• Hindi News
  • Women
  • The Conversation With The Machine Leaked, The Company Sent The Engineer Who Made It On Leave

इंसानों से बात करने वाले चैटबॉट से डरी गूगल:मशीन से बातचीत लीक, कंपनी ने इसे बनाने वाले इंजीनियर को छुट्टी पर भेजा

वॉशिंगटन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गूगल की एक नई तकनीक इंसानों पर भारी पड़ती दिख रही है। चैटबॉट और उसे बनाने वाले इंजीनियर के बीच की बातचीत लीक हुई है। इस बातचीत में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस ‘चैटबॉट’ को इंसानों की तरह अपनी भावनाएं जाहिर करते हुए देखा जा सकता है। कई बार वह गुस्सा भी होता है। उसने खुद को बनाने वाले इंजीनियर को यहां तक कहा कि उसके बारे में कोई भी फैसला उससे पूछ कर ही लिया जाए। गूगल ने अब इसे बनाने वाले इंजीनियर को छुट्टी पर भेज दिया है।

इंसान के अकेलेपन को दूर करने वाला था लैम्डा

गूगल ने चैटबॉट ​​​​​लैम्डा को इस तरह से डिजाइन किया था, ताकि लोग अकेले में उससे दोस्त की तरह बात कर करें और अपनी भावनाएं जाहिर कर सकें। इसके लिए गूगल ने उसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक से जोड़ा था। लैम्डा का पूरा नाम लैंग्वेज मॉडल और डायलॉग एप्लिकेशन (Lamda) है। गूगल के सीनियर इंजीनियर ब्लेक लेमोइन इसे बना रहे थे। अपने ब्लॉग में लेमोइन ने बताया कि लैम्डा एक 'प्यारा-सा बच्चा' है।

मशीन से डरी गूगल, इंजीनियर की छुट्टी

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के इस युग में एक तकनीक से डरना थोड़ अटपटा जरूर लगता है, लेकिन बिलकुल ऐसा ही हुआ है। चैटबॉट लैम्डा के दिमाग से गूगल डर गई है। शुरुआत में इसे ज्यादा से ज्यादा इंसान जैसा बनाने की कोशिश की जा रही थी। इसमें इंसानी सोच डालने के लिए गूगल के इंजीनियर्स कड़ी मेहनत कर रहे थे, लेकिन जब लैम्डा सचमुच ही इंसानों की तरह सोचने लगा तो गूगल ने इसे बनाने वाले इंजीनियर को छुट्टी पर भेज दिया।

तो क्या सच होगी हॉलीवुड फिल्मों की कहानी

हॉलीवुड फिल्मों में इंसानों पर रोबोट्स के हावी हो जाने की कहानी खूब दिखाई गई है। लैम्डा वाले मसले के बाद लोग एक बार फिर इस पर बात कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर कई लोग कह रहे हैं कि जल्दी ही रोबोट्स इंसानों से आगे निकल जाएंगे।

हालांकि, कई जानकारों का यह भी कहना है कि लैम्डा के बारे में अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी। गूगल की ओर से भी कंपनी के प्रवक्ता ब्रायन गेब्रियल ने बीबीसी को बताया कि ‘अभी लैम्डा के इंसानों की तरह सोचने के बारे में कोई ठोस प्रमाण नहीं है’, लेकिन जिस तरह से इसे बनाने वाले इंजीनियर को अचानक छुट्टी पर भेजा गया है, काफी लोग गूगल की इस बात पर यकीन नहीं कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...