• Hindi News
  • Women
  • He Narrates The Story Of Atrocities To The Dead, Considers The Guru As A Husband, Breastfeeds To Make A Sister

किन्नर घराने में चार तरह के सदस्य:मुर्दे को सुनाते हैं जुल्मों की आपबीती, गुरु को मानते हैं पति, बहन बनाने को कराते हैं स्तनपान

नई दिल्ली8 दिन पहलेलेखक: दीप्ति मिश्रा
  • कॉपी लिंक
  • नए किन्नर के घराने में शामिल होने पर मनाया जाता है जश्न।
  • गुरु देता है- नया नाम, कपड़े, पैसे, शृंगार, गहने और गृहस्थी का सामान।
  • घरानों में दी जाती है- किन्नर भाषा, ताली, थाप और थिरकने की तालीम।
  • अरावन देवता से करते हैं शादी, गुरु के लिए रखते हैं करवाचौथ का व्रत।

मर्दाना शरीर और जनानी चाल। मेकअप से लिपे-पुते चेहरे। भारी भरकम ज्वेलरी। ताली पीटते। ढोलक की थाप पर थिरकते। सड़क पर कार के शीशे ठक-ठक करते। शादी ब्याह और नन्ही जान के आगमन पर बधाई गाते। आशीर्वाद देते लोग, जिन्हें किन्नर नाम से जाना जाता है। आखिर कौन हैं ये लोग? कहां से आते हैं? क्यों उनका जन्म एक कहानी और अंतिम विदाई एक पहेली है? प्राइड मंथ में पढ़िए, किन्नरों की जिंदगी, रीति-रिवाज, शादी, रिश्ते और अंतिम विदाई पर भास्कर वुमन की रिपोर्ट...

साहित्यकार और लेखक महेंद्र भीष्म बताते हैं कि हमारे समाज का ताना-बाना मर्द और औरत से मिलकर बना है, लेकिन एक तीसरा जेंडर भी इसी समाज का हिस्सा है, जिसे सभ्य समाज हिकारत भरी नजरों से देखता है। किन्नर भी आम बच्चों की तरह ही इस दुनिया में आते हैं, लेकिन बीतते वक्त के साथ शारीरिक बदलाव उन्हें हम सब से अलग बनाते हैं। बता दें कि महेंद्र भीष्म करीब ढाई दशक से किन्नर समुदाय से जुड़े हैं और किन्नर समुदाय पर 'किन्नर कथा' और 'मैं पायल' नाम से दो किताबें भी लिख चुके हैं। वर्तमान में महेंद्र भीष्म इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ में रजिस्ट्रार पद पर कार्यरत हैं।

घर से शुरू हो जाती है जुल्म-ओ-सितम की कहानी
महेंद्र भीष्म कहते हैं कि जब घर में किन्नर बच्चा पैदा होता है तो मां-बाप भी मुंह मोड़ लेते हैं। बच्चे से मारपीट करते हैं। इज्जत पर आंच न आए, इसलिए बच्चे को किन्नर समुदाय को सौंप देते हैं। कुछ माता-पिता अपने बच्चे को पढ़ा-लिखाकर काबिल बनाना चाहते हैं, लेकिन समाज बच्चे को इतना मजबूर कर देता है कि वह 15-16 साल की उम्र में तंग आकर खुद ही घर छोड़ देता है। देश की पहली किन्नर न्यायाधीश जोइता मंडल और ब्यूटी क्वीन नाज जोशी की जिंदगी इसका जीता जागता उदाहरण है।

अधूरा शरीर पूरा मन...
वे लोग, जिनके रिप्रोडक्टिव ऑर्गन पूरी तरह विकसित न हुए हों। पुरुष शरीर, लेकिन स्त्रियों सी छाती, चाल-ढाल और आवाज। स्त्री शरीर, लेकिन मूंछ आना, छाती न बढ़ना, यूटरस न होना आदि। जन्मजात किन्नर मन से स्त्री होते हैं। वे महिलाओं के साथ रहने में सहज महसूस करते हैं। उन्हें औरतों की तरह सजना संवरना रास आता है। किन्नरों की चार शाखाएं होती हैं- बुचरा, नीलिमा, मनसा और हंसा। बुचरा जन्मजात किन्नर होते हैं। नीलिमा स्वयं बने, मनसा स्वेच्छा से शामिल होते हैं। वहीं हंसा शारीरिक कमी या नपुंसकता के कारण बने हिजड़े हैं।

