• Hindi News
  • Women
  • Breakup After 10 Months Of Operation, Donated Organ To Husband's Ex wife

बॉयफ्रेंड को दी किडनी, उसने दूसरी लड़की से बनाए रिलेशन:ऑपरेशन के 10 महीने बाद ब्रेकअप, किसी ने पति की एक्स-वाइफ को डोनेट किया ऑर्गन

नई दिल्ली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

टिकटॉकर कोलीन ने अपने बॉयफ्रेंड को बचाने के लिए अपनी जान दांव पर लगा दी लेकिन बदले में उसे धोखा मिला। लड़की ने अपनी कहानी लोगों के साथ शेयर की है जिसे हर कोई पढ़कर भावुक हो जा रहा है। कोलीन ने बताया कि जब उसने अपने बॉयफ्रेंड को किडनी दान की थी, तो उसकी हालत मरने के जैसे थी। गर्लफ्रेंड ने बताया कि उसका बॉयफ्रेंड बहुत ही गंभीर बीमारी से जूझ रहा था। अगर वह अपनी किडनी न देती तो शायद ही उसकी जान बच पाती।

6 महीने के प्यार में दी किडनी
लड़की का नाम कोलीन ली (Coleen Lee) है। जब वह लड़की अपने बॉयफ्रेंड के साथ रिलेशनशिप में आई थी तो उसे किडनी की बीमारी थी। उसका बॉयफ्रेंड उम्र में उससे छोटा था और 17 साल की उम्र में ही उसे किडनी ट्रांसप्लांट की जरूरत थी।

गर्लफ्रेंड सिर्फ 6 महीने में ही अपने बॉयफ्रेंड से इतना प्यार करने लगी थी कि उसने उसे अपनी किडनी देने का फैसला किया। लेकिन किडनी मिलते ही बॉयफ्रेंड उसे धोखा देकर फरार हो गया।
गर्लफ्रेंड सिर्फ 6 महीने में ही अपने बॉयफ्रेंड से इतना प्यार करने लगी थी कि उसने उसे अपनी किडनी देने का फैसला किया। लेकिन किडनी मिलते ही बॉयफ्रेंड उसे धोखा देकर फरार हो गया।

ठीक होने के बाद तोड़ा रिलेशन
हालांकि, किडनी पाने के बाद बॉयफ्रेंड पूरी तरह ठीक हो गया और सात महीने बाद लास वेगास की बैचलर ट्रिप पर गया। जब वह वापस आया तो उसने बताया कि वहां पर उसने किसी और लड़की के साथ रिलेशन बनाकर उसे धोखा दिया। इस बात के सामने आने के बाद भी गर्लफ्रेंड ने उसे एक मौका और दिया। हालांकि, इसके तीन महीने बाद बॉयफ्रेंड ने उससे रिश्ता तोड़ लिया और हर जगह से ब्लॉक करके पूरी तरह से दूर हो गया।

कोलीन ने सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा था, 'अपने बॉयफ्रेंड को किडनी देकर मैं बहुत खुश हूं, क्योंकि उसे दूसरा जीवन मिला।'
कोलीन ने सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा था, 'अपने बॉयफ्रेंड को किडनी देकर मैं बहुत खुश हूं, क्योंकि उसे दूसरा जीवन मिला।'

लड़की को सोशल मीडिया पर खूब समर्थन
इसी वीडियो में आगे खुलासा करते हुए वह बताती है कि आखिरकार उसने धोखा दिया। इसके साथ ही वीडियो में दिखता है कि वह बिस्तर पर गिर पड़ती है। इस खुलासे के बाद लड़की को खूब समर्थन मिला है और उसके 48,000 फॉलोवर्स बढ़ गए। उसने एक के बाद कई वीडियो में पूरी कहानी समझाई है। अधिकांश धोखा देने के लिए लड़के की कड़ी आलोचना कर रहे हैं। एक यूजर ने लिखा "इसका सबसे खूबसूरत हिस्सा ये है कि आपकी प्यार करने की योग्यता गजब की है- आपको खुद पर गर्व करना चाहिए।" एक यूजर ने लिखा कि आपको किडनी वापस ले लेनी चाहिए। अगर वह आपके बिना जी सकता है तो आपकी किडनी के बिना भी जी सकता है।

ऐसे ही कई चर्चित मामले देखने को मिले हैं...

