पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Women
  • Learn From Animals And Birds How To Stay Healthy, Keep The Body Active And Pay Attention To The Way Of Eating

सेहतमंद आदतें:पशु-पक्षियों से सीखें सेहतमंद रहने के तरीक़े, शरीर को एक्टिव रखें और खाने के तरीके पर ध्यान दें

डॉ मंजीता नाथ दास8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • हमारे आसपास मौजूद पशु-पक्षियों की आदतों और गतिविधियों पर ग़ौर करें तो इनसे स्वस्थ ज़िंदगी जीने के तरीके सीख सकते हैं। कैसे, पढ़िए इस लेख में।

खाने के नियम अपनाएं

पक्षी की तरह मनुष्य को भोजन आराम से चबाते हुए खाना चाहिए। अगर एक साथ बहुत सारा भोजन खाने की आदत है, तो इसे अभी बदल दीजिए। पक्षी जब भोजन या फल खाते हैं, तो आराम से और स्वाद लेकर खाते हैं। निवाले को धीरे-धीरे चबाते हैं। वे भोजन एक साथ यानी बहुत सारा ना खाकर दिन भर में थोड़ा-थोड़ा खाते हैं। यही वजह है कि वे स्वस्थ रहते हैं और फिट भी। विशेषज्ञ भी मानते हैं कि खाना थोड़ा-थोड़ा खाना चाहिए। तीन-चार सत्रों में खाएं, लेकिन थोड़ा खाएं। इससे पाचन ठीक रहता है और वज़न नियंत्रित।

शरीर की स्ट्रेचिंग

बिल्ली हो या श्वान नींद से जागते या उठते समय शरीर को खींचते यानी स्ट्रेच करते हैं। खुलकर जम्हाई लेते हैं और नाक से लेकर पूंछ तक शरीर को खींचते हैं। आपने उन्हें दिन भर में कई बार यह व्यायाम करते हुए देखा होगा। इस तरह स्ट्रेचिंग करना हम पशुओं से सीख सकते हैं। बिस्तर से उठते ही हाथों को सिर के ऊपर सीधा ले जाएं, आराम से पैरों और शरीर को ऊपर की तरफ़ कुछ सेंकड के लिए खींचें। इस व्यायाम को दिन में कई बार कर सकते हैं। इससे शरीर लचीला होगा, मांसपेशियां मज़बूत होंगी और हडि्डयों के जोड़ स्वस्थ रहेंगे।

जल्दी सोएं और जागें

हम बचपन से सुनते आए हैं कि ‘अर्ली टू बेड अर्ली टू राइज़’ यानी कि रात को जल्दी सोना और सुबह जल्दी उठना स्वस्थ बनाता है। पक्षी इस मंत्र को बेहतर समझते हैं। वे अंधेरा होने से पहले ही घोंसलों में चले जाते हैं और सुबह रोशनी होने से पहले उठ जाते हैं। जबकि हम इंसानों में कई लोग देर तक जागते हैं और देर तक सोते रहते हैं। हमें भी जल्दी सोने और सुबह जल्दी उठने की आदत डालनी चाहिए। यह मूल मंत्र शारीरिक और मानसिक समस्याओं को दूर रखता है। शरीर ऊर्जावान भी बना रहता है। जल्दी उठकर पक्षियों की तरह ताज़ी हवा भी लें।

शरीर को सक्रिय रखें

श्वान हमेशा टहलने और खेलने के लिए तैयार रहते हैं। अगर उनके साथ कोई ना भी खेले, तो वे अकेले दौड़ते हुए या किसी वस्तु के साथ खेलते हैं। यही उनकी सेहत और फिटनेस का कारण भी है। अगर स्वस्थ रहना है, तो उनकी तरह सक्रियता बनाए रखें। जीवनशैली में दौड़ने या किसी खेल को खेलने की आदत अपनाएं। उनकी तरह शरीर को सक्रिय रखने के साथ-साथ दिन में छोटी झपकी भी लें। यह सावधानी और दिमाग़ की उत्पादकता में वृद्धि करती हैं। सेहत अच्छी रहती है और दिमाग़ दोगुनी रफ्तार से काम करता है। काम बेहतर तरीक़े से कर पाते हैं।

खबरें और भी हैं...