• Hindi News
  • Women
  • Golden Opportunity To Become IAS, Only 30 Days Are Left For Preliminary Exam, Prepare Like This

करिअर दिशा:IAS बनने का सुनहरा अवसर, प्रारंभिक परीक्षा के लिए अब बचे हैं केवल 30 दिन, ऐसे तैयारी करना दिलाएगा कामयाबी

नई दिल्ली3 महीने पहलेलेखक: संजीव कुमार
  • कॉपी लिंक

इस बार 5 जून को सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा आयोजित होने जा रही है। आईएएस बनने के लिए संघ लोक सेवा आयोग यानी यूपीएससी हर साल सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है। हर साल लाखों युवा महज कुछ सीटों के लिए इस एग्जाम की तैयारी करते हैं। इस परीक्षा में सफलता का प्रतिशत बहुत ही कम है।

सिविल सेवा प्रिलिम्स एग्जाम 2022
सिविल सेवा प्रिलिम्स एग्जाम 2022

इस परीक्षा में वही सफल होता है जिसमें शैक्षणिक योग्यता के साथ ही अनुशासन और धैर्य हो। अगर आप भी इस बार आईएएस एग्जाम देने जा रही हैं तो इसके लिए जरूरी है कि अब शेष बचे 30 दिनों की रणनीति पर काम किया जाए। यहां कुछ ऐसे टिप्स दिए जा रहें है जो आपकी तैयारी को पुख्ता करने में मददगार साबित हो सकते हैं-

30 दिन की तैयारी में अपनाएं ये टिप्स

  • सही अप्रोच अपनाना सबसे अहम यानी UPSC सिलेबस के अनुसार टॉपिक्स पर फोकस बढ़ाएं।
  • ज्यादा सवाल पूछे जाने वाले विषयों पर बनाएं पकड़ जैसे-इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, राजव्यवस्था, साइंस एंड टेक और करेंट अफेयर्स।
  • कम से कम हर रोज एक टेस्ट सीरीज की प्रैक्टिस करें। इसके लिए ऑनलाइन मॉक टेस्ट का भी सहारा लिया जा सकता है।
  • हर टेस्ट देने के बाद एग्जामिनर द्वारा किए गए आपके आकलन को जरूर समझें और अपना आकलन खुद भी करती रहें।
  • प्रारंभिक परीक्षा में तथ्यों का बहुत बड़ा महत्व है। सही तथ्यों को अलग-अलग स्रोतों से जांच-परख कर याद करें।
  • प्रारंभिक परीक्षा में आसान, कम कठिन और कठिन प्रश्नों को मिलाकर प्रश्न-पत्र बनाया जाता है। परीक्षा के दौरान आसान प्रश्नों में से अगर कोई भी गलत होता है तो सिलेक्शन में पिछड़ने की आशंका बन जाती है।
  • आसान तथ्यों को भूल जाना आम बात है। अगर लगातार टेस्ट प्रैक्टिस करती रहेंगी तो इस तरह के तथ्यों को भूलने की समस्या से निजात मिल सकती है।
  • सिविल सेवा परीक्षा निकालने के लिए ये जरूरी है कि आप अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्र रहे।
  • रटने के साथ-साथ टॉपिक्स पर खुद की समझ और विश्लेषण क्षमता को विकसित करने पर भी जोर दें।
  • विश्लेषण क्षमता के लिए न्यूज अनालिसिस वाली खबरों को सुनना, पढ़ना और लिखना कारगर साबित होता है।