• Hindi News
  • Women
  • Dussehra Diwali Season Women Are The Best Investors Gold Is The First Choice Of Women Of Every Age Leaving FD And Doing Digital Investment, Cryptocurrency Stock Market

खर्च नहीं, बचत में आगे हैं महिलाएं:हर उम्र की महिला की पहली पसंद गोल्ड, FD छोड़ डिजिटल इन्वेस्टमेंट कर रहीं, क्रिप्टोकरंसी- शेयर मार्केट पर भी नजर

नई दिल्ली2 दिन पहलेलेखक: दिनेश मिश्र
  • कॉपी लिंक
निवेश को लेकर बदल रही महिलाओं की सोच। - Dainik Bhaskar
निवेश को लेकर बदल रही महिलाओं की सोच।
  • कोरोना के दौरान ज्यादातर युवा महिलाओं ने किया डिजिटल इन्वेस्टमेंट
  • युवा महिलाओं ने फिक्स्ड डिपॉजिट के बजाय स्टॉक मार्केट में लगाया पैसा
  • हर उम्र की महिलाओं को ज्यादा मुफीद लगता है सोने में निवेश करना

देश में दशहरा और दिवाली जैसे त्योहारों की तैयारियां चल रही हैं। त्योहारों के सीजन में अक्सर घर का बजट गड़बड़ा जाता है। लेकिन इस बीच खबर आई है कि घर का बजट संभालने वालीं महिलाएं बचत और निवेश के मामले में ज्यादा समझदारी दिखाती हैं। देश भर की महिलाएं अब पारंपरिक रूप से सोने में ही नहीं, क्रिप्टोकरंसी और रीयल एस्टेट में भी निवेश से सपने साकार कर रही हैं। भारत और अमेरिका में हुए अध्ययनों से यह बात सामने आई है।

देश में इस साल कराए गए सर्वे के अनुसार, महिलाओं के क्रिप्टोकरंसी, सोना, रीयल एस्टेट जैसे क्षेत्रों में निवेश करने की कई वजहें हैं। किसी की घूमने की इच्छा है, किसी को ऊंची शिक्षा लेनी है तो किसी को परिवार की बेहतरी के लिए पैसे जुटाना है। वहीं, हाल ही में अमेरिका में हुए एक नए अध्ययन के मुताबिक, महिलाएं निवेश के मामले में पुरुषों को भी मात दे रही हैं। आइए, जानते हैं कि निवेश को लेकर महिलाओं की सोच किस तरह से बदल रही है।

किसी ने टैक्स बचाकर निवेश किया तो किसी ने बीमा में लगाया पैसा
भारतीय महिला निवेशकों पर 2021 में कराए गए एक सर्वे में उनकी निवेश की आदतों को जाना गया। इस सर्वे का मकसद अलग-अलग उम्र की महिलाओं की निवेश के तौर-तरीकों को समझना, उनके लक्ष्य को जानना था। निवेश प्लेटफॉर्म ग्रो की ओर से कराए गए इस सर्वे में 28,000 महिलाओं को चुना गया। इस सर्वे के मुताबिक, 18 फीसदी महिलाओं ने बीमा योजनाओं में निवेश किया है। वहीं, 10 लाख से ज्यादा की सालाना कमाई करने वाली महिलाओं में हर पांचवीं महिला ने टैक्स बचाने के लिए निवेश किया है। वित्तीय एक्सपर्ट जितेंद्र सोलंकी कहते हैं कि महिलाओं में सोने खरीदने के अलावा प्राॅपर्टी बनाने और क्रिप्टोकरंसी जैसे क्षेत्रों में निवेश के प्रति रुझान बढ़ा है। यह भारतीय बाजारों के लिए अच्छा संकेत है।

युवा महिलाओं ने फिक्स्ड डिपॉजिट के बजाय स्टॉक मार्केट में लगाया पैसा
18-25 साल की महिलाओं ने परंपरागत निवेशकों से फिक्स्ड डिपॉजिट समेत कई योजनाओं में निवेश करके तीन गुना ज्यादा जोखिम उठाया और अच्छे पैसे कमाए। यह दर्शाता है कि महिलाओं में जागरुकता बढ़ रही है और जोखिम लेने से नहीं हिचकिचा रही हैं।

जोखिम लेने से नहीं हिचकिचा रही हैं महिलाएं।
जोखिम लेने से नहीं हिचकिचा रही हैं महिलाएं।

पैसा डूबने के डर से कुछ महिलाएं नहीं करती हैं निवेश
सर्वे में यह भी खुलासा हुआ है कि करीब 2,000 महिलाओं ने निवेश में कोई रुचि नहीं दिखाई। इनमें से करीब आधी महिलाओं ने जानकारी के अभाव में ही निवेश नहीं किया था। वहीं, 32 फीसदी महिलाओं ने कहा कि उनके पास निवेश करने के लिए पर्याप्त बचत नहीं हो पाती है। वहीं, 13 फीसदी महिलाओं को यह डर लगता है कि कहीं उनका पैसा बाजार में न डूब जाए, इसलिए वह निवेश से बचती हैं।

