• Hindi News
  • Women
  • Democracy Poster Was Waved At The Crossroads Of Beijing, China Teased When She Met The Dalai Lama

अमेरिकी स्पीकर की चीनी पत्रकार से शादी की फर्जी-फोटो वायरल:नैंसी पेलोसी ने बीजिंग के चौराहे पर लहराया था डेमोक्रेसी पोस्टर, दलाई लामा से मिलीं तो चिढ़ा चीन

नई दिल्ली4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिकी संसद के सदन हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्स की स्पीकर नैंसी पेलोसी इन दिनों चर्चा में हैं। उन्होंने ताइवान जाकर चीन को आंख दिखाई है। बता दें कि चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है और दुनिया के किसी भी देश का ताइवान से संबंध देख कर भड़क जाता है।

आज कल नैंसी की एक फोटो भी वायरल हो रही है। जिसमें वो एक चीनी व्यक्ति के साथ नजर आ रही हैं। इस फोटो के बारे में कहा गया कि नैंसी ने जवानी के दिनों चीनी पत्रकार से शादी की थी। लेकिन जर्मन ब्रॉडकास्टर DW ने अपने फैक्ट चेक में इस दावे को फर्जी बताया है। नैंसी ने कभी किसी चीनी नागरिक से शादी नहीं की। कहा जा रहा है कि इस तरह के मैसेज चीन प्रायोजित सोशल मीडिया अकाउंट्स नैंसी को बदनाम करने के लिए फैला रहे हैं।

नैंसी इससे पहले भी चीन की आंखों की किरकिरी रही हैं। उन्होंने अपनी राजनीति के शुरुआती दिनों से चीन विरोधी रुख बनाए रखा।

नैंसी की एक फोटो से छेड़छाड़ कर चीनी पत्रकार से उनकी शादी का झूठा दावा किया जा रहा है।
नैंसी की एक फोटो से छेड़छाड़ कर चीनी पत्रकार से उनकी शादी का झूठा दावा किया जा रहा है।

अमेरिका की तीसरी सबसे ताकतवर नेता हैं नैंसी

नैंसी पेलोसी राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति के बाद अमेरिका की तीसरी सबसे ताकतवर नेता हैं। नैंसी अमेरिका के एक राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखती हैं। उनके पिता और भाई एक अमेरिकी शहर के मेयर रहे हैं। 1987 में पहली बार सांसद बनीं नैंसी 2007 में स्पीकर बनी थीं। 81 साल की नैंसी का यह चौथा कार्यकाल है।

राष्ट्रपति जो बाइडेन और उप राष्ट्रपति कमला हैरिस के बाद नैंसी तीसरी सबसे महत्वपूर्ण अमेरिकी नेता हैं।
राष्ट्रपति जो बाइडेन और उप राष्ट्रपति कमला हैरिस के बाद नैंसी तीसरी सबसे महत्वपूर्ण अमेरिकी नेता हैं।

भारत में दलाई लामा से मुलाकात कर चीन को चिढ़ाया

चीन निर्वासित तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा को अपना दुश्मन मानता है। किसी भी देश के नेता से उनकी मुलाकात पर चीन भड़क जाता है। बावजूद इसके नैंसी पेलोसी ने अपने दो भारत दौरों पर दलाई लामा से जाकर मुलाकात की। 2008 और 2017 में नैंसी ने भारत में दलाई लामा से मुलाकात की थी। दोनों बार चीन ने उनकी कड़ी आलोचना की।

चीन में जाकर लहराया था लोकतंत्र समर्थक पोस्टर

1991 में सांसद रहते हुए नैंसी एक प्रतिनिधिमंडल के साथ चीन के दौरे पर गई थीं। इस दौरे पर उन्होंने राजधानी बीजिंग के मशहूर थियानमेन चौराहे पर पहुंचकर चीन का विरोध किया। नैंसी और उनके साथी अमेरिकी सांसदों ने लोकतंत्र समर्थक पोस्टर लहराए। बता दें कि थियानमेन चौराहे पर ही चीन ने 1989 में हजारों लोकतंत्र समर्थकों को तोप से उड़ा दिया था।

25 साल में किसी अमेरिकी नेता का पहला ताइवान दौरा

नैंसी पेलोसी का ताइवान दौरा इस लिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि वे पिछले 25 सालों में ताइवान का दौरा करने वाली पहली प्रमुख अमेरिकी नेता हैं। मुखरता, लंबे राजनीतिक-कूटनीतिक अनुभव और सशक्त वैश्विक नेता की छवि को देखते हुए ही अमेरिकी प्रशासन की ओर नैंसी को इस अति महत्वपूर्ण दौरे के लिए चुना गया।