गर्लफ्रेंड की मां को दी किडनी, लड़की ने दिया धोखा
मेक्सिको सिटी के उजील मार्टिनेज ने दावा किया है कि उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड की मां को अपनी एक किडनी दी थी लेकिन उसके एक महीने के बाद ही उनकी गर्लफ्रेंड ने उन्हें धोखा दे दिया। ऑपरेशन के कुछ ही हफ्तों के अंदर गर्लफ्रेंड ने किसी और से शादी कर ली।

बॉयफ्रेंड को इस बात पर यकीन नहीं होता कि इतना कुछ निस्वार्थ भाव से करने के बाद भी उनके साथ ऐसा धोखा हो सकता है।
बॉयफ्रेंड को इस बात पर यकीन नहीं होता कि इतना कुछ निस्वार्थ भाव से करने के बाद भी उनके साथ ऐसा धोखा हो सकता है।

पति की एक्स वाइफ को किडनी देकर बचाई जान
अमेरिका के फ्लोरिडा में एक महिला ने अपने पति की पूर्व पत्नी को किडनी देकर उसकी जान बचाई है। मामला फोर्ट लॉडरडले का है और किडनी दान करने वाली इस महिला का नाम है डेबी वी नील स्ट्रिकलैंड। खास बात यह है कि उन्होंने शादी के दो दिन बाद ही पति की पहली पत्नी को किडनी दे दी।

इससे पहले उनके बच्चों की शादियों और अन्य वजहों से उनकी शादी टलती जा रही थी। इसी बीच जिम की पहली पत्नी मायलेन को किडनी की बीमारी हो गई। धीरे-धीरे बीमारी गंभीर हो गई और हालात ये हो गए कि अब मायलेन की किडनी सिर्फ 8% ही काम कर रही थी। उनके लिए कई रिश्तेदारों ने किडनी देने की पेशकश की, लेकिन किसी की भी मेडिकल कंडीशन मायलेन से मैच नहीं हुई। उधर जिम और डेबी शादी की प्लानिंग कर रहे थे। इसी बीच जिम की बेटी मां बनने वाली थी और मायलेन मौत के करीब जा रही थी। जब डेबी को इसका पता चला तो उन्होंने जिम से बात करके मायलेन को किडनी डोनेट करने की इच्छा जताई।

जिम और उनकी पत्नी मायलेन का 20 साल पहले तलाक हो चुका है। हालांकि दोनों मिलकर अपने दोनों बच्चों की देखभाल कर रहे हैं। वहीं डेबी ने 10 साल तक डेट करने के बाद जिम से शादी की है।
जिम और उनकी पत्नी मायलेन का 20 साल पहले तलाक हो चुका है। हालांकि दोनों मिलकर अपने दोनों बच्चों की देखभाल कर रहे हैं। वहीं डेबी ने 10 साल तक डेट करने के बाद जिम से शादी की है।

कायम की मानवता की मिसाल
देहरादून में रहने वाली 48 साल की सुषमा उनियाल और 46 वर्षीय सुल्ताना खातून ने, एक दुसरे के पति की जान बचाने के लिए किडनी दान करने का निर्णय लिया था। दोनों महिलाओं के पति किडनी की गंभीर बीमारी से पीड़ित थे और उन्हें किडनी डोनेशन की जरूरत थी। ऐसे में, दोनों महिलाओं ने एक दूसरे की मदद करने की ठान ली।

अब दोनों परिवार एक दूसरे को अपना परिवार मानते हैं।
अब दोनों परिवार एक दूसरे को अपना परिवार मानते हैं।