कोरोना के दौरान ज्यादातर युवा महिलाओं ने किया डिजिटल इन्वेस्टमेंट
हालांकि, भारत के क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज और वॉलेट प्लेटफॉर्म बाईयूक्वाइन एक्सचेंज ने भी महिलाओं की निवेश को समझने के लिए एक सर्वे कराया है। इस सर्वे के मुताबिक, जिन महिलाओं को सोने में निवेश करना पसंद है, वे हाल के वर्षों में डिजिटल एसेट्स में अपना रुचि दिखा चुकी थीं। बाईयूक्वाइन ने खुलासा किया है कि बीते एक साल में कोरोना काल के दौरान क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज प्लेटफॉर्म पर महिला निवेशकों में काफी बढ़ोतरी हुई है। बाईयूक्वाइन पर ही कुल निवेशकों में करीब 5 फीसदी महिलाएं हैं। इनमें से करीब 36 फीसदी महिला निवेशक 25 से 34 साल के बीच की हैं।

सोने ने अब भी कायम रखी है अपनी बादशाहत
सर्वे के मुताबिक, सोने में निवेश करना अब भी फायदे का सौदा माना जा रहा है। हर उम्र की महिलाओं को सोने में निवेश करना औरों के मुकाबले ज्यादा मुफीद लगता है। सर्वे में शामिल कुल 25 फीसदी महिलाओं ने सोने में निवेश किया है, जबकि 40 फीसदी महिलाओं ने सोने में 10 लाख रुपये से ज्यादा निवेश कर अच्छी कमाई की है।

सोना खरीदना अब भी महिलाओं की पहली पसंद।
सोना खरीदना अब भी महिलाओं की पहली पसंद।

रीयल एस्टेट और क्रिप्टोकरंसी भी लुभा रहीं
सर्वे के मुताबिक, जिन महिलाओं की सालाना कमाई 30 लाख रुपए हैं, उन्होंने रीयल एस्टेट के कारोबार में किस्मत आजमाई है, जिसमें उन्हें अच्छी खासी कमाई होती रही है। यहीं नहीं इन महिलाओं की जैसे-जैसे कमाई बढ़ रही है, वैसे-वैसे उनमें संपत्तियां बनाने का चलन बढ़ रहा है। वहीं, इसके मुकाबले क्रिप्टोकरंसी में महज चार फीसदी महिलाओं ने हाथ आजमाया है। इनमें वे महिलाएं रही हैं, जिनकी सालाना कमाई 10 लाख रुपए से कम है।

घूमने-फिरने और पढ़ाई करने की चाह के चलते किया निवेश
ग्रो सर्वे के मुताबिक, अधिकतर महिलाएं ऐसी थीं, जिन्होंने निजी चाह जैसे घूमने-फिरने, पढ़ाई और घरेलू जरूरतों पर निवेश किया। कुछ अपने परिवार की मदद करने के लिए निवेश कर रही हैं। इन महिलाओं में से ज्यादातर की उम्र 18-25 के बीच की थी।

18-25 साल के बीच की अधिकतर महिलाएं ऐसी थीं, जिन्होंने घूमने-फिरने, पढ़ाई और घरेलू जरूरतों पर निवेश किया।
18-25 साल के बीच की अधिकतर महिलाएं ऐसी थीं, जिन्होंने घूमने-फिरने, पढ़ाई और घरेलू जरूरतों पर निवेश किया।

निवेश से अच्छा रिटर्न हासिल कर रहीं
अमेरिका में हाल ही में फिडेलिटी इनवेस्टमेंट, 2021 वुमन एंड इनवेस्टिंग स्टडी के अनुसार भी महिलाएं निवेश के जरिये अच्छा रिटर्न हासिल कर रही हैं। जनवरी, 2011 से लेकर दिसंबर, 2020 तक के 52 लाख खातों के सालाना आकलन के बाद यह पाया गया है कि अच्छा रिटर्न पाने के मामले में पुरुषों के मुकाबले महिलाएं ज्यादा हैं। वह पुरुषों की तरह धड़ाधड़ ट्रेडिंग में यकीन नहीं करती हैं और शेयरों की खरीद-बिक्री के लिए बेहतरीन स्ट्रैटजी बनाती हैं।

रिटायरमेंट के बाद की लाइफ के लिए निवेश का चलन बढ़ा
महिलाओं में रिटायरमेंट के बाद की जिंदगी खुशहाल तरीके से बिताने के लिए भी निवेश का चलन बढ़ रहा है। वह अपने निवेश का तकरीबन दो-तिहाई इसी पर खर्च कर रही हैं। पिछले दो तीन साल में इसमें 50 फीसदी का इजाफा हुआ है। अमेरिका में 12 महीने के दौरान हर 10 महिलाओं में से 9 महिलाओं ने पहले से ही प्लानिंग बनाकर निवेश के लिए पहल की।