• Hindi News
  • Women
  • These Women, Including Avani Lakhera, Bilkis Bano, Made A Different Identity In The Country And The World

नवरात्रि पर मिलें पांच प्रभावशाली महिलाओं से:अवनी लखेरा, बिलकिस बानो समेत इन महिलाओं ने देश और दुनिया में बनाई अलग पहचान

नई दिल्ली10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दादी बिलकिस बानो - Dainik Bhaskar
दादी बिलकिस बानो
  • टाइम मैगजीन ने दादी बिलकिस को दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में चुना
  • फाल्गुनी ने 25 साल का करियर छोड़ नायका डॉट कॉम की शुरुआत की

आज से त्योहारों का सीजन शुरु हो चुका है। अगले 10 दिन पूरे देश में नवरात्र और दुर्गा पूजा की धूम रहेगी। उसके बाद दीवाली फिर छठ पूजा। इन त्योहारों के बीच एक शब्द जो अक्सर इस्तेमाल होता है- वो है नारी शक्ति। आज आपको मिलवा रहे उन महिलाओं से जो बीते कुछ समय में सही मायने में नारी शक्ति की प्रतीक बनकर सामने आई हैं।

अवनी लेखरा

अवनी भारतीय पैरालिंपियन हैं। इस बार टोक्यो में आयोजित पैरालिंपिक 2020 में 10 मीटर एयर राइफल स्टैडिंग की गोल्ड विजेता रहीं। और ये कीर्तिमान करने वाली भारत की पहली महिला भी। लेकिन इनका भी सफर आसान नहीं रहा है। 19 साल की अवनी जयपुर की रहने वाली हैं। अवनी हमेशा से दिव्यांग नहीं थीं। साल 2012 में एक सड़क दुर्घटना में रीड की हड्डी में चोट लगने के कारण खड़ी नहीं हो पाईं। काफी समय तक खुद को दुनिया से दूर रखा। लेकिन धीरे-धीरे मां-बाप के इनका आत्मविश्वास जगाया और नतीजा सबके सामने है।

अवनी लेखरा
अवनी लेखरा

बिलकिस बानो

नागरिकता संशोधन कानून का विरोध देशभर में हुआ। दिल्ली के शाहीन बाग में इसके खिलाफ 101 दिन का लंबा प्रोटेस्ट चला। प्रोटेस्ट में 'शाहीन बाग दादी' का एक ग्रुप भी शामिल था। उनमें किसी की उम्र 90 थी तो किसी की 80 से। उसी प्रोटेस्ट का चेहरा बनीं दादी बिलकिस बानो। 82 साल की बिलकिस दादी की कर्मठता की चर्चा देश ही नहीं विदेश तक हुई। 23 सितंबर 2020 में टाइम मैगजीन ने दादी को दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में शामिल किया। वहीं बीबीसी ने बिलकिस दादी को दुनिया की 100 प्रभावशाली महिला की लिस्ट में जगह दी।

बिलकिस बानो
बिलकिस बानो

हरभजन कौर

94 साल की हरभजन कौर चंडीगढ़ में रहती हैं। जब 90 साल की हुई तो स्टार्टअप करने का सोचा। और उम्र के इस पड़ाव पर घर का बना लड्डू और आचार बेचने का काम शुरू किया। 2016 में चंडीगढ़ के ही लोकल मार्केट में बेसन का लड्डू बेचना शुरू किया। लेकिन इनकी मेहनत और जज्बे को पहचान मिली लॉकडाउन के दौरान। उस दौरान इनको इंस्टाग्राम के जरिए ऑर्डर मिलने लगा और रातों-रात ये मशहूर हो गईं। आज इनके पास अपने नाम की शॉप है। जहां ये मिठाई, आचार, चटनी के अलावा घर की बनी हुई और भी चीजें बेचती हैं। बिजनेस टायकून आनंद मंहिद्रा इनकी मेहनत के कायल हैं। उन्होंने ट्विटर पर इनके लिए 'Entrepreneur of the year'लिखकर इनकी जर्नी की तारीफ की।

हरभजन कौर
हरभजन कौर

फाल्गुनी नायर

भला अपना जमा जमाया करियर कौन छोड़ना चाहता है। लेकिन जो लोग अपनी लाइफ में किसी भी तरह का रिस्क ले लेते हैं, उनका ही जिक्र बाद में होता है। फाल्गुनी ने कुछ ऐसा ही किया। ये फाइनेंस की दुनिया में काम करती थीं। 25 साल का लंबा करियर था। लेकिन एक दिन अपने सपने को पूरा करने के लिए जमा-जमाया करियर छोड़ दिया। और शुरू की ब्यूटी प्रोडक्ट से जुड़ी वेबसाइट नायका डॉट कॉम। 2012 में शुरू की और दो साल पूरा होने के पहले ही ये देश की नबंर वन वेबसाइट बन गई। आज इस वेबसाइट पर ब्यूटी प्रोडक्ट के अलाव बहुत कुछ मिलता है। 2500 से ज्यादा ब्रांड मौजूद हैं।

फाल्गुनी नायर
फाल्गुनी नायर

लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी

फिलहाल ये किन्नर अखाड़ा की आचार्य महामंडलेश्वर हैं। इसके अलावा लक्ष्मी की पहचान भरतनाट्यम डांसर, बॉलीवुड एक्ट्रेस, कोरियोग्राफर, मोटिवेशनल स्पीकर की भी है। ये ट्रांसजेंडर समुदाय का प्रतिनिधित्व करती हैं और उनके हक के लिए आवाज भी उठाती हैं।

लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी
लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी

लेकिन किन्नर की पहचान से आचार्य महामंडलेश्वर तक का सफर आसान नहीं था। लक्ष्मी ने बहुत ज्यादा स्ट्रगल देखा है और काफी हार नहीं मानीं। जिसका नतीजा है कि वो जब बोलती हैं तो उन्हें सुना जाता है।

खबरें और भी हैं...