• Hindi News
  • Women
  • Comment Of An Italian Court Girl Did Strange Acts By Drinking Too Much, Created A Ruckus

'लड़की ने युवक को सेक्शुअल-असॉल्ट के लिए उकसाया, आरोपी निर्दोष':इटली कोर्ट की अजब टिप्पणी, कहा-पीड़िता ने अपनी हरकतों से किया था उत्तेजित, मचा बवाल

ट्यूरिन5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इटली की एक अदालत ने दोषी युवक को महिला के यौन उत्पीड़न के मामले में निर्दोष करार दिया है। जज ने निर्णय देते हुए कहा कि महिला ने शराब पी रखी थी और उसने अपनी हरकतों से युवक को उत्तेजित कर दिया था। कोर्ट ने साल 2019 में अन्य कोर्ट के निर्णय को पलटते हुए यह फैसला दिया है। पिछले निर्णय में कोर्ट ने इस व्यक्ति को दोषी मानते हुए 2 साल से ज्यादा समय कारावास का दंड सुनाया था।

मामला सेंट्रल ट्यूरिन बार का था जहां टॉयलेट में यह वाकया हुआ।

जज ने कहा- महिला ने ज्यादा मात्रा में अल्कोहल का सेवन कर लिया था जिससे युवक को आगे बढ़ने का मौका मिला। दूसरे, महिला ने टॉयलेट का दरवाजा बंद नहीं किया था, यह युवक आमंत्रित करने का इशारा था जो कि दरवाजे के पीछे इंतजार कर रहा था। वहीं, महिला का कहना था कि उसने हमेशा इस तरह के व्यवहार से दूरी बनाए रखी है और कभी उस युवक को ऐसा करने की इजाजत नहीं दी।

हैरान करने वाली बात यह है कि युवक ने स्वीकार किया कि उसने लड़की के कपड़े उतारे थे, पर कोर्ट ने कहा कि उसके ट्राउजर्स की चैन पुरानी और कमजोर थी जिससे उसका लॉक टूट गया और लड़की के कपड़े अपने-आप उतर गए।

कोर्ट के इस फैसले की राजनेताओं और महिला अधिकार समूहों ने निंदा की है।

लीग की सांसद लाउरा रवेट्‌टो ने इस फैसले को बेतुका कहा। वहीं, महिला के प्रोसिक्यूटर ने कहा कि इस मामले को हम बड़ी अदालत में ले जाएंगे।

5 साल पहले एक और ऐसा मामला आया था, महिला चिल्लाई नहीं तो कोर्ट ने नहीं माना था रेप

इटली में एक अदालत पहले भी ऐसा चौंकाने वाला फैसला सुना चुकी है। साल 2017 में इटली की एक अदालत ने रेप आरोपी एक शख्स को इसलिए बरी कर दिया क्योंकि रेप के वक्त पीड़ित मदद के लिए चिल्लाई नहीं थी। उत्तरी इटली के ट्यूरिन की एक कोर्ट ने 46 वर्षीय आरोपी को केवल इस बिना पर बरी कर दिया क्योंकि अस्पताल की बेड पर रेप के वक्त महिला ने मदद के लिए आवाज नहीं लगाई।

कोर्ट ने महिला का रेप के समय अपने एक पूर्व सहकर्मी को 'Enough (पर्याप्त)' कहना कमजोर प्रतिक्रिया बताई थी। फैसले में कहा गया था कि वह न तो चिल्लाई और न उसने मदद मांगी, जिससे ये साबित नहीं हो सकता की उसका रेप किया गया है।' इस फैसले ने भी इटली में उस समय बड़ा विवाद पैदा कर दिया था।