जब विकास उनियाल की पत्नी सुषमा उनियाल से पूछा गया, तब उन्होंने बताया कि वह सुल्ताना खातून का आभार शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकती। उन्होंने बताया, “सुल्ताना खातून के परिवार ने मेरी मदद की है, जिसे मैं जिंदगी में कभी भी नहीं भुला सकती। हमने एक-दूसरे की मदद करने का फैसला किया है और हमारे परिवार में खुशहाली का माहौल है।”

ऑर्गन डोनेशन में महिलाएं हैं आगे
इंडियन ट्रांसप्लांट रजिस्ट्री के मुताबिक देश में जीते जी ऑर्गन डोनेट करने वालों में महिलाएं 65% हैं। जबकि मरने के बाद अंगदान करने वालों में 80% पुरुष हैं। दिल्ली, मुंबई, चेन्नई के अस्पतालों से बात करने पर पता चला कि पति की जान बचाने के लिए किडनी देने वाली 87% पत्नियां ही होती हैं। वहीं पत्नियों की जान बचाने में ऐसे पुरुषों का प्रतिशत सिर्फ 13 ही है। 2002 से 2006 के बीच 17.2% डोनर पत्नी थीं। जो अब बढ़कर 34% हो गई हैं। चेन्नई के मोहन फाउंडेशन के फाउंडर डॉ. सुनील श्रॉफ ने बताया कि महिलाएं ज्यादा त्याग करती हैं। प्यार और केयर करने के गुण महिलाओं में ज्यादा होते हैं।

ऑर्गन नहीं मिलने से हर साल 5 लाख मौत
नेशनल हेल्थ पोर्टल के मुताबिक भारत में हर साल 5 लाख लोगों की मौत समय पर ऑर्गन नहीं मिलने की वजह से होती है। जबकि कहा जाता है कि एक इंसान अपने ऑर्गन डोनेट कर 8 लोगों को नया जीवन दे सकता है।

कौन कर सकता है अंगदान
अगर आप 18 साल के हैं या उस से अधिक उम्र के हैं तो अंग दान के लिए रजिस्ट्रेशन आप अपनी मर्जी से करवा सकते हैं। लेकिन यदि कोई 18 वर्ष से कम आयु का है, तो उसे अंगदान करने के लिए माता-पिता या अभिभावक की सहमति की आवश्यकता होती है। अगर आप मृत्यु के बाद अंगदान के लिए रजिस्ट्रेशन करवाते हैं तो उस व्यक्ति का पहले चेकअप किया जाएगा। ताकि ट्रांसप्लांट करने वाली टीम पता लगा सके कि शख्स के कौन से अंग दान किए जा सकते हैं।

कौन नहीं कर सकता अंगदान
अंगदान हर व्यक्ति नहीं कर सकता है। उदाहरण के लिए यदि कोई डोनर किसी क्रोनिक डिजीज जैसे कैंसर, एचआईवी, फेफड़े या फिर हार्ट डिजीज से ग्रस्त हो तो वो अंग दान नहीं कर सकता है। किडनी प्रत्यारोपण की यदि बात करें तो डाईबिटीज़, अनियंत्रित बीपी, कैंसर आदि की समस्या से जूझ रहे लोग किडनी दान नहीं कर सकते।

कहां करें ऑर्गन डोनेशन?
अंगदान के लिए www.rnos.org, www.notto.nic.in या mohanfoundation.org रजिस्टर कर सकते हैं। या टोल फ्री नंबर 1800114770, 18001037100 पर संपर्क कर सकते हैं। रजिस्ट्रेशन के बाद जारी कार्ड की जानकारी परिजनों को दें ताकि वे ब्रेनडेड होने पर जानकारी हॉस्पिटल को दे सकें। रजिस्ट्रेशन न होने पर भी इन नंबर पर संपर्क कर अंगदान करा सकते हैं।