HIV पेशेंट ने गे पार्टनर को धोखे में रखा, केस:अमेरिका में एड्स के 70% मामले समलैंगिक पुरुषों में

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वेल्स के पूर्व रग्बी खिलाड़ी गैरेथ थॉमस पर उनके मेल पार्टनर इयान बाउम ने गंभीर आरोप लगाया है। आरोप ये है कि थॉमस एचआईवी पॉजिटिव थे और ये बात उन्होंने इयान से छिपाई। इस वजह से इयान भी एचआईवी पॉजिटिव हो गए हैं।

अब इस पूरे मामले पर थॉमस ने कोर्ट में कहा है कि उन्होंने अपनी बीमारी की बात इयान को नहीं बताई क्योंकि इयान ने कभी उनसे पूछा ही नहीं। इयान ने अपने पार्टनर पर केस दर्ज कर लगभग डेढ़ करोड़ रुपए का हर्जाना मांगा है।

आमतौर पर ये माना जाता है कि एचआईवी महिला-पुरुषों के बीच असुरक्षित यौन संबंध बनाने से फैलता है।

इयान ने अपने आरोप में और क्या कहा है?

थॉमस और इयान साल 2013 से 2016 तक रिलेशनशिप में रहे। इयान का कहना है कि उन्होंने थॉमस को गोलियां खाते देखा था। जब उन्होंने उन गोलियों के बारे में थॉमस से पूछा तो थॉमस ने बताया कि विटामिन की गोलियां हैं। आरोप है कि थॉमस मेडिसिन के डिब्बे से लेबल भी हटा कर रखते थे। साल 2014 में इयान को पता चला कि थॉमस एचआईवी पॉजिटिव हैं। जब उन्होंने थॉमस की एक दवा को गूगल करके चेक किया। फिर अपना एचआईवी टेस्ट भी कराया। हालांकि थॉमस इस दावे को खारिज करते हुए कहते हैं कि उन्होंने 2014 के जनवरी में खुद इयान को बताया कि वो एचआईवी पॉजिटिव हैं।

एक पुरुष से दूसरे पुरुष में HIV फैलाने का कितना रिस्क?

एचआईवी फैलने का मुख्य कारण असुरक्षित यौन संबंध होता है। इसमें एनल और वेजाइनल दोनों तरह का संबंध शामिल है। एनल सेक्स को एचआईवी संक्रमण के लिए सबसे बड़ा रिस्क माना जाता है। इसके अलावा एचआईवी संक्रमित व्यक्ति को लगे सुई या किसी भी तरह का ड्रग्स जो सिरिंज के जरिए लिया जाता है, उससे भी एचआईवी फैल सकता है।

9 साल में समलैंगिक पुरुषों में 25 फीसदी बढ़ा संक्रमण

यूनएड्स की रिपोर्ट का कहना है कि साल 2010 से 2019 के बीच समलैंगिक पुरुषों में एचआईवी संक्रमण की दर 25 फीसदी बढ़ी है। इसमें गे और बाईसेक्शुअल दोनों ही पुरुष शामिल हैं।

अमेरिका में गे-बाइसेक्शुअल पुरुषों में सबसे ज्यादा एड्स

साल 2019 में सेंटर्स फॉर डिजीड कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) की आई एक रिपोर्ट की मानें तो अमेरिका में गे और बाईसेक्शुअल पुरुष एचआईवी से सबसे अधिक प्रभावित आबादी हैं। इसी आंकड़े के मुताबिक यूएस में एड्स संक्रमित लोगों में 69 फीसदी भागीदारी गे-बाइसेक्शुअल पुरुषों की है। और ऐसा बिना प्रोटेक्शन संबंध बनाने की वजह से है। सीडीसी ने सभी गे और बाईसेक्शुअल पुरुषों को साल में एक बार एचआईवी टेस्ट कराने की सलाह दी है।

पूरी दुनिया में क्या है HIV की सिचुएशन

वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन (WHO)के मुताबिक, इस बीमारी के शुरू होने से लेकर अब तक 8.42 करोड़ (84.2 मिलियन) लोग एचआईवी पॉजिटिव हुए हैं। जबकि चार करोड़ (40.1 मिलियन) करोड़ लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले साल के आखिर तक विश्व स्तर पर एचआईवी संक्रमण के साथ जी रहे लोगों की संख्या 3.84 करोड़ है। इस वक्त संक्रमण के मामले में इस्वातिनि देश टॉप पर है। यहां पर लगभग 27 फीसदी आबादी एचआईवी वायरस की चपेट में हैं।

साल 2020 में सर्वाधिक एचआईवी मामलों वाले शीर्ष 10 देश में भारत दूसरे नंबर पर था। यहां 23 लाख लोग एचआईवी संक्रमित थे। वहीं भारत में एचआईवी संक्रमण के मामले में महाराष्ट्र पहले नंबर पर है।

खबरें और भी हैं...