• Hindi News
  • Women
  • Used To Practice Climbing The Stairs Of The Park, The Next Goal Is To Reach The Top

10 साल की बच्ची बिना ट्रेनिंग पहुंची एवरेस्ट बेस कैंप:पार्क की सीढ़ियों पर चढ़कर करती थी प्रैक्टिस, अगला लक्ष्य टॉप पर पहुंचना

मुंबईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुंबई की एक 10 साल की बच्ची ने एवरेस्ट के बेस कैंप तक की मुश्किल चढ़ाई पूरी की है। 5वीं क्लास की बच्ची रिदम ममानिया ने बिना किसी ट्रेनिंग के यह कारनामा कर दिखाया है। इसके साथ ही उसका नाम इस 5,364 मीटर के मुश्किल सफर को पूरा करने वाले सबसे सबसे कम उम्र के पर्वातारोहियों में शामिल हो गया है। रिदम का अगला लक्ष्य एवरेस्ट तक पहुंचने का है।

सीढ़ियां चढ़ कर करती थी प्रैक्टिस

रिदम ने पर्वतारोहण की कोई ट्रेनिंग नहीं ली है। उसने मुंबई में शास्त्री गार्डन पार्क की सीढ़ियों पर चढ़ कर ट्रैकिंग की प्रैक्टिस की थी। इसी प्रैक्टिस के दम पर अब उसने एवरेस्ट बेस कैंप को फ़तह कर लिया है। रिदम ने वापसी भी पैदल ही की, जबकि उससे उम्र में काफी बड़े और अनुभवी पर्वातरोहियों ने हेलिकॉप्टर के सहारे उतरने का फैसला किया था।

मम्मी-पापा थे सफर के साथी

रिदम अपनी मम्मी उर्मी और पापा हर्ष के साथ इस मुश्किल सफर पर गई थी। 11 दिनों का यह अभियान सब ने माइनस 10 डिग्री टेम्परेचर में तय किया। इस दौरान रिदम ने कभी थकान की शिकायत नहीं की। इस से पहले भी रिदम दूध सागर जैसी मुश्किल ट्रैकिंग कर चुकी है। रिदम की मां उर्मी का कहना है कि वो पांच साल की उम्र से ही ट्रैकिंग कर रही है।

रिदम को स्केटिंग का है शौक

10 साल की रिदम को स्केटिंग का शौक है। इस सफर के बाद रिदम ने बताया कि ट्रैकिंग और स्केटिंग से उसे प्यार है। बेस कैंप के इस सफर में रिदम ने पर्यावरण का भी पूरा ख़याल रखा। उसने अपने साथ ले गए सभी प्लास्टिक सामानों को वापस नीचे लाया। रिदम ने अपना सारा कचरा काठमांडू जाकर डिस्पोज किया।

खबरें और भी हैं...