमंत कहते हैं कि मुझे यहां अच्छे से वेलकम किया गया।

2010 में ‘झांसी की रानी’ सीरियल मेरी लाइफ का टर्निंग प्वॉइंट साबित हुआ। इसके बाद मुझे तमाम टीवी सीरियल्स के ऑफर मिलने लगे। चूंकि, उस समय मुझे धड़ाधड़ काम मिल रहा था तो मैं छुट्टी पर जाने की बात नहीं करता था, डरता था कि कहीं मुझे साइड लाइन न कर दिया जाए। इसी वक्त मेरी फैमिली ने गोवा जाने का प्लान बनाया और मैं उनके साथ नहीं जा पाया। ऐसे कई पल मेरी जिंदगी में आए जब फैमिली को टाइम नहीं दे पाने की वजह से मन मसोसकर कर गया।

बुरे वक्त में फैमिली बनी संजीवनी
एक शो खत्म होता कि मैं दूसरे शो के इंतजार में रहता। एक शो से दूसरे शो का अंतराल मेरे लिए दर्दनाक होता। ऐसे वक्त में मेरी फैमिली मेरे लिए संजीवनी बनती। खाली और बुरे वक्त में जिन लोगों के साथ फैमिली नहीं होती वे कितने गलत कदम उठा लेते हैं ये हम सभी ने देखा है।

अकेलापन कई बार खटकता था : ज्योतिका
हेमंत की इस बात के बाद ज्योतिका कहती हैं कि हेमंत के काम की टाइमिंग फिक्स नहीं हैं। इस वजह से मुझे कई बार अकेले ही घूमने जाना पड़ता। बहुत से काम जो हम दोनों को साथ करने थे वो मुझे अकेले ही करने पड़े। अकेलापन कई बार खटकता भी था। मैं बाकी कपल्स को देखती थी कि सब जोड़े से साथ जा रहे हैं और मैं अकेली हूं। फिर मुझे लगा कि हेमंत का काम तो रोज कुआं खोदो और पानी पिओ वाला है। कभी-कभी हेमंत डिस्टर्ब भी होते थे तब मैं इन्हें यही कहती थी कि ये लाइन ऐसी है जहां शाहरुख खान भी इनसिक्योर हैं। हा हा हा…

ज्योतिका और हेमंत का रिलेशनशिप स्कोर।
ज्योतिका और हेमंत का रिलेशनशिप स्कोर।

हमेशा रही वर्किंग : ज्योतिका
इस बीच मैंने लेक्चरर और डिजाइनर के तौर पर काम किया और बच्चों को भी साथ में पाला। अब बड़ा बेटा 20 साल का और बेटी 13 साल की है। अब अपना ‘ज्योतिका’ नाम का फैशन ब्रांड शुरू किया है।

लॉकडाउन में बहुत कुछ सीखने को मिला और यह भी समझ आया कि जिंदगी एक बार ही मिलती है और उसे जी लेना चाहिए। इस वक्त मुझे लगा कि भगवान ने मुझे इतना टैलेंट दिया है तो मैं पुराने फर्नीचर की तरह उसे समेटकर क्यों रखूं। फिर मैंने मिसिज इंडिया 2021 में जाने का फैसला लिया और ऑडिशन्स, इंटरव्यु, कैटवॉक के बाद फाइनलिस्ट बनी और ‘टाइमलेस ब्यूटी’ का खिताब मेरे नाम हुआ। मेरे लिए ये बड़ा अचीवमेंट था और करिअर का बूस्टर शॉट भी।

वाइफ की वजह से लाइफ को बैलेंस कर पाया : हेमंत
हेमंत कहते हैं कि अगर मुझे ज्योतिका जैसी लाइफ पार्टनर नहीं मिलती तो मेरी लाइफ में ये बैलेंस नहीं आ पाता जो आज है। करिअर की शुरुआत में मैं छुट्टी लेने से घबराता था क्योंकि ये लाइन ऐसी है जहां कट थ्रॉट कॉम्पीटिशन है। हजारों लोग एक रोल के लिए लाइन लगाए बाहर खड़े रहते हैं। पर मुझे फैमिली चलानी थी इसलिए काम जरूरी था। जिंदगी के 15-20 साल टीवी इंडस्ट्री में निकालने के बाद मैं अपनी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ को बैलेंस कर पाया।

अब मैं अपने शिड्यूलर को तीन महीने पहले ही बता देता हूं कि मुझे 10 दिन के लिए फैमिली के साथ बाहर जाना है उस समय मुझे कोई डिस्टर्ब मत करना। हेमंत की इस बात के बाद ज्योतिका चुटकी लेते हुए कहती हैं कि ‘इन्हें ऐसा लगता है कि ये अब हमारे लिए टाइम निकाल पाते हैं लेकिन बच्चों को आज भी शिकायत रहती है कि पापा आप वेकेशन में नहीं रहेंगे तो वो कंप्लीट छुट्टी नहीं होगी और मुझे तो अब इनकी आदतों की आदत हो गई है। अब सब कुछ बैलेंस खुद-ब-खुद हो जाता है।’

दोनों के बीच नोकझोंक के बाद भी प्यार बना रहता है।
दोनों के बीच नोकझोंक के बाद भी प्यार बना रहता है।

नोकझोंक भी और प्यार भी
रूठने पर कौन किसको मनाता है? इस सवाल के जवाब में ज्योतिका कहती हैं कि ये (हेमंत) तो मुझे बिल्कुल नहीं मनाते। पीछे से हेमंत की आवाज आती है ‘ये झूठ बोल रही है।’ ‘नहीं..इनमें बहुत सारा ईगो भरा हुआ है’-ज्योतिका कहती हैं। हा हा हा…

हमारी नोंकझोंक किसी भी बात पर हो सकती है जैसे-अगर मैं दिखने में सुंदर हूं और किसी पार्टी में हूं और वहां कोई मुझसे दो मिनट ज्यादा बात कर ले तो हेमंत जल भूनकर राख हो जाते हैं। इनका खुद का मिजाज फ्लर्टी है जो मुझे परेशान करता है, लेकिन अब कुछ नहीं हो सकता क्योंकि हम दोनों ही एक-दूसरे को समझते हैं और यह भी जानते हैं कि कोई सुधरने वाला नहीं। ये बात बोलकर ज्योतिका हंस पड़ीं। ज्योतिका कहती हैं कि हमारा रिश्ता खट्टा-मीठा है और एक-दूसरे के विश्वास पर टिका है। इस इंडस्ट्री में कपल्स वैसे टिकाऊ होते नहीं हैं, लेकिन ये भगवान की कृपा है कि हमारा रिश्ता आज भी खूबसूरत और जवान है।

हेमंत और ज्योतिका खाली समय में वेबसीरीज देखते हैं। हेमंत को खाने का बहुत शौक है तो दोनों साथ में बाहर खाना खाने जाते हैं। कोशिश रहती है कि फैमिली फिल्मी न होकर नॉर्मल बनी रहे और जिंदगी महकती रहे।

खबरें और भी हैं...