• Hindi News
  • Women
  • Son Should Not Be Labeled As Illegitimate, So Mother Told The Truth Later

बिन ब्याही मां के बेटे हैं ऑस्ट्रेलिया के नए PM:बेटे पर नाजायज का ठप्पा न लगे, इसलिए मां ने बाद में बताई हकीकत

सिडनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ऑस्ट्रेलिया में आम चुनाव में लेबर पार्टी के नेता एंथनी अल्बनीज ने प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन को मात दी है। अब एंथनी ऑस्ट्रेलिया के नए प्रधानमंत्री होंगे। सिंगल पैरेंट चाइल्ड और अपनी मां के इकलौते बेटे एंथनी को बचपन में बताया कि उनके पिता कार एक्सीडेंट में नहीं रहे, लेकिन मंत्री बनने के बाद पिता जिंदा मिले। एंथनी का जीवन आर्थिक तंगी में गुजरा। मां ने दिव्यांग पेंशन से पालन-पोषण किया। महज 12 साल की उम्र में आंदोलन से जुड़ गए। पढ़िए एंथनी अल्बनीज फर्श से लेकर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री बनने तक की कहानी...

लेबर पार्टी के नेता एंथनी अल्बनीज को उनके अपने 'अल्बो' नाम से बुलाते हैं। एंथनी का जन्म 2 मार्च, 1963 को ऑस्ट्रेलिया के शहर कैंपरडॉउन के रूढ़िवादी कैथोलिक ईसाई परिवार में हुआ। एंथनी ने जब से होश संभाला सिर्फ मां को ही अपने आसपास देखा, पिता को नहीं। जब उन्होंने पिता के बारे में पूछा तो आयरिश-ऑस्ट्रेलियाई मूल की मां ने बताया कि शादी के कुछ समय बाद ही उनके इटली मूल के पिता कार्लो अल्बनीज की कार दुर्घटना में मौत हो गई थी।

तंगी में बीता बचपन, बदहाल दिनों में मां ने बताया सच
59 वर्षीय एंथनी अल्बनीज का बचपन बेहद तंगहाली में बीता। उनकी मां दिव्यांग थीं, जिसके चलते उन्हें पेंशन मिलती थी। इससे एंथनी का पालन-पोषण हुआ। वह अपने परिवार से स्कूल जाने वाले पहले व्यक्ति हैं। एंथनी जब 14 साल के हुए थे, तब सरकार ने उनकी मां को पेंशन के लिए अयोग्य घोषित कर दिया। एंथनी और उनकी मां के हालत और बद से बदतर हो गए। इन्हीं बदहाली के दिनों में एक रोज मां ने एंथनी को बताया कि उनके पिता की मौत नहीं हुई है, बल्कि वे जिंदा हैं।

बेटे पर नाजायज का ठप्पा न लगे, इसलिए मां ने बोला झूठ
दरअसल, उनकी मां और पिता की कभी शादी ही नहीं हुई। मां ने एंथनी को बताया कि उनके पिता कार्लो क्रूज शिप के मैनेजर थे। साल 1962 में एक विदेश यात्रा के दौरान दोनों की मुलाकात हुई। सात महीने तक एशिया और ब्रिटेन की यात्रा पर रहने के बाद उनकी मां वापस सिडनी आ गईं। इस दौरान, वे चार महीने की गर्भवती हो चुकी थीं। बेटे एंथनी पर नाजायज होने का ठप्पा न लगे, इसलिए उन्होंने ये बात छिपाई। इस बात की जिक्र एंथोनी ने अपनी बॉयोग्राफी में भी किया है।

पिता, पत्नी और बेटे के साथ प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज। एंथनी और उनकी पत्नी कार्मेल टेबट ने शादी के करीब 19 साल बाद जनवरी, 2019 में अलग होने का ऐलान किया था।
पिता, पत्नी और बेटे के साथ प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज। एंथनी और उनकी पत्नी कार्मेल टेबट ने शादी के करीब 19 साल बाद जनवरी, 2019 में अलग होने का ऐलान किया था।

मंत्री बनने के बाद पिता से हुई मुलाकात
मां की भावनाओं की कद्र करते हुए अल्बनीज ने उनके जिंदा रहते कभी पिता को खोजने की कोशिश नहीं की। साल 2002 में मां का निधन हो गया। इसके बाद वह अपने पिता से मिले। ऑस्ट्रेलिया के परिवहन और इंफ्रास्ट्रक्चर मंत्री बनने के बाद एंथनी एक बैठक में शामिल होने इटली गए। यहां पहली बार उनकी अपने पिता से उनके गृहनगर बैरेटा में मुलाकात हुई। बाप-बेटा एक-दूसरे से मिलकर बेहद खुश हुए।

