• Hindi News
  • Women
  • If You Also Share Pictures Of Moment On Social Media Then Do Not Forget To Update Mobile.

सावधानी है जरूरी:अगर आप भी सोशल मीडिया पर करती हैं पल-पल की तस्वीरें साझा तो मोबाइल को अपडेट करना न भूलें

नई दिल्ली6 महीने पहलेलेखक: दीप्ति मिश्रा
  • कॉपी लिंक

सोशल मीडिया पर मुस्लिम महिलाओं की फोटो अपलोड कर उनकी नीलामी और आपत्तिजनक बातें लिखने का मामला नई साल में सामने आया है। दिल्ली साइबर थाने में केस दर्ज कर लिया गया है। पुलिस इसकी जांच में जुटी है। फेसबुक, इंस्टाग्राम, स्नैपचैट, ट्विटर और व्हाट्सएप जैसे प्लेटफॉर्म पर बड़ी संख्या में महिलाओं की मौजूदगी है। ऐसे में इन प्लेटफॉर्म्स को इस्तेमाल करने वाली महिलाओं को कुछ सावधानी बरतने की जरूरत है ताकि सोशल मीडिया पर उनकी प्राइवेसी बरकरार रहे। साथ ही निजी डाटा भी सुरक्षित रह सके।

हर 10 में से 9 लोग यूज कर रहे हैं सोशल मीडिया
दुनिया भर में सोशल मीडिया का क्रेज इस तरह बढ़ा है कि इसे इस्तेमाल करने वालों की संख्या न इस्तेमाल करने वालों से बहुत ज्यादा हो गई है, जबकि पहले स्थिति इसके उलट थी। डेटा रिपोर्टल के मुताबिक, दुनिया भर में सोशल मीडिया यूजर्स की संख्या 4.55 अरब से अधिक हो गई है, जो दुनिया की आबादी का करीब 58% है। यानी हर 10 में से 9 लोग सोशल मीडिया यूज कर रहे हैं। साल 2020 की तुलना में 2021 में 8% यूजर्स की संख्या बढ़ी है। सोशल मीडिया यूजर्स में महिलाओं की संख्या पुरुषों के मुकाबले अधिक है।

यूजर्स में महिलाओं की संख्या अधिक

सोशल मीडियापुरुषमहिलाएं
फेसबुक6375
इंस्टाग्राम3143
पिंटरेस्ट1542
स्नैपचैट2424
ट्विटर2421
लिंकडिन2924
यूट्यूब7868
व्हाट्सएप2119

सोर्स: ब्रॉन्डवॉच, वर्ल्डमीटर

कुछ सावधानियां भी हैं जरूरी

1. अनजान लोगों से न करें दोस्ती
आजकल साइबर क्रिमिनल्स ने सोशल मीडिया को ब्लैकमेलिंग का टूल बना लिया है। साइबर ठग सोशल मीडिया पर हर उम्र के लोगों को निशाना बना रहे हैं। पीड़ितों में सबसे ज्यादा संख्या महिलाओं की होती है। साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट दीपक कुमार द्विवेदी बताते हैं कि सोशल मीडिया पर अनजान लोगों से दोस्ती करने से बचें। ऐसे में न तो अनजान लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजें और न ही जल्दबाजी में उनकी रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करें। अगर किसी अनजान शख्स की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई है तो पहले उसकी प्रोफाइल को अच्छे से जांच परख लें ताकि समझ सकें वह कौन है और किस तरह का पर्सन है? उसके बाद ही फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करें।

2. पर्सनल मैसेज करने से बनाएं दूरी
द्विवेदी के मुताबिक, साइबर क्राइम के हर दिन सैकड़ों मामले आ रहे हैं। इंटरनेट की दुनिया में कौन फ्रॉड है और कौन जेनुअन यह जानना बेहद मुश्किल है। लोग फेक प्रोफाइल बनाकर मैसेज करने लगते हैं। इसलिए महिला हो या पुरुष अगर आप किसी व्यक्ति को अच्छी तरह नहीं जानती हैं, तो उसके साथ चैट न करें। अपनी निजी जानकारी तो बिल्कुल भी शेयर न करें।

3. निजी पलों की तस्वीरें शेयर करने से बचें
साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट के मुताबिक, कुछ महिलाएं पल-पल की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर करती हैं। ऐसी महिलाएं अपने बेहद निजी पलों की तस्वीरों को शेयर करने से बचें क्योंकि साइबर क्राइम करने वाले आपकी हर एक्टिविटी पर नजर रखते हैं, उसके बाद आपको शिकार बनाते हैं।

सोशल मीडिया पर ज्यादा वक्त बिताने वाली महिलाओं बरतें सावधानी। प्रतीकात्मक तस्वीर
सोशल मीडिया पर ज्यादा वक्त बिताने वाली महिलाओं बरतें सावधानी। प्रतीकात्मक तस्वीर

4. आपकी बात असरदार हो, उकसाने वाली नहीं
साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट के मुताबिक, फेसबुक हो या फिर ट्विटर सोशल मीडिया पर कुछ लिखते वक्त शब्दों के चयन में सावधानी बरतें क्योंकि आपका लिखा दूर तक जाता है और उससे लोग आपके प्रति एक राय बना लेते हैं। इसलिए जो भी लिखें, उसमें अच्छे और चुनिंदा शब्द यूज किए गए हों। किसी भी तरह के अश्लील या फिर किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले शब्दों का प्रयोग न करें। आपका लिखा या बोला हुआ ऐसा होना चाहिए जो लोगों पर असर छोड़े न कि उन्हें उकसाए या किसी तरह की ठेस पहुंचाए।

ऐसे करें अपनी प्रोफाइल सुरक्षित
दीपक कुमार द्विवेदी कहते हैं कि साइबर क्राइम से बचने के लिए अपने मोबाइल को अपडेट रखें। अननोन नंबर से आए लिंक पर क्लिक न करें। फेसबुक पर थर्ड पार्टी एप्स से सतर्क रहें। थर्ड पार्टी एप्स के साथ अपना डाटा शेयर न करें। प्रोफाइल पर प्राइवेसी लगाएं। अगर प्रोफाइल पर प्राइवेसी नहीं लगाई तो फोटो पोस्ट करते वक्त प्राइवेसी का खास ख्याल रखें। बीच-बीच में पासवर्ड बदलती रहें। अगर कोई महिला फ्रॉड या साइबर क्राइम की शिकार हो गई है तो आईटी एक्ट के तहत अपनी शिकायत दर्ज कराएं। यानी पुलिस से कानूनी मदद लें।

देश भर में बढ़ा साइबर क्राइम
नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट के मुताबिक, पूरे देश में साल 2020 में साइबर क्राइम के 50,035 मामले सामने आए हैं, जो कि 2019 की तुलना में करीब 12 फीसदी अधिक हैं। वहीं, इसकी तुलना में 2019 में 44,735 मामले और 2018 में 27,248 मामले सामने आए थे। 50,035 में से 30,142 मामले धोखाधड़ी, 3,293 यौन शोषण और 2,440 ब्लैकमेलिंग के जरिये वसूली के हैं।