• Hindi News
  • Women
  • Most Children Were Born In Corona lockdown In India, Due To Lack Of Sunlight, Children's Height Is Affected, Mother Will Also Be Sick

प्रेग्नेंसी में बेबी बंप पर पड़नी चाहिए सनलाइट:भारत में कोरोना-लॉकडाउन में पैदा हुए थे सबसे ज्यादा बच्चे, धूप न मिलने से बच्चों की हाइट पर पड़ता है असर, मां भी रहेगी बीमार

नई दिल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फोटो सौजन्य: Pixabay - Dainik Bhaskar
फोटो सौजन्य: Pixabay
  • अगर शरीर में विटामिन डी कमी रहेगी फिर कैल्शियम लेने का कोई फायदा नहीं
  • प्रेग्नेंट वुमन में विटामिन-D की कमी से थकावट और दर्द की समस्या होती है

प्रेग्नेंट वुमन को लेकर उमेओ यूनिवर्सिटी, स्वीडन की एक अहम रिसर्च सामने आई है। इस रिपोर्ट में ये कहा गया है प्रेंग्नेसी के दौरान महिलाओं के बेबी बंप पर सूरज की रोशनी पड़ना मां के साथ ही बच्चे के लिए बहुत जरूरी है। इसका बच्चे के दिमाग पर काफी अच्छा असर होता है।

कोविड काल में भारत में जन्मे सबसे ज्यादा बच्चे?

पिछले साल यूनिसेफ की तरफ से प्रकाशित एक रिपोर्ट में बताया गया था कि कोरोना काल में दौरान दुनिया भर में 116 मिलियन बच्चों का जन्म होना है। इसमें 20.1 मिलियन यानी कि दो करोड़ बच्चों के साथ भारत पहले नंबर पर रहेगा। 13.5 मिलियन के साथ दूसरे नंबर पर चीन और तीसरे नंबर पर नाइजीरिया था। यह आंकड़ा हर देश के स्वास्थ्य मंत्रालय से लिया गया था, जिसमें इस दौरान वहां प्रेग्नेंट रही महिलाओं को शामिल किया गया था। यूनिसेफ ने अपनी रिपोर्ट में इस बात पर भी जोर दिया था कि लॉकडाउन में पैदा होने वाले बच्चों के साथ उनकी मांओं को भी स्वास्थ्य समस्याओं से दो-चार रहना पड़ेगा।

भारत में लगा था काफी सख्त लॉकडाउन

भारत उन देशों में शामिल रहा है जहां कोरोना ने सबसे ज्यादा लोगों को अपना शिकार बनाया। इसकी वजह से भारत में काफी सख्त लॉकडाउन भी लगाया गया था। कोरोना की वैक्सीन काफी समय बाद आई थी। प्रेग्नेंट महिलाओं को वैक्सीन लगेगी या नहीं, ये कंफ्यूजन भी काफी देर बाद क्लियर हुई। कोरोना के समय खराब इम्यूनिटी वाले के अलावा प्रेग्नेंट वुमन भी हाई रिस्क पर थीं। इस वजह से उनका बाहर निकलना एकदम ही बंद था। ना तो वो खुली हवा में जा सकती थीं। ना ही वॉक पर। उन्हें सुबह की सूरज की रोशनी भी नहीं मिल पाई। और ये सारी ही एक्टिविटी किसी भी प्रेंग्नेंट वुमन के लिए बहुत ही जरूरी माना जाता है।

बच्चों की हाइट रुक जाएगी, दर्द में रहेगी मां

गुडगांव के सीके बिड़ला और डेफोडिल हॉस्पिटल में विजिटिंग डॉक्टर प्रिंयका सप्रा का कहना है कि प्रेग्नेंसी के दौरान सनलाइट बहुत ही जरूरी होती है। शरीर में ठीक से कैल्शियम एब्जॉर्ब हो इसके लिए विटामिन डी जरूरी है। विटामिन डी कमी रहेगी फिर कैल्शियम लेने का कोई फायदा नहीं मिलता है। जब ये सही से होगा तभी बच्चे की हड्डियां विकसित हो पाएंगी। जिन महिलाओं को सूर्य की रोशनी ठीक से नहीं मिल पाती, उन्हें बाद में दर्द की शिकायत, हरदम थकावट महसूस होती रहती है।

खबरें और भी हैं...