• Hindi News
  • Women
  • While Selecting The College, Focus On Better Education, Safety, Accommodation And Placements Instead Of Tempting Advertisements.

करिअर दिशा:कॉलेज का सिलेक्शन करते वक्त, लुभावने विज्ञापनों की बजाय बेहतर पढ़ाई, सेफ्टी, अकोमोडेशन और प्लेसमेंट पर करें गौर

नई दिल्ली6 महीने पहलेलेखक: संजीव कुमार
  • कॉपी लिंक

12वीं पास कर लेने के बाद हर स्टूडेंट का सबसे अहम डिसिजन होता है कि उसे किस कॉलेज में एडमिशन लेना है। अक्सर लुभावने विज्ञापन, सुनी-सुनाई बातों और दूसरों की देखा-देखी बच्चे और पेरेंट्स गलत कॉलेज का चुनाव कर लेते हैं जो स्टूडेंट के करिअर के लिए बुरा साबित होता है।

किसी संस्थान की मौजूदा रैंकिंग एक जरूरी जानकारी है, लेकिन सिर्फ इसी आधार पर दाखिले का फैसला नहीं करना चाहिए।
किसी संस्थान की मौजूदा रैंकिंग एक जरूरी जानकारी है, लेकिन सिर्फ इसी आधार पर दाखिले का फैसला नहीं करना चाहिए।

कॉलेज स्टूडेंट होने के नाते आप जो सबसे बड़ी भूल कर सकते हैं, वह है ऐप्लाई करने से पहले पर्याप्त रिसर्च नहीं करना। लेकिन यह कैसे तय होगा कि आपका सिलेक्शन ठीक है या नहीं।

हर स्टूडेंट अलग होता है, उसकी सोच, प्राथमिकता और व्यक्तित्व सब कुछ अलग होता है।
हर स्टूडेंट अलग होता है, उसकी सोच, प्राथमिकता और व्यक्तित्व सब कुछ अलग होता है।

याद रखिए, इस बात की कोई गारंटी नहीं कि जिस कॉलेज में आप प्रवेश लेते हैं, उसकी रैंकिंग आपको सफलता दिलाएगी। एक्सपर्ट यह भी कहते हैं कि स्टूडेंट और पेरेंट्स को ध्यान रखना चाहिए कि कॉलेज तलाश करने की प्रक्रिया में अधिक ध्यान स्टूडेंट की जरूरत, उसकी योग्यता और कमजोरियों पर देना चाहिए।

कॉलेज सिलेक्ट करते समय ये समझना जरूरी

  • पूरी तरह से पता करें कि जिस कॉलेज या यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले रहे हैं वो मान्यता प्राप्त है या नहीं।
  • कॉलेज में एडमिशन का कट ऑफ प्रतिशत।
  • कॉलेज में स्टूडेंट की संख्या और उनके बैकग्राउंड के बारे में समझें।
  • कॉलेज की वेबसाइट के अलावा उसकी सोशल मीडिया प्रजेंस पर भी ध्यान दें, जहां से आपको पता चलेगा कि वहां के स्टू्डेंट किन चीजों से खुश या नाखुश हैं।
  • रहने के इंतजाम क्या हैं- क्या ये मुख्य तौर पर आवासीय या नियमित आने-जाने वालों का कैंपस है।
  • फैकल्टी की विस्तृत पड़ताल करें, योग्य शिक्षकों के बिना बात नहीं बनेगी।
  • मौजूदा स्टूडेंट और हाल ही में ग्रेजुएट हुए लोगों से बातचीत जरूर करें, इसमें पूर्व स्टूडेंट के टेस्टिमोनियल और इंटरनेट पर मौजूद स्टूडेंट फोरम बेहद मददगार होते हैं।
  • पिछले 5 वर्षों का प्लेसमैंट रिकॉर्ड और इंटर्नशिप देने वाली कंपनियों की लिस्ट की जानकारी हासिल करें।
  • कैंपस के बारे में पता करें, हो सके तो खुद जाकर या वर्चुअल टूर की मदद से जानकारी लें।
  • कॉलेज में स्टडी मटेरियल, हॉस्टल, सुरक्षा, खानपान, ट्रांसपोर्टेशन और रिसर्च वगैरह की सुविधाएं किस प्रकार की हैं, यह भी देखना जरूरी है कि कॉलेज किस क्षेत्र में है।