12 साल की उम्र किया आंदोलन
ऑस्ट्रेलिया के नए प्रधानमंत्री एंथनी ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत महज 12 साल की उम्र में ही कर दी थी। एंथनी और उनकी मां सरकारी मकान में किराए पर रहती थीं। स्थानीय परिषद ने सरकारी मकानों को किराया बढ़ा दिया था। लोग बढ़ा हुआ किराया भरने के तैयार नहीं थे, लेकिन कोई भी आगे आकर इसका विरोध करने के लिए भी तैयार नहीं था। परिषद सभी मकानों को बेचने की योजना बना रही थी। उस वक्त परिषद के फैसले के खिलाफ एंथनी ने आंदोलन खड़ा कर दिया था। आखिरकार परिषद को अपनी योजना रद्द करनी पड़ी थी। 22 साल की उम्र में वह लेबर पार्टी से जुड़ चुके थे।

पिछले साल बाल-बाल बची जान
पिछले साल जनवरी में एंथनी की कार सिडनी के पास टकरा गई थी। एंथनी की छोटी टोयोटा कार में 17 साल के एक लड़के ने अपनी रेंजर रोवर को टक्कर मार दी थी। कार हालत देखकर लग रहा था कि इस हादसे में एंथनी का बचना मुश्किल है, लेकिन एक रात अस्पताल में रहने के बाद में घर लौट आए। उन्होने पत्रकारों को बताया, उन्हें खुद भी नहीं लग रहा था कि वे बच पाएंगे।

प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज के साथ गर्लफ्रेंड जोडी हेडन। एंथनी ऑस्ट्रेलिया के पहले तलाकशुदा और सातवें कैथोलिक पीएम हैं।
प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज के साथ गर्लफ्रेंड जोडी हेडन। एंथनी ऑस्ट्रेलिया के पहले तलाकशुदा और सातवें कैथोलिक पीएम हैं।

साल 2013 में भी संभाली देश की कमान
ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री चुनाव में छह प्रत्याशी पीएम पद की रेस में थे, लेकिन मुख्य मुकाबला मॉरिसन और एंथनी के बीच था। आखिरकार सबको पछाड़कर वह प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंच गए हैं। इसी के साथ वह देश के 31वें प्रधानमंत्री होंगे। हालांकि, यह पहली बार नहीं है, जब एंथनी प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। इससे पहले साल 2013 में प्रधानमंत्री केविन रुड के नेतृत्व वाली सरकार में कार्यवाहक पीएम के रूप में कार्यभार संभाला था। जीत के भाषण में उन्होंने अपनी मां का शुक्रिया अदा किया।

पर्यावरण को लेकर प्रतिबद्ध, QUAD की बैठक में होंगे शामिल
एंथनी अल्बनीज ऑस्ट्रेलिया में अलग-अलग संस्कृतियों को बढ़ावा देने के पक्षधर हैं। उन्होंने जलवायु परिवर्तन पर गंभीरता से काम करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की है। स्कॉट मॉरिसन ने ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन का लक्ष्य साल 2030 तक 28% कम करने का लक्ष्य रखा था, जिसे एंथनी ने 43% कर दिया है। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के हाल में हुए आम चुनाव में पर्यावरण परिवर्तन बड़ा मुद्दा था। जंगलों में लगी आग और बाढ़ को लेकर मॉरिसन सरकार घिरती रही थी।

भारत यात्रा पर आ चुके हैं एंथनी
ऑस्ट्रेलिया के निर्वाचित प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज दो बार- साल 1991 और साल 2018 में भारत यात्रा पर आ चुके हैं। भारत में ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त बैरी ओ फैरेल एओ ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। एंथनी ने साल 2018 में भारत आए संसदीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया था। इस दौरान उन्होंने आर्थिक, रणनीतिक संबंधों को गहरा करने की प्रतिबद्धता जताई थी।

टोक्यो में होगी पीएम मोदी से मुलाकात
24 मई को क्वाड (QUAD) की बैठक होनी है। ऑस्ट्रेलिया के निर्वाचित प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज अब क्वाड की बैठक में शामिल होने टोक्यो जाएंगे। यहां वे भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय वार्ता भी करेंगे।

खबरें और भी हैं...