• Hindi News
  • Women
  • Uddhav Used To Say 'being Persecuted'; Now Changed My Side, Can Go With BJP

शिवसेना की महिला MLA के पीछे पड़ी थीं जांच एजेंसियां:उद्धव कहते थे 'सताया जा रहा है'; अब बदल लिया पाला, बीजेपी के साथ जा सकती हैं

मुंबई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

महाराष्ट्र में सियासी खींचतान जारी है। शिव सेना के 35 से ज्यादा बागी विधायकों के साथ एकनाथ शिंदे गुवाहाटी में जमे हैं। गुवाहाटी में एकनाथ शिंदे गुट के साथ शिवसेना की महिला विधायक यामिनी जाधव भी मौजूद हैं। यामिनी और उनके पति पिछले कुछ समय से केंद्रीय जांच एजेंसियों के रडार पर थे। यही कारण है कि यामिनी के इस फैसले पर कई लोग चुटकी ले रहे हैं और उन पर डर के मारे शिव सेना का साथ छोड़ने के आरोप लगा रहे हैं।

पति भी राजनीति में हैं, ठाकरे परिवार के करीबी माने जाते थे

भायखला से शिव सेना विधायक यामिनी जाधव के पति भी राजनीति में हैं। यशवंत जाधव चार बार BMC के स्टैंडिंग कमेटी के चेयरमैन रह चुके हैं। उन्हें ठाकरे परिवार का करीबी समझा जाता रहा है। पिछले कुछ समय से पति-पत्नी पर केंद्रीय जांच एजेंसियों का शिकंजा कसता जा रहा था। इसको लेकर ED ने उन्हें समन भी जारी किया था।

घर पर पड़ी थी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की रेड, संपत्ति हुई थी कुर्क

यामिनी और यशवंत जाधव के मझगांव स्थित घर पर आयकर विभाग ने छापा मारा था। 4 दिनों तक चली जांच में उसके घर के कई महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद किए गए। साथ ही आयकर विभाग ने उनकी पांच करोड़ से अधिक कीमत की संपत्ति कुर्क कर ली थी। जाधव पति-पत्नी पर आरोप थे कि उन्होंने हवाला के पैसों से दर्जनों फ्लैट्स खरीदे। इन संपत्तियों की अनुमानित कीमत लगभग 130 करोड़ रुपए है।

उद्धव कहते थे-फंसाया जा रहा है, अब उनके ही खिलाफ खड़ी हुईं

जब यामिनी और यशवंत जाधव के खिलाफ केंद्रीय जांच एजेंसियों का शिकंजा कसता जा रहा था। तब शिव-सेना उनके बचाव में आई थी। उद्धव समेत पार्टी के सभी बड़े नेताओं ने जाधव दंपति को राजनीतिक कारणों से फंसाना का आरोप लगाया था। लेकिन अब यामिनी जाधव को उद्धव के नेतृत्व पर भरोसा नहीं है।

मुस्लिम बहुल सीट से जीता था चुनाव, AIMIM के वारिस पठान को हराया था

52 साल की यामिनी जाधव ने 2019 में मुस्लिम बहुल विधानसभा क्षेत्र भायखला से चुनाव जीता था। खास बात यह थी कि कड़े मुकाबले में उन्होंने AIMIM के वारिस पठान को हराया था। यामिनी इससे पहले BMC की पार्षद थीं। वो यहां चाइल्ड एंड वुमन वेलफेयर कमेटी की चेयरमैन भी रह चुकी हैं।