सात घराने, हजारों गद्दियां
जेएनयू की शोध छात्रा और लैंगिक विमर्श और 'यमदीप' की लेखिका हर्षिता द्विवेदी देश भर में रह रहे किन्नरों से मिलती हैं। उनके साथ बैठती हैं, समय गुजारती हैं। ताकि वे हंसते गाते चेहरों के पीछे का गहरे बादल से भी स्याह दर्द महसूस कर सकें। हर्षिता बताती हैं कि देश भर में किन्नरों के साथ सात घराने हैं। हजारों गद्दियां (एक क्षेत्र, जहां रहने वाले किन्नरों का एक प्रमुख होता है) हैं, जिनसे लाखों किन्नर जुड़े हैं। अब तक मैं सैकड़ों किन्नरों से मिल चुकी हूं। दर्द की जुबानी ढेरों कहानियां सुन चुकी हूं। किन्नर समुदाय में गुरु शिष्य परंपरा सबसे ऊपर होती है।

घराने में शामिल होने पर जश्न, 'शुद्धिकरण' है दर्दनाक
हर्षिता कहती हैं कि जब भी किसी घराने में नया किन्नर आता है तो उत्सव मनाया जाता है। दूसरे घरानों के गुरु और गद्दियों के प्रमुख आते हैं। खूब नाच गाना होता है। गुरु घराने में शामिल होने वाले किन्नर को नया नाम देते हैं। कपड़े, पैसे, गहने और गृहस्थी का कुछ सामान देते हैं। उसके बाद से किन्नर के लिए माता-पिता, पति और भाई-बहन और परिवार का मुखिया सब कुछ गुरु ही बन जाता है। किन्नर गुरु के नाम का सिंदूर लगाते हैं। करवाचौथ का व्रत भी रखते हैं। गुरु का परिवार के मुखिया की तरह सम्मान करते हैं।

लेखिका हर्षिता बताती हैं कि घराने में शामिल करने के दौरान जो पुरुष शरीर के किन्नर होते हैं, उनका बधियाकरण (प्राइवेट पार्ट रिमूव करना) किया जाता है, जिसे शुद्धिकरण कहा जाता है।

घरानों में दी जाती है भाषा, ताली, थाप और थिरकने की तालीम
दीक्षा मिलने के बाद घराने में किन्नरों की भाषा, नाच-गाना ताली और ढोलक बजाने की तालीम दी जाती है। फिर अनुभवी किन्नरों के साथ क्षेत्र में बधाई गाने भेज दिया जाता है। किन्नरों की जो कमाई होती है, उसमें से एक हिस्सा गद्दी या घराने को देना होता है।

कौन बनता है किन्नरों का गुरु?
हर्षिता के मुताबिक, घराने का गुरु पांच लोगों को वरीयता के आधार पर अपना उत्तराधिकारी घोषित करता है। गुरु के निधन के बाद इन पांच में से जो सबसे वरिष्ठ होता है, वह घराने का गुरु बनता है। किन्नर समुदाय के लिए गुरु की बात पत्थर की लकीर होती है।

हिजड़ों के कुछ नियम भी हैं-
एक घराने ने अपने यहां निकाल दिया तो दूसरा घराना अपने यहां नहीं रख सकता है। अगर किसी दूसरे घराने का हिजड़ा पसंद आ जाए तो गुरु उसकी मुंह मांगी कीमत चुका कर ही अपने घराने में ला सकता है, बहला-फुसलाकर नहीं। किन्नर समाज की सारी गोपनीयता को गोपनीय रखने की शपथ भी निभानी होती है।

