• Hindi News
  • Women
  • Family Members Had Imprisoned, Faced Evil Eyes, Today They Are Earning Respect From Talent

इस सैलून में काम करने वालों ने करवाया सेक्स चेंज:घरवालों ने किया था कैद, बुरी नजरें झेलीं, आज टैलेंट से इज्जत कमा रहे हैं

नई दिल्लीएक महीने पहलेलेखक: ऐश्वर्या शर्मा
  • कॉपी लिंक

समाज में जीने के लिए उसी तरह ढलना पड़ता है। लेकिन अगर आप दूसरों से जुदा हों तो हर कदम पर आपको खुद को साबित करना पड़ता है। ऐसी ही कड़वी सच्चाई होती है ट्रांसजेंडर्स की। काबिल होने के बाद भी उन्हें स्कूल, कॉलेज, जॉब समेत कई जगहों पर दुतकारा जाता है। बुरी नजरों से देखा जाता है।

लेकिन आज हम आपको बता दे रहे हैं एक ऐसे सैलून के बारे में जहां ट्रांसजेंडर सिर उठाकर काम कर रहे हैं और इज्जत के साथ कमाई कर लोगों की तारीफ बटोर रहे हैं।

ट्रांसजेंडर्स की तकलीफ समझकर खोला सैलून

गाजियाबाद स्थित 'ला ब्यूटी एंड स्टाइल सैलून' के फाउंडर आर्यन पाशा खुद एक ट्रांसमैन हैं। वह खुद कई तकलीफों से गुजरे हैं, इसलिए उन्होंने LGBTQ कम्यूनिटी के लिए कुछ करने की ठानी। उन्होंने सितंबर 2021 में यह सैलून खोला। लेकिन इससे पहले उन्होंने ट्रांसजेंडर कम्यूनिटी के लोगों को ट्रेनिंग दिलवाई। पहले बैच में 5 ट्रांसमैन को ट्रेनिंग दी गई।

आर्यन ने बताया कि ट्रांसजेंडर्स के लिए सबसे बड़ी समस्या नौकरी होती है। लोग उन्हें जॉब नहीं देना चाहते क्योंकि समाज उन्हें अच्छी नजरों से नहीं देखता। वहीं, डॉक्युमेंट्स ना बनने की वजह से भी यह दिक्कत आती है। ऐसे में कई लोग डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं। उनके सैलून में 2 ट्रांसमैन और 1 ट्रांसवुमन काम कर रही हैं।

आइए आपको सैलून में काम करने वाले ट्रांसजेंडर्स से मिलवाते हैं।

आयुष ने 3 महीने ऑनलॉइन ट्रेनिंग लेकर सैलून में काम करना शुरू किया
आयुष ने 3 महीने ऑनलॉइन ट्रेनिंग लेकर सैलून में काम करना शुरू किया

घर वालों ने छुपाकर रखा, आज खुद की पहचान अच्छी लगती है

सुल्तानपुरी में रहने वाले आयुष काफी स्ट्रगल के बाद इस सैलून तक पहुंचे हैं। बचपन की रितु से जवान आयुष तक बनने के सफर में उनकी पहली लड़ाई खुद से शुरू हुई। उन्होंने बताया कि घरवाले उन्हें लड़कियों के कपड़े पहनाते लेकिन उन्हें लड़कों की तरह रहना पसंद था। बचपन में लड़कों के साथ खेलते तो पिता और भाई पीट दिया करते थे।

उन्होंने 10वीं तक पढ़ाई की है। वह आगे भी पढ़ना चाहते थे लेकिन घर वालों ने स्कूल छुड़वा दिया। उनका घर से बाहर निकलना भी मुश्किल होता था। कई लोगों ने उनका शोषण भी करने की कोशिश की। एक दिन उनके दोस्त ने सेक्स रीअसाइनमेंट ऑपरेशन के बारे में बताया। दोस्त भी ट्रांसमैन था। उन्होंने आर्यन पाशा के बारे में बताया। वह एक ग्रुप के जरिए उनसे कनेक्ट हुए। उसी ग्रुप पर पता चला कि आर्यन सैलून खोलने जा रहे हैं और ट्रेनिंग करवा रहे हैं। इसके बाद उन्होंने 3 महीने की ट्रेनिंग लेने के बाद सैलून में काम करना शुरू किया। उन्हें हेयर ट्रीटमेंट करना सबसे ज्यादा अच्छा लगता है।

सैलून में काम करने वाले मनु ने साल 2019 में शादी की।
सैलून में काम करने वाले मनु ने साल 2019 में शादी की।

‘पिछली जिंदगी याद नहीं करना चाहता’

23 साल के मनु ने कई साल तक सैलून में काम किया। बस फर्क यह था कि पहले वह लेडीज सैलून में लड़की के रूप में काम करती थे और अब ट्रांसमैन बनकर। वह कहते हैं कि उन्हें सैलून में काम करना पसंद है। लेकिन लोग उनके बारे में बहुत गलत सोचते थे। इससे परेशान होकर उन्होंने बीच में कपड़ों का काम भी शुरू किया लेकिन लोगों का व्यवहार नहीं बदला। उनके लिए सूट-सलवार पहनना, लंबे बालों को संवारना बहुत मुश्किल था। वह अपनी पिछली जिंदगी याद नहीं करना चाहते। सैलून में वह हेयर कलर करते हैं। उनके अनुसार आजकल वालियान कलर ट्रेंड में है। इसमें आधे बालों को कलर किया जाता है- यू या वी शेप में। आज उनकी अपनी अलग पहचान है।

गाजियाबाद में इस सैलून की शुरुआत 2021 में हुई
गाजियाबाद में इस सैलून की शुरुआत 2021 में हुई

कस्टमर काम की तारीफ करते हैं तो अच्छा लगता है

नन्द नगरी में रहने वाली 20 साल की आयुषी को स्कूल में कई लड़कों ने तंग किया। स्कूल में वह आयुष थीं। नम आंखों से उन्होंने कहा कि अतीत के बारे में सोचकर रोना आता है। रिश्तेदार घरवालों को कहते थे कि घर में किसे पाल रहे हो। और भी कई तरह की गलत-गलत बातें की जाती थीं। वह कहती हैं कि मैंने कई सैलून में काम किया है लेकिन यहां काम करने में खुशी मिलती है क्योंकि यहां सब मेरे जैसे हैं। मुझे सैलून का सारा काम आता है लेकिन मैं पेडीक्योर में एक्सपर्ट हूं। कई कस्टमर मुझे कह चुके हैं कि मैं काम बहुत अच्छा करती हूं।

खबरें और भी हैं...