• Hindi News
  • Women
  • Like The King Of Romance, She Wants Qualities In Her Husband

बीवी से वफादारी बनाती है शाहरुख को फेवरेट:रोमांस के बादशाह जैसी खूबियां अपने पति में चाहती हैं महिलाएं

नई दिल्ली7 दिन पहलेलेखक: निशा सिन्हा
  • कॉपी लिंक
  • यूनेस्को की ओर से शाहरुख को पिरामिड कोन मारनी अवार्ड मिला, शाहरुख इसे पाने वाले पहले भारतीय एक्टर हैं।
  • शाहरुख की गैर सरकारी संस्था मीर फाउंडेशन एसिड अटैक की शिकार महिलाओं की मदद करती है।

बॉलीवुड के कई सुपरस्टार्स की शादियां टूटी हैं। आमिर खान, अर्जुन रामपाल और ऋतिक रोशन इस लिस्ट में शामिल है, लेकिन शादी के 30 साल बाद भी शाहरुख की पत्नी गौरी खान के प्रति वफादारी महिलाओं के मन में उसकी इज्जत को बढ़ाती है। शाहरुख ने भी समय-समय पर महिलाओं के प्रति कुछ खास अंदाज में अपना आभार जताया है।

महिला फैंस में शाहरुख खान के लिए हमेशा से दीवानगी रही है।
महिला फैंस में शाहरुख खान के लिए हमेशा से दीवानगी रही है।

माधुरी के लिए बेस्ट को-स्टार
कई साल पहले BBC के एक शो में माधुरी दीक्षित से पूछा गया कि अपने को-स्टार्स आमिर, सलमान और शाहरुख में उनकी केमिस्ट्री किसके साथ बेस्ट है? माधुरी का जबाव था- शाहरुख खान। माधुरी दीक्षित ही नहीं, लाखों महिलाओं काे शाहरुख खान हमेशा से पसंद हैं।
फिल्म जर्नलिज्म में करीब 40 साल का अनुभव रखनेवाले वरिष्ठ पत्रकार शांतिस्वरूप त्रिपाठी बताते हैं कि शाहरुख अपनी फिल्मों में कभी भी किसी एक्ट्रेस के रोल पर हावी होने की कोशिश नहीं करते। उनके लिए यह नहीं कहा जा सकता है कि उन्होंने अपनी साथी महिला कलाकार का रोल कटवा दिया हो।

खूबियों की लंबी लिस्ट
वुमन मेंटल हेल्थ पर 20 साल लंबा अनुभव रखने वाली कंसल्टेंट साइकेट्रिस्ट रूमा भट्‌टाचार्या बताती हैं कि आज की महिला शाहरुख को तीन वजहों से पसंद करती है। उसका ‘सेंस ऑफ ह्यूमर’, ‘किंग ऑफ रोमांस’ की इमेज और ‘वन वुमन मैन’ की छवि शाहरुख को महिलाओं का फेवरेट बनाती है।

आज की महिलाओं को डर, अंजाम, दीवाना जैसी फिल्मों के सिरफिरे आशिक का रोल निभा चुके शाहरुख में एक ठहराव नजर आता है, जो फिल्म में उनकी भूमिकाओं के साथ-साथ निजी जिंदगी में भी देखने को मिलता है। फिल्म डियर जिंदगी में उनके कैरेक्टर की गहराई को महिलाओं ने बहुत सराहा है।

शाहरुख को वुमन पावर में यकीन
सभी जानते हैं कि शाहरुख एक सेल्फ मेड मैन है। जब शाहरुख टीनएजर थे, तो उनके पिता चल बसे। जब शाहरुख 25 साल के हुए, तो उनकी मां नहीं रही। इन सबके बावजूद इंडस्ट्री में ‘आउटसाइडर’ शाहरुख ने बॉलीवुड में ऊंचा मुकाम पाया, जिसके लिए सभी स्टार किड्स तरसते हैं।

उनकी पहली फिल्म दिल आशना है कि निर्देशक हेमामालिनी थीं। शाहरुख के होम प्रोडक्शन रेड चिली एंटरटेनमेंट की पहली फिल्म ओम शांति ओम बनी तो इसे डायरेक्ट करने के लिए फराह खान को चुना गया।

अमिताभ बच्चन के बाद सबसे ज्यादा भीड़ शाहरुख के बंगले के बाहर होती है।
अमिताभ बच्चन के बाद सबसे ज्यादा भीड़ शाहरुख के बंगले के बाहर होती है।

महिलाओं का करते हैं सम्मान
साल 2013 में इंटरनेशनल वुमन्स डे के मौके पर शाहरुख ने ठाना कि उनकी फिल्मों की क्रेडिट्स में एक्ट्रेस का नाम पहले आएगा। फिल्म चेन्नई एक्सप्रेस से इसकी शुरुआत हुई। इस मूवी के क्रेडिट में दीपिका पादुकोण का नाम सबसे पहले आया।

महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों को देखते हुए ,एक चाय कंपनी की ‘जागो रे’ कैंपेन ने शाहरुख खान के साथ मिलकर इनिशिएटिव लिया। इस मौके पर उन्होंने कहा, 'मेरी मां के अलावा मेरे साथ काम करने वाली सारी महिलाएं मेरी लिए सम्मानीय है।'

दूसरे देशों की महिलाओं के भी हैं अजीज
अगस्त 2021 में कराए गए ग्लोबल टैलेंट डिमांड सर्वे में शाहरुख खान टॉप पर रहे। सॉफ्टवेयर कंपनी पैरट एनालिटिक्स की ओर से हुए इस सर्वेक्षण में दुनियाभर के ऑडियंस में उनकी डिमांड सबसे ज्यादा देखी गई। कैरियर के शुरुआती दिनों से शाहरुख खान को जानने वाले शांतिस्वरूप त्रिपाठी बताते हैं कि जिन देशों में महिलाओं के ऊपर ढेर सारी बंदिशें थी, वहां शाहरुख खूब पसंद किए गए। शाहरुख एक ऐसे इंसान के रूप में लोकप्रिय होने लगे थे, जो महिलाओं की इज्जत करता हो।

उनकी फिल्म दिलवाले दुल्हिनया ले जाएंगे में उनका राज का किरदार अपने प्यार सिमरन के लिए उसके परिवार का दिल जीने की हर मुमकिन कोशिश करता है। फिल्म परदेस में भी यह दिखाया गया कि अदाकारा से प्यार करने के बावजूद वह उस पर जबरदस्ती हक नहीं जताता। इस फिल्म में वे एक प्रेमी से ज्यादा संरक्षक के रूप में नजर आते हैं।

महिलाओं को शाहरुख खान की बॉडी लैंग्वेज और उनके शब्दों के जरिए झलकता प्यार सबसे अच्छा लगता है, क्योंकि उसमें मर्दों वाला ईगो नजर नहीं आता है।

द कंप्लीट मैन की इमेज
हर महिला को शाहरुख खान की आंखों से टपकता प्यार अपने लिए महसूस होता है, क्योंकि वह उसके मन का अकेलापन भरता है। साइकेट्रिस्ट रूमा भट्‌टाचार्या कहती हैं कि उनकी आंखों में भावनाओं का भंडार है, इसमें हर महिला खुद को तलाशती है। फिल्म जर्नलिस्ट कहते हैं कि शाहरुख की छवि को कूल बनाने में उनकी पत्नी गौरी खान का भी बहुत बड़ा हाथ है।

शाहरुख के बर्थडे पर किंग खान के रंग में डूबी दुबई की बुर्ज खलीफा बिल्डिंग।
शाहरुख के बर्थडे पर किंग खान के रंग में डूबी दुबई की बुर्ज खलीफा बिल्डिंग।

शाहरुख की फैमिली मैन की इमेज के पीछे उन विज्ञापनों का भी हाथ हैं, जिसमें वह गौरी खान के साथ नजर आते हैं जैसे एलजी, डी डेकोर। दोनों एक साथ कई मैगजीन के कवर पर भी नजर आए हैं। शाहरुख खान की फैन बिहार की दीपशिखा चौधरी का कहना हैं कि मेरी अपनी हसबैंड से इस बात पर झड़प हो जाती है कि मैं शाहरुख खान की फिल्मों के चैनल बदल देती हूं।

बनारस की होममेकर अनुराधा सिंह टीनएज से ही अपना बर्थडे न मना कर शाहरुख का बर्थडे मनाती है। यह पूछे जाने पर कि उनके हसबैंड रंजीत सिंह का उनके स्टार प्रेम पर क्या रिएक्शन होता है, वह मुस्करा कर कहती हैं कि हसबैंड को यह तसल्ली है कि मैं कहां जाऊंगी।

बच्चों और महिलाओं के लिए शाहरुख का प्यार
अपनी मां की याद में शाहरुख ने मुंबई के नानावटी अस्पताल में कैंसर पीड़ित बच्चों के लिए स्पेशल वार्ड भी बनवाया है। यूनेस्को की ओर से शाहरुख को पिरामिड कोन मारनी अवार्ड मिल चुका है। शाहरुख इसे पाने वाले पहले भारतीय एक्टर हैं।

बच्चों और महिलाओं के लिए काम किए जाने के कारण किंग खान को वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की ओर से भी सम्मानित किया जा चुका है। शाहरुख की गैर सरकारी संस्था मीर फाउंडेशन एसिड अटैक की शिकार महिलाओं की मदद करती है।

फोटो सौजन्य : इंस्टाग्राम

खबरें और भी हैं...