अजीबोगरीब रिवाज है 'बहनापा'
महेंद्र भीष्म के मुताबिक, जब एक किन्नर दूसरी किन्नर से बहन का रिश्ता जोड़ती है तो दोनों एक-दूसरे को स्तनपान कराती हैं। इसका उम्र से कोई लेना-देना नहीं है। इस रिवाज को किन्नरों की भाषा में 'बहनापा' कहा जाता है।

कुनागम में किन्नर विवाहोत्सव के 18वें दिन अरावन देव की प्रतिमा को शहर में घुमाता किन्नर समुदाय और आम लोग। इसके बाद प्रतिमा का विसर्जन कर दिया जाता है। (फोटो- हर्षिता द्विवेदी)
कुनागम में किन्नर विवाहोत्सव के 18वें दिन अरावन देव की प्रतिमा को शहर में घुमाता किन्नर समुदाय और आम लोग। इसके बाद प्रतिमा का विसर्जन कर दिया जाता है। (फोटो- हर्षिता द्विवेदी)

एक दिन की शादी और फिर विधवा
महेंद्र भीष्म बताते हैं कि मैं ऐसे कई किन्नरों से मिला हूं, जिन्हें सामान्य पुरुषों से प्यार हो गया। लेकिन एक-दो को छोड़कर ज्यादातर को प्यार में धोखा ही मिला है। लोग इनका इस्तेमाल करते हैं और छोड़ देते हैं। साथ देने और प्यार निभाने वाले लोग कम ही होते हैं।

हर्षिता द्विवेदी बताती हैं, 'किन्नर अपनी धार्मिक मान्यता के मुताबिक हर साल शादी करते हैं। तमिलनाडु के विल्लुपुरम जिले में कुनागम गांव है, जहां तमिल नववर्ष की पहली पूर्णमासी से 18 दिन का किन्नर विवाहोत्सव शुरू होता है। यहां देशभर से हजारों किन्नर जुटते हैं। उत्सव के 17वें दिन किन्नर अपने आराध्य देव अरावन की मूर्ति संग ब्याह रचाते हैं। यह शादी सिर्फ एक रात के लिए होती है।

कुनागम में अरावन देव से ब्याच रचाने को तैयार किन्नर। परंपरा के मुताबिक, हर साल किन्नर अपने अराध्य अरावन देव से शादी करते हैं। (फोटो- हर्षिता द्विवेदी)
कुनागम में अरावन देव से ब्याच रचाने को तैयार किन्नर। परंपरा के मुताबिक, हर साल किन्नर अपने अराध्य अरावन देव से शादी करते हैं। (फोटो- हर्षिता द्विवेदी)

18वें दिन अरावन देव का एक विशाल पुतला पूरे शहर में गाजे-बाजे के साथ घुमाया जाता है। अंत में पुतले का अंतिम संस्कार कर दिया जाता है। उसके बाद तमाम किन्नर विधवा होने का स्वांग रचते हैं। अपनी चूड़ियां तोड़ते हैं। सिंदूर मिटाते हैं और शोक मनाते हैं।' इस परंपरा को साउथ और वेस्ट इंडिया वाले किन्नर बेहद गंभीरता से निभाते हैं।

अंतिम विदाई है पहेली
किन्नरों का अंतिम संस्कार अब भी एक पहेली बना हुआ है। इनके अंतिम संस्कार को लेकर तरह-तरह की धारणाएं बनी हुई हैं। साहित्यकार महेंद्र भीष्म कहते हैं कि जो किन्नर अपने परिवार से जुड़े हैं, उनका अंतिम संस्कार परिवार का ही कोई सदस्य अपनी धार्मिक रीति-रिवाज से कर देता है। वहीं जिसका कोई नहीं होता, उसका अंतिम संस्कार किन्नर ही करते हैं। ​​दफनाया जाएगा, समाधि दी जाएगी या फिर दाह संस्कार होगा, यह किन्नर के धर्म के मुताबिक होता है।

