• Hindi News
  • Women
  • Nationalist Party's Sting In North Ireland Election, Rebel Father's Daughter Banned Blood Donation Of Bisexuals

समलैंगिकों से चिढ़ने वाली आयरन लेडी:उत्तरी-आयरलैंड चुनाव में राष्ट्रवादी पार्टी का डंका, विद्रोही पिता की बेटी ने बाईसेक्सुअल के ब्लड-डोनेशन पर लगाई थी रोक

बेलफास्ट3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तरी आयरलैंड विधानसभा चुनाव में पहली बार आयरिश राष्ट्रवादी पार्टी सिन फैन ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है। खास बात यह है कि पार्टी की प्रेसिडेंट और वाइस प्रेसिडेंट दोनों ही महिला हैं। पहली राष्ट्रवादी नेता के तौर पर इतिहास रचने वाली सिन फैन की वाइस प्रेसिडेंट मिशेल ओ नील ने जीत के बाद कहा कि यह वास्तविक बदलाव का समय है। हेल्थ मिनिस्टर रहते हुए ओ नील ने समलैंगिकों और बाईसेक्सुअल के ब्लड-डोनेशन रोक लगाई थी।

उत्तरी आयरलैंड विधानसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत के साथ ही मिशेल ओ नील के पहली मंत्री बनने का रास्ता तय हो गया। 45 वर्षीय ओ नील ने कहा कि यह एक पीढ़ी का चुनाव है। इस ऐतिहासिक जीत का मतलब है कि वास्तविक परिवर्तन का समय आ गया है। हमारी पार्टी सभी के लिए कड़ी मेहनत करेगी। उन्होंने आगे कहा, ''लोगों की मांग है कि अगले हफ्ते एक कार्यकारी गठित की जाए यह राज्य हम सभी का है और हम सब एक साथ हैं।''

यूनाइटेड आयरलैंड और महंगाई को बनाया था मुद्दा
सिन फैन पार्टी ने चुनाव प्रचार के दौरान पांच साल के भीतर यूनाइटेड आयरलैंड का वादा किया था। साथ ही महंगाई के कारण लोगों को हो रही परेशानियों का मुद्दा बनाया था। पार्टी की जीत के साथ ही आइरिश रिपब्लिकन आर्मी से जुड़कर ब्रिटिश शासन से आजादी के लिए संघर्ष तेज होगा।

सिन फैन पार्टी की वाइस प्रेसिडेंट मिशेल ओ नील। स्वास्थ्य मंत्री बनते ही 8 दिन के भीतर उन्होंने समलैंगिक और बाइसेक्सुअल लोगों के रक्तदान करने पर हमेशा के लिए पाबंदी लगाने का ऐलान किया।
सिन फैन पार्टी की वाइस प्रेसिडेंट मिशेल ओ नील। स्वास्थ्य मंत्री बनते ही 8 दिन के भीतर उन्होंने समलैंगिक और बाइसेक्सुअल लोगों के रक्तदान करने पर हमेशा के लिए पाबंदी लगाने का ऐलान किया।

मिशेल ओ नील ने एकजुट होकर काम करने की अपील की
ऐतिहासिक जीत के बाद माघेराफेल्ट में दिए गए अपने भाषण में ओ नील ने कहा,''मतदाता चाहते हैं कि स्वास्थ्य व्यवस्था और महंगाई जैसे रोजमर्रा के मुद्दों को हल करने के लिए काम करें। इसलिए सोमवार को हम सबको एकजुट होना होगा ताकि कार्यकारिणी बहाल करने, लोगों को रोजगार देने, स्वास्थ्य व्यवस्था सुधारने और महंगाई पर लगाम लगाने जैसे मुद्दों को सुलझाने के लिए काम शुरू किया जा सके। लोग अब और इंतजार नहीं कर सकते हैं। हम सभी को एक साथ मिलकर काम करना होगा।''

साझेदारी की राह नहीं है आसान
साल 1921 प्रोटेस्टेंट-मेजोरिटी वाले राज्य के तौर उत्तरी आयरलैंड की स्थापना होने के बाद यह पहला मौका है, जब सिन फैन बेलफास्ट में मंत्री पद की हकदार है। अब तक 90 में से 47 सीटों पर गिनती हुई है। इनमें 18 सैन फैन को मिली हैं। दो दशक से सबसे बड़ी पार्टी रही डेमोक्रेटिक यूनियनिस्ट पार्टी (डीपीयू) 12 सीटों पर है। हालांकि, दोनों पार्टियों के बीच साझेदारी होती है या नहीं, यह देखना होगा। विधानसभा में सिन फैन की जीत से राजनीतिक गतिरोध पैदा होने की संभावना नजर आ रही है। बोरिस जॉनसन के ब्रेग्जिट समझौते को उलटने वाले प्रस्ताव को डेमोक्रेटिक यूनियनिस्ट पार्टी खारिज कर चुकी है।

कौन हैं मिशेल ओ नील?
मिशेल ओ नील के पिता ब्रेंडन डोरिस एक IRA कैदी थे, जो कई साल जेल में बंद रहे। उनके आयरिश उत्तरी सहायता समिति के अध्यक्ष थे, जिन्होंने अमेरिका में IRA के लिए धन जुटाया। गुड फ्राइडे समझौता के ओ नील ने 21 साल की उम्र सिन फैन जॉइन की थी। उस वक्त वह एक बच्चे की मां थीं। 2005 तक उन्होंने सांसद फ्रांसी मोलॉय के लिए काम किया। 2007 विधानसभा चुनाव में वह मिड अल्स्टर का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुनी गईं। साल 2010 में डुंगनोन और साउथ टाइरोन की पहली महिला मेयर बनीं। 2011 के विधानसभा चुनाव के बाद उन्होंने कृषि और ग्रामीण विकास मंत्री पद संभाला। साल 2016 में स्वास्थ्य मंत्री बनीं। साल 2017 डिप्टी फर्स्ट मिनिस्टर मार्टिन मैकगिनीज ने इस्तीफा दे दिया। इसके बाद ओ नील को सिन फैन में 'पार्टी लीडर इन द नॉर्थ' नियुक्त किया गया।

खबरें और भी हैं...