हर्षिता के मुताबिक, किन्नर का मरने के बाद दाह संस्कार नहीं किया जाता है, बल्कि दफनाया जाता है। दफनाते वक्त लिटाया नहीं जाता है, कब्र में खड़ा किया जाता है। दफनाने से पहले गुरु की ओर से चयनित पांच लोग अपनी आपबीती सुनाते हैं और मृतक की आत्मा को मुक्ति मिले, इसकी प्रार्थना करते हैं। उसके बाद दफनाते हैं।

कुनागम में अरावन देव की प्रतिमा के विसर्जित होने के बाद विधवा की वेशभूषा में एक किन्नर।(फोटो- हर्षिता द्विवेदी)
कुनागम में अरावन देव की प्रतिमा के विसर्जित होने के बाद विधवा की वेशभूषा में एक किन्नर।(फोटो- हर्षिता द्विवेदी)

अंतिम संस्कार होते हुए किसी ने देखा क्यों नहीं? इसके जवाब में हर्षिता कहती हैं कि दिल्ली के महरौली, गाजियाबाद समेत देश भर में किन्नरों के गिने-चुने शमशान घाट हैं। ज्यादातर जगहों पर इनके लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं है। ऐसे में किन्नर जहां रहते हैं, उसके आसपास ही शव को दफना देते हैं। लेकिन अब मकान पक्के हैं तो किन्नरों के करीबी या फिर मुंहबोले चाचा, काका, भाई सूर्यास्त के बाद शव को शमशान में ले जाकर दफना देते हैं। शव यात्रा में बहुत कम लोग होते हैं, यहां तक कि सारे किन्नर भी शामिल नहीं होते हैं। चप्पल-जूते मारने, पीटते हुए श्मशान ले जाने और गालियां देने वाली बातों में सच्चाई न के बराबर है।

'किन्नर' और 'हिजड़ा' शब्द पर जंग
आमतौर पर हिजड़ों को किन्नर, छक्का, कोती, खोजवा, थिरुनानगाई, अरावनी, ख्वाजा सरा और कोज्जा जैसे शब्दों से जाना जाता है। वहीं हिमाचल प्रदेश के किन्नोर जिले में रहने वाली जनजाति को 'किन्नर' या 'किन्नौरा' कहा जाता है। 1956 में भारतीय संविधान की अनुसूची में भी इस जनजाति को शामिल किया गया है। यह जनजाति हिजड़ों को किन्नर कहे जाने पर विरोध जताती आई है। उनका कहना है कि हिजड़ों को किन्नर बुलाना किन्नर जनजाति का अपमान है।

फोटो- हर्षिता द्विवेदी
फोटो- हर्षिता द्विवेदी

सवालों के घेरे में किन्नरों की आबादी
साल 2011 की जनगणना के मुताबिक, देश में करीब 48 लाख किन्नर हैं, जबकि वास्तविक में यह संख्या कहीं अधिक है। साल 2005 में इंडिया टूडे ने किन्नरों पर एक सर्वे कराया था, जिसके तहत दिल्ली में 2000 किन्नरों का मेडिकल चेकअप कराया गया। मेडिकल रिपोर्ट से पता चला कि 2000 में से सिर्फ 3 लोग ऐसे थे, जिन्हें किन्नर कहा जा सकता था। बाकी 1997 सिर्फ स्वभाव से किन्नर थे। यानी वे थे, जो छोटी-मोटी सर्जरी के बाद पूरी तरह ठीक हो सकते थे। इसके अलावा, गे और लेसबियन भी शामिल थे।

महेंद्र भीष्म कहते हैं कि इस समुदाय में पैसा, नशा और व्यभिचार की भरमार है। इसलिए जो लोग बेरोजगार हैं, समलैंगिक हैं, वे लोग भी स्त्री बनने के लिए सर्जरी करवा रहे हैं। महंगे-महंगे इंजेक्शन लगवाते हैं। इसलिए भी इनकी आबादी बढ़ गई है।

जून LGBT के लिए क्यों होता है खास:कितनी बड़ी है यह कम्युनिटी, हम सिर्फ ट्रांसजेंडर जानते हैं लेकिन बाकी L, G, Q, I क्या हैं?